--Advertisement--

छोटी काशी में आज निकाला जाएगा नगर कीर्तन

बूंदी| गुरुद्वारा दुख निवारण श्री हेमकुंटवासी दरबार में मनाए जा रहे महान होला महल्ला गुरमत समागम के तहत गुरुवार...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:30 AM IST
बूंदी| गुरुद्वारा दुख निवारण श्री हेमकुंटवासी दरबार में मनाए जा रहे महान होला महल्ला गुरमत समागम के तहत गुरुवार को शहर में नगर कीर्तन निकाला जाएगा। सुुबह 10 बजे नगर कीर्तन गुरुद्वारा श्री लंगर साहिब से रवाना होगा। कार्यक्रम के तहत बुधवार सुबह श्री सुखमनी साहिब पाठ एवं लडीवार चले आ रहे श्री अखंड पाठ साहिब की समाप्ति की गई। दोपहर 3.30 बजे से नवल सागर पार्क के खुले पांडाल में दीवान सजाया गया। इसमें रागी जत्था भाई बक्शीश सिंह बंदा दिल्ली वाले, रागी जत्था भाई तरनजीत सिंह, भाई रमनदीप सिंह पटियाला वाले ने गुरबानी गायन कर सारी संगत को भाव विभोर किया।ढाढी जत्था भाई सुरेंद्रसिंह पारस ने भाई बचितर सिंह ने किस तरह मस्त हाथी से गुरुकृपा द्वारा युद्व किया के बारे में वर्णन किया। कथा वाचक भाई बलविंदर सिंह ने कथा के माध्यम से होला महल्ला के बारे में प्रकाश डाला। रागी जत्था बीबी परमजीत कौर जी ने वाहे गुरू सिमरन द्वारा संगत को निहाल किया। गुरुद्वारा ग्रंथी कुलदीप सिंह द्वारा अरदास करके दीवान की समाप्ति की। कार्यक्रम का संचालन गुरुद्वारा व्यवस्थापक कविन सिंह द्वारा किया गया। गुरुद्वारा प्रधान मनदीप सिंह द्वारा सारी संगत को जी आईया नंू कहा गया। गुरु का लंगर अटूट बरताया जाएगा। दीवान की सजावट प्रदीप सिंह (दीपक), बलवंत द्वारा की गई। जोडाघर की सेवा महेंद्रसिंह बग्गा, अमर भारती बिलोची द्वारा की गई। लंगर की सेवा में सतविंदर सिंह, प्रकाश, सुनील, नरेश छोड़ा, निर्मल सिंह, प्रेम छोड़ा, हनी सिंह, राजू जी, बलदेव सिंह, अशोक कश्यप, तिलक सिंह उपस्थित रहे। गुरुद्वारा संस्थापक राजकुमार बिलोची ने बताया कि सुबह 10 बजे गुरुद्वारा श्री लंगर साहिब से नगर कीर्तन आरंभ होगा, जो शहर के मुख्य मार्गो से होते हुए गुरुद्वारा दुख निवारण श्री हेमकंुटवासी दरबार पहुंचेगा। शाम 5 बजे से नवल सागर पार्क के खुले पांडाल में दीवान सजाया जाएगा। जिसमें बाहर से आए रागी जत्थों, ढाढी जत्थों एवं कथावाचक द्वारा कथा एवं शबद गायन कर संगत काे निहाल किया जाएगा। रात 11 बजे से गुरुद्वारा परिसर में रेन सबाई कीर्तन अमृत वेले तक किया जाएगा।