• Home
  • Rajasthan News
  • Bundi News
  • बूंदी के नगर कीर्तन में उमड़ी आस्था गुरुवाणी और शबद से संगत निहाल
--Advertisement--

बूंदी के नगर कीर्तन में उमड़ी आस्था गुरुवाणी और शबद से संगत निहाल

बालचंदपाड़ा स्थित गुरुद्वारा दुख निवारण श्री हेमकुंटवासी दरबार की ओर से महान होला महल्ला गुरमत समागम के तहत शहर...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 02:35 AM IST
बालचंदपाड़ा स्थित गुरुद्वारा दुख निवारण श्री हेमकुंटवासी दरबार की ओर से महान होला महल्ला गुरमत समागम के तहत शहर में नगर कीर्तन निकाला गया। बाईपास स्थित गुरुद्वारा श्री लंगर साहिब से नगर कीर्तन रवाना हुआ, जो शहर के मुख्य मार्गों से होता हुआ गुरुद्वारा दुख निवारण श्री हेमकुंटवासी दरबार में पहुंचा। नगर कीर्तन में तरनतारन की निशान ए खालसा गतका पार्टी के अखाडेबाजों ने एक से बढकर हैरतअंगेज करतब दिखाकर सभी को रोमांचित कर दिया। सजी धजी पालकी में श्री गुरुग्रंथ साहिब विराजमान थे।

पंज प्यारों के आगे संगत झाडू सेवा करती हुई चल रही थी। बड़ी संख्या में संगत गुरबाणी कीर्तन, शबद गायन करते हुए चल रही थी। नगर कीर्तन बाईपास रोड, सूर्यमल्ल मिश्रण चौराहा, सब्जीमंडी रोड, कोटा रोड, इंद्रा मार्केट, चौमुखा बाजार, सदर बाजार, नाहर का चोहटा, सूरजजी का बड़ होते हुए गुरुद्वारा दुख निवारण श्री हेमकुंटवासी दरबार में पहुंचा। नगर कीर्तन का गुरुद्वारा सिंह सभा प्रबंधक कमेटी, गुरुद्वारा गुरुनानक कॉलोनी प्रबंधक कमेटी, गुरुद्वारा गुरुनानक दरबार सहित अन्य धर्मप्रेमियों ने पुष्पवर्षा कर स्वागत किया।

नवलसागर पार्क में सजा दीवान

गुरुद्वारा श्री लंगर साहिब प्रबंधक कमेटी द्वारा पंज प्यारों को सिरोपाओं एवं पालकी साहिब में शोभायमान श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी को पुष्प अर्पित करके नगर कीर्तन की शुरुआत की गई। नगर कीर्तन का संचालन कविनसिंह, निर्मल सिंह ने किया। नवल सागर पार्क के खुले पांडाल में दीवान सजाया गया। दीवान की सजावट प्रदीपसिंह ने की। कार्यक्रम की शुरुआत गुरुद्वारे के हजूरी रागी कुलदीपसिंह ने शबद गायन से की। भाई तरनजीतसिंह, भाई रमनदीपसिंह ने रूहानियत गुरवाणी गुरमत शबद कीर्तन से संगतों को भाव-विभोर कर दिया। सारंगी वादन द्वारा शहीदों के जीवन पर कथा गायन प्रस्तुत किया।