--Advertisement--

राजस्थान के बांसवाड़ा में बर्बरता; अस्पताल में पिता व दो बेटों को सरियों से 4 मिनट में मार डाला

घात लगाकर बैठे थे दो युवक, एक बाद में पहुंचा सांसें थमने तक रॉड से पीटा

Dainik Bhaskar

Sep 02, 2018, 06:22 AM IST
बांसवाड़ा. हमला करते आरोपी। मह बांसवाड़ा. हमला करते आरोपी। मह

पड़ोसियों के विवाद को समुदायों का बना दिया, कई जगह तोड़फोड़, इंटरनेट बंद

वारदात के बाद आरोपी फरार

बांसवाड़ा. बांसवाड़ा के एमजी अस्पताल परिसर में शनिवार सुबह बर्बरतापूर्ण वारदात को अंजाम दिया गया। अपने बुजुर्ग पिता का मेडिकल कराने आए दो बेटों पर पड़ोस में रहने वाले तीन युवकों ने रॉड से हमला कर दिया। तीनों पिता-पुत्राें को तब तक पीटा गया जब तक उनकी सांसें नहीं थम गईं। तीनों को चाकू भी मारे गए।

विवाद पांच फीट के रास्ते को लेकर था। तीनों आरोपी युवक महज चार मिनट में वारदात को अंजाम देकर फरार हो गए। मौके पर मौजूद लोग तमाशबीन बने रहे। उधर, वारदात के बाद अफवाहों का दौर चल पड़ा और चंद मिनटों में बाजार और स्कूल बंद हो गए। उत्पातियों ने पालारोड, नई आबादी और कलेक्ट्रेट चौराहे के पास दुकानों में तोड़फोड़ और लूटपाट भी की। सोशल साइट्स पर अफवाहें फैलने से दोपहर 2 बजे बाद इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई। वारदात में 65 वर्षीय शब्बीर मोहम्मद और उनके बेटे शरीफ (40) व शाहिद (35) की जान गई। मृतक शब्बीर के तीसरे बेटे शाबिर अहमद की रिपोर्ट पर पुलिस ने पन्नालाल सरगड़ा समेत कुछ जनों के खिलाफ नामजद केस दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार इंदिरा कॉलोनी निवासी सेवानिवृत्त एलडीसी शब्बीर मोहम्मद और पन्नालाल सरगड़ा के परिवार के बीच लंबे समय से 5 फीट के रास्ते को लेकर विवाद चल रहा था। शुक्रवार को दोनों पक्षों में मारपीट हुई थी। शनिवार सुबह करीब 10:30 बजे शब्बीर मेडिकल कराने अपने बेटे शाहिद और शरीफ के साथ एमजी अस्पताल में जननी वार्ड की तरफ से जा रहे थे। तभी हमला हुआ।

तीनों कुछ समझ पाते, कार सवार रॉड लेकर टूट पड़े : वार्ड के सामने पहले से ही स्कूटी लेकर 2 हमलावर घात लगाए बैठे थे। जैसे ही पिता-पुत्र उनके नजदीक पहुंचे, उन्होंने स्कूटी उनके आगे लाकर मारपीट शुरू कर दी। तीनों कुछ समझ पाते इससे पहले ही एक सफेद कार वहां आई और तेजी से एक युवक उसमें से रॉड लेकर बाहर निकला और पिता-पुत्र पर टूट पड़ा। रॉड से उनके सिर पर ताबड़तोड़ वार किए गए। हमलावरों के सिर पर इतना खून सवार था कि तीनों के नीचे गिरने के बाद भी वे नहीं रुके और कोई हलचल नहीं होने के बाद भी रॉड से उन पर वार करते रहे। इससे तीनों के सिर और शरीर के अन्य अंग बुरी तरह क्षत-विक्षत हो गए। वारदात के बाद मृतकों के परिजन आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने तक शव नहीं लेने पर अड़ गए। समझाइश का दौर चला, लेकिन लोग नहीं माने। देर रात तक शव मोर्चरी में ही रखे हुए थे। आरोपियों का पूरा परिवार घर पर ताला लगाकर फरार हो गया। पुलिस ने उनकी तलाश में कई जगह दबिश दी, लेकिन देर रात तक कुछ हाथ नहीं लगा।

सैकड़ों लोग थे, लेकिन बचाने के लिए कोई आगे नहीं आया : वारदात जननी वार्ड के समीप हुई। अमूमन इस वार्ड में प्रसूताओं के परिजन और रिश्तेदारों की काफी चहल-पहल रहती है। घटना के समय भी सैकड़ों लोगों की चहल-पहल थी। लेकिन कोई आगे नहीं आया। यही कारण रहा कि हत्यारे चंद मिनटों में वारदात को अंजाम देकर फरार भी हो गए।

दुकानों में तोड़फोड़ व लूटपाट, बाजार बंद : वारदात के बाद शहर में कई तरह की अफवाहें चल पड़ी। पाला रोड पर 4-5 नकाबपोश बाइक पर आए और मस्जिद के सामने कपड़े की दुकान के पत्थर मारकर कांच फोड़ दिए। पीड़ित दुकानदार चंदू टेलर ने बताया कि उत्पाती नकदी भी लूट ले गए। मोबाइल की दुकान में तोड़फोड़ की गई। शहर में अफवाएं फैलने से एक के बाद एक बाजार बंद होने लगे। कलेक्ट्रेट तिराहे पर भी कुछ लोग जमा हो गए और सड़क जाम करने की कोशिश की। हालांकि, पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया। बाद में गुस्साई भीड़ ने कलेक्ट्रेट के सामने एक बाइक शोरूम में कार्यरत युवक से मारपीट की।

4 मिनट में 3 निर्मम हत्याएं

10:36 बजे : शब्बीर बेटों के साथ मोर्चरी मार्ग से अस्पताल भवन की ओर जा रहा था।
10:37 बजे : गायनिक ओपीडी के बाहर पहुंचे तो स्कूटी सवार दो युवकों ने हमला कर दिया।
10:38 बजे : कैंटीन के पीछे वाले मार्ग से कार से युवक आया, उसने भी हमला किया।
10:39 बजे : स्कूटी सवार दोनों युवक मोर्चरी और ड्रग स्टोर से होते हुए भाग निकले।
10:40 बजे : कार सवार युवक भी घटनास्थल से कुछ उठाकर कार में बैठा और कैंटीन के पीछे वाले मार्ग से भाग निकला।

धार्मिक, समुदायों का विवाद नहीं, यह पड़ोसियों की रंजिश

इस वारदात का किसी धर्म, समुदाय से कोई लेना-देना नहीं है। यह पड़ोसियों की आपसी रंजिश है। असामाजिक ताकतें इसे अलग ही रंग देने के लिए अफवाह फैला रही हैं। भास्कर अपील करता है कि इन पर ध्यान नहीं दिया जाए।

X
बांसवाड़ा. हमला करते आरोपी। महबांसवाड़ा. हमला करते आरोपी। मह
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..