19 साल बाद स्वतंत्रता दिवस व रक्षाबंधन एकसाथ

Bundi News - सावन में इस बार कई संयोग बन रहे हैं। 125 सालों बाद हरियाली अमावस्या पर पंच महायोग का संयोग रहेगा। भगवान शिव की...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:50 AM IST
Bundi News - rajasthan news independence day and rakshabandhan together after 19 years
सावन में इस बार कई संयोग बन रहे हैं। 125 सालों बाद हरियाली अमावस्या पर पंच महायोग का संयोग रहेगा। भगवान शिव की अाराधना के विशेष दिन सोमवार को नागपंचमी भी रहेगी। इस नागपंचमी का विशेष महत्व है। खीण्या के ज्योतिषाचार्य पं. शिवप्रकाश दाधीच ने बताया कि बरसाें बाद स्वतंत्रता दिवस और रक्षाबंधन का संयोग एक ही दिन रहेगा। सावन मास प्रारंभ होने के पूर्व 16 जुलाई काे खंडग्रास चंद्रग्रहण होगा। यह चंद्रग्रहण भारत में दिखाई देगा। स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त को चंद्रप्रधान श्रवण नक्षत्र में रक्षाबंधन मनाया जाएगा। 19 साल पहले वर्ष 2000 में ऐसा योग बना था। इस बार सावन का शुभारंभ 17 जुलाई से हो रहा है। इस दिन विष कुंभ योग बन रहा है। इस बार 30 दिन का सावन है।

सिद्धि-सर्वार्थसिद्धि योग एक ही दिन: एक अगस्त को हरियाली अमावस्या पर इस बार पंच महायोग का संयोग बन रहा है। ज्योतिषियों की मानें तो यह संयोग 125 साल में बन रहा है। इस दिन पहला सिद्धि योग, दूसरा शुभ योग, तीसरा गुरु पुष्यामृत योग, चौथा सर्वार्थसिद्धि योग और पांचवां अमृत सिद्धि योग का संयोग है। पंच महायोग के संयोग में कुल के देवी-देवता और मां पार्वती की पूजा मनोवांछित फल पाने की लिए की जाती है।

सोमवार को नागपंचमी का संयोग

पं. दाधीच ने बताया कि इस बार सावन में नागपंचमी 5 अगस्त सोमवार को होकर विशेष योग लेकर आ रही है। 20 साल बाद यह योग बना है। इससे पहले सावन में सोमवार को नागपंचमी का संयोग 16 अगस्त 1999 में बना था और फिर 21 अगस्त 2023 को यह योग फिर बनेगा। सावन में अधिकमास होने से सावन मास दो माह का रहेगा और उसमें 8 सोमवार आएंगे। नागपंचमी पर सोमवार की युक्ति अनिष्ट ग्रहों की शांति के लिए सर्वोत्तम मानी है। पितृ शांति काल सर्पयोग शांति के लिए सर्वोत्तम सिद्ध योग है। इस योग में शिवजी का रुद्राभिषेक पूजन सर्वमनोकामना सिद्धि के लिए अचूक माना जाता है।

X
Bundi News - rajasthan news independence day and rakshabandhan together after 19 years
COMMENT