गुढ़ाबांध, जैतसागर, नवलसागर के गेट खोल छोड़ा पानी

Bundi News - जिले में बारिश का कहर रुकने का नाम नहीं नहीं ले रहा है। पिछले 24 घंटे चल रही बारिश से नदी-नाले उफान पर आ गए । बांधों में...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 08:00 AM IST
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
जिले में बारिश का कहर रुकने का नाम नहीं नहीं ले रहा है। पिछले 24 घंटे चल रही बारिश से नदी-नाले उफान पर आ गए । बांधों में पानी की लगातार आवक हो रही है। इसके कारण गुढ़ाबांध के 14 गेट तक खोलने पड़े। शहर के नवलसागर के 3 गेट एक फीट तक व जैतसागर के 9 गेट 2 फीट तक खोलने से बूंदी जलमग्न हो गई। कई कॉलोनियों के घरों में पानी घुस गया। वहीं, नागदी में 3 फीट तक पानी चल रहा है, जिससे यातायात बाधित हो गया। शहर में सुबह 8 से शाम 5 बजे तक 27 एमएम यानी एक इंच से ज्यादा पानी बरसा। तालेड़ा में 8 एमएम, केशवरायपाटन में 2 एमएम, हिंडौली में 20 एमएम, नैनवां 9 एमएम, इंद्रगढ़ में बारिश शून्य रही।

जिले में 1 जून से 13 सितंबर तक जिले में 6419 एमएम बारिश हो चुकी है। बूंदी में 1069 एमएम, तालेड़ा में 1082एमएम, केपाटन में 1070, इंद्रगढ़ में 739 एमएम, नैनवां 975 एमएम, हिंडौली में 1284 एमएम बारिश दर्ज की गई। गुरुवार से शुरू हुई बारिश शुक्रवार शाम तक जारी रही। शहर में जगह जगह पानी भर गया। नागदी बाजार, महावीर कॉलोनी, बहादुरसिंह सर्किल पर पानी भर गया। महावीर कॉलोनी में दो से तीन फीट तक पानी था। देवपुरा, पुलिस लाइन रोड, मजिस्ट्रेट कॉलोनी, नैनवां रोड, तहसील रोड, तलाई मोहल्ले सहित 7-8 कॉलोनियां जलमग्न हो गई।

ट्रक फंसने से देई-भजनेरी मार्ग थमा रहा, जाम

देई. कस्बे से भजनेरी जाने वाले मार्ग पर आॅयल मिल के पास एक ट्रक कीचड़ व गड्ढे में फंस गया, जिससे शुक्रवार को मार्ग अवरुद्ध रहा। इससे बड़ी संख्या में वहां से निकलने वाले दुपहिया वाहन चालक गिरते रहे। बार-बार जाम की स्थिति बनती रही। लोडिंग ट्रक का माल खाली करने के बाद स्थिति में सुधार हुआ। डोकून के उपसरपंच रामजानकी मीणा ने एसडीएम को ज्ञापन देकर सड़क की मरम्मत करवाकर ग्रामीणों को राहत प्रदान करने की मांग की है।

औसत से दोगुनी हो गई बरसात, आम रास्ते पानी-पानी, तकलीफें बढ़ी

नागदी बाजार

बूंदी. इस बार औसत से दोगुनी बारिश के चलते तालाब, बांध, कुएं, बावड़ियां-कुंड लबालब भर गए। शहर में जमीन से पानी उगलने लग गया है। इससे भूमिगत मकानों-प्रतिष्ठानाें में पानी भरने से परेशान होना पड़ रहा है। आम लोगों व दुकानदारों की व्यथा पर बूंदी से एक रिपोर्ट।

