Hindi News »Rajasthan »Bundi» बच्चों की सुरक्षा के लिए यातायात संयोजक होगा जिम्मेदार

बच्चों की सुरक्षा के लिए यातायात संयोजक होगा जिम्मेदार

बूंदी| परिवहन विभाग एवं सड़क सुरक्षा समिति के संयुक्त दल ने सेंट पॉल सीनियर सैंकडरी स्कूल में विद्यार्थियों व...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 02:10 AM IST

बूंदी| परिवहन विभाग एवं सड़क सुरक्षा समिति के संयुक्त दल ने सेंट पॉल सीनियर सैंकडरी स्कूल में विद्यार्थियों व प्रधानाचार्य को सड़क सुरक्षा नियमों दी जानकारी दी। साथ ही बाल वाहिनी में स्कूल जाने वाले बच्चों की जिंदगी को सुरक्षित करने के लिए नियमों की पालना करने के निर्देश दिए। अधिकारियों ने कहा कि बाल वाहिनी के संचालन को लेकर सुप्रीम कोर्ट की ओर से जारी निर्देशों की सख्ती से पालना की जाए। लापरवाही करने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

जिला परिवहन अधिकारी धर्मपाल आसीवाल ने प्रधानाचार्य को बच्चों को लाने-ले जाने के लिए उपयोग में आने वाली बाल वाहिनियों के संचालन के लिए यातायात संयोजक की नियुक्ति को सुनिश्चित करने के लिए कहा। उन्होंने निर्देश दिए कि यातायात संयोजक स्कूल में आने वाले वाहनों की बैठक क्षमता एवं वाहन चालक एवं परिचालक के व्यवहार पर नजर रखेगा। आसीवाल ने कहा कि बच्चों से किसी भी प्रकार का अभद्र व्यवहार या यात्रा के दौरान कोई असुविधा नहीं हो यह भी स्कूल प्रबंधन ही सुनिश्चित करें। बच्चों की सुरक्षा का दायित्व संयोजक का होगा। उन्होंने कहा कि वाहनों में स्कूल के निर्धारित परिसर से सुरक्षित चढ़ाने व उतारने का उतरदायित्व भी यातायात संयोजक का होगा।

सख्ती

बाल वाहिनी मामले में संस्था प्रधानों की बैठक में परिवहन अधिकारी ने दी चेतावनी

बूंदी. स्कूल प्रबंधन को बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के निर्देश देते डीटीओ।

चालक को 5 साल का अनुभव हो

बालवाहिनी योजना के तहत संचालित वाहनों की बैठक क्षमता सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय अनुसार निर्धारित बैठक क्षमता की डेढ़ गुणा रहेगी। बालवाहिनी योजना के अन्तर्गत संचालित वाहनों के वाहन चालक को कम से कम पांच वर्ष का वाहन चलाने का अनुभव अनिवार्य होगा। प्रत्येक वाहन चालक को परिवहन विभाग द्वारा विशेष फोटोयुक्त परिचय पत्र जारी किया जाएगा। इसमें संक्षिप्त ब्यौरा अंकित किया जाएगा। वाहन चालक इस योजना से मुक्त होने पर परिचय-पत्र कार्यालय में देना होगा। परिवहन अधिकारी ने कहा कि शैक्षणिक संस्थाओं में बस ड्राइवर खाकी ड्रेस पहनेगा। वाहन में विंडोबार इस तरह लगाई जाएगी कि उसमें 200 मिलीमीटर से अधिक का गैप नहीं होगा। वाहन में स्पीड गवर्नर एआईएस .018 मापदण्ड का लगा होगा। बस पर विद्यालय का नाम, फोन नंबर भी जरूर लिखे होने चाहिए। जिला परिवहन अधिकारी धर्मपाल आसीवाल ने बताया कि बाल वाहिनी संबंधी शिकायत परिवहन कार्यालय में दें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bundi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×