बाधाओं से डरे नहीं, सामना करें : मुनि विश्रांतसागर

Bundi News - शहर के देवपुरा के संभवनाथ दिगंबर जैन मंदिर में मुनिश्री विश्रांतसागर महाराज ने शुक्रवार को धर्मसभा को संबोधित...

Feb 22, 2020, 07:51 AM IST
Bundi News - rajasthan news do not be afraid of obstacles face them muni vishrantasagar

शहर के देवपुरा के संभवनाथ दिगंबर जैन मंदिर में मुनिश्री विश्रांतसागर महाराज ने शुक्रवार को धर्मसभा को संबोधित करते हुए कहा कि साधु की पहचान, यश, ख्याति, नाम, सम्मान से नहीं, बल्कि साधना से होती है। यश- ख्याति तो पाप करने वालों की भी हो जाती है और नाम की प्रसिद्धि तो तिर्यंच, मोर, सिंह की भी हो जाती है।

साधुओं को अपनी साधना में लीन होकर समाधि मरण का प्रयास करते रहना चाहिए। बाधा आए तो घबराना नहीं, बल्कि बाधाओं का सामना करें। बाधाओं से डरने से बाधाएं और ज्यादा आती है। यदि बाधाओं से सामना करें तो बाधाएं स्वतः पिघलकर नष्ट हो जाएगी। साधु तो बाधाओं को आमंत्रित करते हैं। जिससे समता से जीने की शक्ति आए।

बाधाओं को समता से सहने से कर्मों की तीव्र निर्जरा होती है। कर्मों की निर्जरा से ही प्राप्त होता है कष्टों में भी प्रसन्न रहना। अपने दुखों को दूसरे के सामने मत सुनाना, लोग तुम्हारे कष्टों को सुनकर सहयोग नहीं करेंगे, बल्कि बाद में तुम्हारे पीछे तुमारी हंसी उड़ाते हैं। दुखी रह जाना, लेकिन कभी भी अपने दुखों को किसी को मत सुनाना। गरीबी में भगवान का नाम लेकर रह जाना, लेकिन किसी के सामने अपना हाथ मत फैलाना। धर्मसभा में कई समाजबंधु मौजूद रहे।

आचार्य इंद्रनंदी महाराज का ससंघ देई में मंगल प्रवेश


देई | कस्बे में शुक्रवार को सात वर्ष बाद आचार्य इंद्रनंदी महाराज का ससंघ मंगल प्रवेश हुआ। महाराजश्री के साथ संघ में मुनि क्षमानंदी, निपूर्णनंदी, सुनयनंदी महाराज, आर्यिका मुक्तिश्री, माताजी कनकश्रीमाताजी, जयश्री माताजी, शुद्धश्री माताजी, क्षुल्लक विनम्रनंदी महाराज, क्षुल्लिका संयमश्री माताजी साथ थी। संघ के प्रवेश पर समाजबंधु बैंडबाजों के साथ जुलूस रूप में नए बस स्टैंड, मुख्य बाजार से होते हुए बड़ा मंदिर पहुंचे। जहां दर्शन के बाद वापस नसियांजी मंदिर पहुंचे। मंदिर प्रवक्ता दीपक जैन दुगारीवाले ने बताया कि बाजार में जगह-जगह आचार्य का पाद प्रक्षालन किए। नसियांजी में अागमन पर आचार्यश्री ने मंगल आशीर्वाद दिया। इस दौरान समाज अध्यक्ष ओमप्रकाश गर्ग, मंदिर अध्यक्ष कैलाश जैन, बाबूलाल खूंटवाले, महेंद्र जैन, संपत जैन, रमेशचंद, मनोज, योगेंद्र, नंदकिशोर अाैर समाजबंधु शामिल थे।

को सुनकर सहयोग नहीं करेंगे, बल्कि बाद में तुम्हारे पीछे तुमारी हंसी उड़ाते हैं। दुखी रह जाना, लेकिन कभी भी अपने दुखों को किसी को मत सुनाना। गरीबी में भगवान का नाम लेकर रह जाना, लेकिन किसी के सामने अपना हाथ मत फैलाना। धर्मसभा में कई समाजबंधु मौजूद रहे।

देई। कस्बे में जैन मुनि के मंगल प्रवेश पर शामिल मुनि व श्रद्धालु।

X
Bundi News - rajasthan news do not be afraid of obstacles face them muni vishrantasagar

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना