Hindi News »Rajasthan »Bundi» कथा के दौरान कृष्ण-रुक्मिणी विवाह पूर्णाहुति पर यज्ञोपवीत संस्कार आज

कथा के दौरान कृष्ण-रुक्मिणी विवाह पूर्णाहुति पर यज्ञोपवीत संस्कार आज

ब्राह्मण महासभा राजस्थान द्वारा परशुराम जन्मोत्सव पखवाड़े के तहत चल रही श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के साथ...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:30 AM IST

  • कथा के दौरान कृष्ण-रुक्मिणी विवाह पूर्णाहुति पर यज्ञोपवीत संस्कार आज
    +1और स्लाइड देखें
    ब्राह्मण महासभा राजस्थान द्वारा परशुराम जन्मोत्सव पखवाड़े के तहत चल रही श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के साथ बुधवार शाम को 7 बजे से संगीतमय सुंदरकांड का पाठ किया गया। कथावाचक ऋतुराज शर्मा ने रुक्मिणी विवाह का प्रसंग सुनाया। पांडाल में कृष्ण रुक्मिणी की झांकी का मंचन कर विवाह संपन्न करवाया गया। दोनों के विवाह पर फूलों की वर्षा की गई।

    कथावाचक शर्मा ने कहा कि भगवान कृष्ण द्वारा गोपी संग किया हुआ महारास जीव का शिव के मिलन का प्रतीक है। जीव का शिव में लय हो जाना ही महारास का मर्म है। उद्धव ज्ञान स्वरूप है और गोपियां भक्ति का स्वरूप है। कोरा ज्ञान अहंकार को जन्म देता है। अतः ज्ञान रूपी मिष्ठान को भक्ति रूपी चासनी में भिगोकर उसका आस्वादन करना चाहिए।

    इन पदाधिकारियों की रही मौजूदगी

    ब्राह्मण महासभा राजस्थान के संरक्षक पं. ज्योतिशंकर शर्मा, संरक्षक नवल किशोर शर्मा, प्रदेश अध्यक्ष कृष्ण मुरारी चतुर्वेदी, संयोजक ओमप्रकाश शर्मा, जिलाध्यक्ष ध्रुव व्यास, देहात अध्यक्ष रामचरण श्रृंगी, शहर अध्यक्ष पं. प्रेमशंकर शर्मा, रामावतार शर्मा भजनेरी, पं. शम्भूदत्त शर्मा, भगवान कलवाड़ीया, महिला सहयोग निधि की प्रभारी लीलावती शर्मा ,शोभना पुरोहित, सीमा शर्मा सहित महासभा कार्य समिति सदस्यों ने प्रदेश संरक्षक भुवनेश्वर शर्मा, तालेड़ा उप प्रधान रघु शर्मा, आलोक शर्मा, मोहित सनाढ्य, रमेश शर्मा बरुंधन व आगंतुक अतिथियों का दुपट्टा धारण करवाकर साफा बंधवाकर स्वागत सम्मान किया। भुवनेश्वर शर्मा ने देहात जिला उपाध्यक्ष पद पर महावीर शर्मा जखाना को नियुक्त किया। प्रदेश अध्यक्ष कृष्ण मुरारी चतुर्वेदी व संयोजक ओमप्रकाश शर्मा ने बताया कि गुरुवार को कथा पूर्णाहुति पर ब्राह्मण बटुकों का यज्ञोपवीत संस्कार भी संपन्न करवाया जाएगा।

    बूंदी. परशुराम जन्मोत्सव पखवाड़े के तहत चल रही श्रीमद् भागवत कथा में राधा-कृष्ण की झांकी सजाई।

    बूंदी. माहेश्वरी कॉलोनी में चल रही भागवत कथा में कृष्ण जन्मोत्सव की झांकी का मंचन करते हुए।

    भास्कर न्यूज| बूंदी

    ब्राह्मण महासभा राजस्थान द्वारा परशुराम जन्मोत्सव पखवाड़े के तहत चल रही श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ के साथ बुधवार शाम को 7 बजे से संगीतमय सुंदरकांड का पाठ किया गया। कथावाचक ऋतुराज शर्मा ने रुक्मिणी विवाह का प्रसंग सुनाया। पांडाल में कृष्ण रुक्मिणी की झांकी का मंचन कर विवाह संपन्न करवाया गया। दोनों के विवाह पर फूलों की वर्षा की गई।

    कथावाचक शर्मा ने कहा कि भगवान कृष्ण द्वारा गोपी संग किया हुआ महारास जीव का शिव के मिलन का प्रतीक है। जीव का शिव में लय हो जाना ही महारास का मर्म है। उद्धव ज्ञान स्वरूप है और गोपियां भक्ति का स्वरूप है। कोरा ज्ञान अहंकार को जन्म देता है। अतः ज्ञान रूपी मिष्ठान को भक्ति रूपी चासनी में भिगोकर उसका आस्वादन करना चाहिए।

    इन पदाधिकारियों की रही मौजूदगी

    ब्राह्मण महासभा राजस्थान के संरक्षक पं. ज्योतिशंकर शर्मा, संरक्षक नवल किशोर शर्मा, प्रदेश अध्यक्ष कृष्ण मुरारी चतुर्वेदी, संयोजक ओमप्रकाश शर्मा, जिलाध्यक्ष ध्रुव व्यास, देहात अध्यक्ष रामचरण श्रृंगी, शहर अध्यक्ष पं. प्रेमशंकर शर्मा, रामावतार शर्मा भजनेरी, पं. शम्भूदत्त शर्मा, भगवान कलवाड़ीया, महिला सहयोग निधि की प्रभारी लीलावती शर्मा ,शोभना पुरोहित, सीमा शर्मा सहित महासभा कार्य समिति सदस्यों ने प्रदेश संरक्षक भुवनेश्वर शर्मा, तालेड़ा उप प्रधान रघु शर्मा, आलोक शर्मा, मोहित सनाढ्य, रमेश शर्मा बरुंधन व आगंतुक अतिथियों का दुपट्टा धारण करवाकर साफा बंधवाकर स्वागत सम्मान किया। भुवनेश्वर शर्मा ने देहात जिला उपाध्यक्ष पद पर महावीर शर्मा जखाना को नियुक्त किया। प्रदेश अध्यक्ष कृष्ण मुरारी चतुर्वेदी व संयोजक ओमप्रकाश शर्मा ने बताया कि गुरुवार को कथा पूर्णाहुति पर ब्राह्मण बटुकों का यज्ञोपवीत संस्कार भी संपन्न करवाया जाएगा।

    भागवत कथा में मनाया कृष्ण जन्मोत्सव

    बूंदी में माहेश्वरी कॉलोनी में चल रही श्रीमद् भागवत कथा में बुधवार को पं. शिवलहरी गौतम ने कहा कि गायों की जो प्रेम से सेवा करता है उसका वंश कभी नष्ट नहीं होता है। इसलिए हर इंसान को गायों की सेवा करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि आजकल लोग वर्ष में एक ही बार नंद महोत्सव मनाते हैं, जबकि प्रतिदिन जन्मोत्सव मनाना चाहिए। रोज सुबह 4 से 5:30 बजे तक नंद महोत्सव मनाना चाहिए। कथा के दौरान कृष्ण जन्मोत्सव की झांकी का मंचन किया गया। पांडाल गोकुल धाम बन गया और हाथी घोड़ा पालकी जय कन्हैयालाल की जयकारों से गुंजायमान हो गया गया। कथा में भजनों पर श्रद्धालु झूम उठे कथा में नंदोत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया गया। पोथी की आरती कर प्रसाद वितरण किया। भंवरी देवी, छोटी देवी, मीना देवी, नवल देवी, दया देवी, पिंकी शर्मा, योगेश शर्मा, लता शर्मा, गौरी शंकर शर्मा,मुकेश गंधर्व, पीयूष शर्मा आरती के लाभार्थी रहे।

  • कथा के दौरान कृष्ण-रुक्मिणी विवाह पूर्णाहुति पर यज्ञोपवीत संस्कार आज
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bundi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×