कर्म रावण जैसे होंगे तो अंत भी वही होगा: श्रीराम प्रपन्नाचार्य

Bundi News - तालेड़ा. कस्बे में चल रही सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा में शुक्रवार को कथावाचक स्वामी श्रीराम प्रपन्नाचार्य ने...

Feb 15, 2020, 08:41 AM IST

तालेड़ा. कस्बे में चल रही सात दिवसीय श्रीमद्भागवत कथा में शुक्रवार को कथावाचक स्वामी श्रीराम प्रपन्नाचार्य ने सनातन धर्म का सार समझाते हुए कहा कि रावण जैसे कर्म करने वाला आदमी श्रीराम जैसी मुक्ति की उम्मीद नहीं रखे। कर्म अगर रावण जैसे होंगे तो अंत की गति भी रावण जैसी होगी।

अच्छे कर्म अाैर परमार्थ करने वाला, मर्यादाओं में रहने वाला, ईश्वर के करीब रहकर भावभक्ति करने वाला व्यक्ति सनातन धर्म पर चल सकता है। उन्हाेंने मानव से मानव के प्रेम को ईश्वर की भक्ति बताते हुए नर सेवा नारायण सेवा का संदेश दिया। गुरुभक्ति के साथ गीता का सार समझ रहे श्रीकृष्ण भक्तों काे व्यक्तिगत और पारिवारिक पीड़ाओं के निदान भी बता रहे हैं। जिंदगी की बाधा दौड़ में भ्रांतियों का शिकार हाेने वालाें काे उन्हाेंने ठाकुरजी की सेवा में विश्वास करने का मंत्र दिया। उन्हाेंने कहा कि हम अच्छे तो जगत अच्छा। सबसे पहले हमें अपने पारिवारिक वातावरण को स्वच्छ बनाकर नित्य धार्मिक क्रिया व देवदर्शन की आदत नई पीढ़ी में डालनी चाहिए। कस्बे के सिद्धिविनायक नगर में श्रीद्वारकाधीश गार्डन में गुरुभक्तों द्वारा आयोजित संगीतमय भागवत कथा में आसपास के गांवाें के श्रद्धालु उत्साह से भाग ले रहे हैं।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना