• Home
  • Rajasthan News
  • Bundi News
  • भगवान और गुरु दिखाता है सच्चा मार्ग: जैनाचार्य
--Advertisement--

भगवान और गुरु दिखाता है सच्चा मार्ग: जैनाचार्य

भास्कर न्यूज | बूंदी का गोठड़ा कस्बे के श्रीपार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर परिसर में साेमवार को प्रवचन करते हुए...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:10 AM IST
भास्कर न्यूज | बूंदी का गोठड़ा

कस्बे के श्रीपार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर परिसर में साेमवार को प्रवचन करते हुए जैनाचार्य सुकुमालनंदी महाराज ने कहा कि मुस्कुराती हुई सुबह-शाम में ढली होती है। जिंदगी की पीठ पर मौत लिखी होती है, बढ़ा ले कदम जितना बढ़ा सकते हैं धर्म के राह में क्योंकि मौत की तारीख निश्चित नहीं होती है।

मुनिश्री ने कहा कि इंसान का मस्तिष्क करोड़ों कंप्यूटर के बराबर है, लेकिन वह उसका सदुपयोग नहीं करता है। यदि वह मन को भगवान की भक्ति व सत्संग में लगाए तो जिंदगी सार्थक हो जाती है। मुस्कुराते होठों पर कभी गाली नहीं होती हरे भरे वृक्ष पर कभी सूखी डाली नहीं होती, जो झुक जाता है भगवान एवं गुरु के चरणों में, उसकी झोली कभी जिंदगी में खाली नहीं होती।

सुकुमाल धर्म प्रभावना के प्रवक्ता प्रमोद सावला ने बताया कि धर्मसभा से पूर्व मंगलाचरण किट्टू जैन, आयुषी जैन ने, मंगल दीप दीमापुर के नरेंद्र मोदी एवं सीकर के यस मोदी ने किया। इससे पूर्व सुबह जैनाचार्य ससंघ का मंगल प्रवेश चेंता से बड़ानया गांव बैंडबाजे के साथ हुआ। इस अवसर पर बड़ानया गांव के प्रेमचंद धानोतिया, बाबूलाल बरमुंडा, गणेशलाल बोहरा, रमेशचंद लंबाबास, महेंद्र लंबाबास, गणेश भैया, जम्मू बरमुंडा, अमोलक बरमुंडा सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

बूंदी का गोठड़ा। बड़ानयागांव जैन मंदिर में सोमवार को श्रीजी का अभिषेक करते जैनाचार्य।

भास्कर न्यूज | बूंदी का गोठड़ा

कस्बे के श्रीपार्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर परिसर में साेमवार को प्रवचन करते हुए जैनाचार्य सुकुमालनंदी महाराज ने कहा कि मुस्कुराती हुई सुबह-शाम में ढली होती है। जिंदगी की पीठ पर मौत लिखी होती है, बढ़ा ले कदम जितना बढ़ा सकते हैं धर्म के राह में क्योंकि मौत की तारीख निश्चित नहीं होती है।

मुनिश्री ने कहा कि इंसान का मस्तिष्क करोड़ों कंप्यूटर के बराबर है, लेकिन वह उसका सदुपयोग नहीं करता है। यदि वह मन को भगवान की भक्ति व सत्संग में लगाए तो जिंदगी सार्थक हो जाती है। मुस्कुराते होठों पर कभी गाली नहीं होती हरे भरे वृक्ष पर कभी सूखी डाली नहीं होती, जो झुक जाता है भगवान एवं गुरु के चरणों में, उसकी झोली कभी जिंदगी में खाली नहीं होती।

सुकुमाल धर्म प्रभावना के प्रवक्ता प्रमोद सावला ने बताया कि धर्मसभा से पूर्व मंगलाचरण किट्टू जैन, आयुषी जैन ने, मंगल दीप दीमापुर के नरेंद्र मोदी एवं सीकर के यस मोदी ने किया। इससे पूर्व सुबह जैनाचार्य ससंघ का मंगल प्रवेश चेंता से बड़ानया गांव बैंडबाजे के साथ हुआ। इस अवसर पर बड़ानया गांव के प्रेमचंद धानोतिया, बाबूलाल बरमुंडा, गणेशलाल बोहरा, रमेशचंद लंबाबास, महेंद्र लंबाबास, गणेश भैया, जम्मू बरमुंडा, अमोलक बरमुंडा सहित अन्य लोग उपस्थित थे।