Hindi News »Rajasthan »Bundi» बादलों ने लुढ़काया 10 पारा...शाम तक झुलसी बूंदी

बादलों ने लुढ़काया 10 पारा...शाम तक झुलसी बूंदी

सूना पड़ा सर्किट हाउस मार्ग। समय| दोपहर 3 बजे भास्कर न्यूज | बूंदी बुधवार को भी लू के थपेड़ों और आसमान से बरसती आग...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:30 AM IST

  • बादलों ने लुढ़काया 10 पारा...शाम तक झुलसी बूंदी
    +2और स्लाइड देखें
    सूना पड़ा सर्किट हाउस मार्ग। समय| दोपहर 3 बजे

    भास्कर न्यूज | बूंदी

    बुधवार को भी लू के थपेड़ों और आसमान से बरसती आग से शहर की सड़कें सूनी रहीं। हालांकि बादलों के कारण बुधवार को तापमान में थोड़ी गिरावट दर्ज की गई। तहसील कार्यालय के अनुसार बुधवार को तापमान 46.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जो मंगलवार के तापमान 47.4 से एक डिग्री कम था। शहर की सड़कें सुबह 11 बजे से ही सूनी हो गईं। यहां तक कि सुबह से शाम तक भारी यातायात वाली सड़कें भी सुनसान नजर आ रही थीं।

    बाजार पर असर-तेज गर्मी का असर बाजार पर साफ नजर आ रहा है। कूलर, पंखे और ठंडे से जुड़े कारोबार को छोड़कर बाकी ग्राहकी पर भारी असर पड़ा है। बाकी दुकानदारी आधी भी नहीं। ग्रामीण ग्राहकी घटकर एक चौथाई रह गई है। जिन बाजारों से ग्राहकों की भीड़ से आसानी से निकला नहीं जा सकता था, उनमें भी सप्ताहभर से सन्नाटा फैला रहता है।

    शहर:पीएचईडी कर्मियों की लापरवाही से खराब वॉल्व के चलते बह गया 30 हजार लीटर पानी

    बूंदी. एक तरफ पीने के पानी के लिए लोग परेशान हैं, दूसरी ओर बुधवार को सुबह नैनवां रोड पर पानी की नदी बहती देखी। अनुमान के तौर पर 30 हजार लीटर से ज्यादा पानी व्यर्थ बह गया।

    कारण: नैनवां रोड डाकघर के सामने उच्च जलाशय की पानी लाइन की रबड़ शीट टूटने से वॉल्व खराब हो गया। सुबह 7 बजे इस टंकी से न्यू कॉलोनी को पानी की सप्लाई करनी थी, पर वाॅल्व खराब होने से पानी बहता रहा। इसे ठीक करने में 3 घंटे लग गए।

    असर: पानी का प्रेशर तेज होने से ठीक कर पाना संभव नहीं हो पाया। आखिरकार सिस्टम बंद कर दिया गया। सुबह न्यू कॉलोनी में सप्लाई नहीं हो गई तो शाम को सप्लाई दी गई।

    उच्च जलाशय की लाइन की रबड़ शीट टूट जाने से वॉल्व खराब हो गया। जैसे ही जानकारी मिली तो कर्मचारी काम करने लग गए। प्रेशर तेज होने से ठीक करने में परेशानी जरूर हुई थी। जेपी दाधीच, एईएन, नगर परिषद जलदाय प्रकोष्ठ

    चैनपुरिया:यहां रोज ऐसी ही तस्वीर...क्योंकि बोरिंग हो नहीं सकती...पानी की कीमत इनसे पूछिए

    अधिकारी देख लें, गांवों में ऐसे हैं हालात

    यह फोटो है बरड़ के बंजारों के गांव चैनपुरिया की। दो दिन पहले यह फोटो ली गई थी, लेकिन यहां ऐसे हालात रोज ही दिखते हैं। बूंदी से 35 किमी दूर इस गांव में 500 लोगों की आबादी है, लेकिन जिम्मेदारों की आंखें नहीं खुल रहीं। यह फोटो दोबारा लगाने का मकसद भी अफसरों को यह दिखाना है कि एक ओर हजारों लीटर पानी बर्बाद हो रहा है और दूसरी तरफ लोग पानी के लिए कतार में खड़े हैं। सवाल यह है कि प्रशासन के बड़े अधिकारी पानी के मामले में लापरवाही बरतने वाले कर्मचारी-अधिकारियों पर कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे हैं।

  • बादलों ने लुढ़काया 10 पारा...शाम तक झुलसी बूंदी
    +2और स्लाइड देखें
  • बादलों ने लुढ़काया 10 पारा...शाम तक झुलसी बूंदी
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bundi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×