शहर में इस बार जून माह से अब तक 1093 एमएम बारिश होने से कुंड-बावडियां लबालब हो गई। शहरवासियाें व दुकानदारों को दिन-रात दो-दो मोटरें चलाकर पानी बाहर निकालना पड़ रहा है। पीड़ित लोगों-दुकानदारों का कहना है कि इससे उनका लाखों का सामान खराब हाे गया। पानी की निकासी के लिए उन्हें दिन रात दो-दो मोटरें चलानी पड़ रही है। इससे बिजली का बिल भी ज्यादा आ रहा है। प्रतिष्ठानों की दीवारों में सीलन आ गई। इसके चलते गिरने का खतरा बना हुआ है। नगरपरिषद से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों को शिकायतें दी जा चुकी। प्रतिष्ठानाें में घुसे पानी को बाहर निकलवाने की गुहार लगाई, लेकिन उनकी व्यथा पर ध्यान नहीं देने से भारी परेशानियों झेलनी पड़ रही है। वे जिले में गत वर्ष 479 एमएम बारिश की तुलना में इस बार दोगुनी 999 एमएम बारिश होने से लोगों को परेशानी आने की बात कह रहे हैं। नगपरिषद अधिकारी मीडिया के सामने कुछ भी बोलने से कतरा रहे हैं।

महावीर कॉलोनी

बहादुर सिंह सर्किल

लोगों की पीड़ा... ऐसे में शहर-देहात में हुई अधिक बारिश के चलते जमीन द्वारा पानी उगलने से आमजन परेशान हो रहे हैं। शहर के पीड़ित लोगों व दुकानदारों की व्यथा की अाेर न जाने कब प्रशासन का ध्यान जाएगा। कब उनके मकानों-दुकानाें में पानी की निकासी से उन्हें राहत मिल पाऐगी। ये कहना अभी मुश्किल है।

(जैसा कि हेमंत दाधीच गार्डन संचालक, मोना जैन, सुमित्रा लाठी पीड़ित दुकानदार ने बताया)

उपतहसील कार्यालय जलमग्न, दो पटवारी फंसे

दबलाना/बूंदी. तेज बरसात के चलते सभी नदी नाले उफान पर रहे। जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा। गुढ़ाबांध से 14 गेट खोलकर अतिरिक्त पानी की निकासी मेज नदी में पानी की आवक से दबलाना-आसपास गांव जलमग्न हो गए, मकानों में पानी भर गया। दोनों बहने वाले खालों पर ज्यादा उफान रहने से उपतहसील कार्यालय टापू बन गया। कार्यालय में रहने वाले दबलाना हल्का पटवारी सलीम मोहम्मद, रानीपुरा हल्का पटवारी रोशन गुर्जर फंस गए। सूचना मिलने पर ग्रामीणों ने रस्सी फेंककर उनके खाने की सामग्री पहुंचाई। 33 केवी जीएसएस लबालब होने से बिजली आपूर्ति ठप रही। मेज नदी किनारे हाईअलर्ट जारी की गई। नदी में भैंस की बहने से मौत हो गई। रानीपुरा बेजाण नदी पर छह फीट पानी रहने से आवागमन ठप रहा।

पुजारी ने आरती कर चंबल नदी से प्रार्थना की

केशवरायपाटन. चर्मण्यवती-चंबल नदी के पूर्ण वेग से उफान पर आने पर केशवराय मंदिर के वरिष्ठ पुजारी जमनालाल शर्मा ने पूजा-अर्चना कर आरती की। शर्मा ने कहा कि ऐसी परंपरा रियासतकाल से चली आ रही है। मां चर्मण्यवती नदी के पूर्ण वेग से आने पर पुजारी समाज द्वारा चर्मण्यवती को वस्त्राभूषण अर्पित कर उसे शांत होने की कामना करते हैं। वर्ष 1986 में भी चर्मण्यवती नदी इसी वेग से आई थी।

करजूना की नदी में उफान, दूध तक नहीं मिला

सिलोर. करजूना गांव की नदी में उफान आने से कई गांवों के मार्ग अवरुद्ध रहे। इसके चलते ग्रामीणों को दूध अाैर आवश्यकता की सामग्री तक नहीं मिल सका। नदियों में उफान के चलते सिलोर का करजूना, नमाना, गड़रदा गांवाें से संपर्क कटा रहा।

Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
X
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
Bundi News - rajasthan news water released from the gates of gudhabandh jaitsagar navalasagar
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना