चित्तौड़गढ़

--Advertisement--

अवैध संबंध छिपाने के लिए हत्या का आरोपी व महिला साथी गिरफ्तार

मलगाणी के ग्यारह वर्षीय बालक नरेंद्रकुमार की हत्या के आरोप में मांडल पुलिस ने गुरुवार को आरोपी और उसकी महिला साथी...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 07:50 AM IST
मलगाणी के ग्यारह वर्षीय बालक नरेंद्रकुमार की हत्या के आरोप में मांडल पुलिस ने गुरुवार को आरोपी और उसकी महिला साथी को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया है। हत्या अवैध संबंध उजागर हो जाने की आशंका में की गई थी। दैनिक भास्कर ने बुधवार को ही खबर में मामले का खुलासा कर दिया था। इसमें बताया था कि आरोपी ने छात्र को पहले बहलाते हुए 50 रुपए देकर खेत पर भेजा। वहां जाकर हत्या कर दी और शव कुएं में फेंका।

मांडल एसएचओ दिनेशकुमार ने बताया कि मलगाणी गांव के ही रामेश्वरलाल व महिला साथी रामकन्या को लापता छात्र नरेंद्र पुत्र शंभुलाल की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। मंगलवार रात करीब 10 बजे तक नरेंद्र का पता नहीं चला तब परिजनों ने मांडल थाने पर रिपोर्ट दी। इस पर सब इंस्पेक्टर दातारसिंह के नेतृत्व में एएसआई साबिर मोहम्मद व कांस्टेबल राजेश सालवी की विशेष टीम बनाई। टीम ने ग्रामीणों के साथ मिलकर रातभर छात्र की तलाश की, लेकिन पता नहीं चला। टीम ने नरेंद्र के हमउम्र बच्चों से बात की। इसमें सामने आया कि नरेंद्र ने उन्हें ताऊ को टिफिन देकर आने के बाद एक बात बताने के लिए बोला था, लेकिन इसके बाद वह नहीं लौटा। बच्चों की बातों से पुलिस को हत्या अवैध संबंध के कारण कर देने का संदेह हुआ। पुलिस को पता चला कि जब ग्रामीण रातभर नरेंद्र को तलाश रहे थे, उस वक्त आरोपी घर में सो रहा था। देर सुबह तक भी घर से नहीं निकलने पर पुलिस का संदेह पुख्ता हो गया। थाने लाकर पूछताछ में उसने गुनाह कबूल कर लिया।

रामेश्वर 5 दिन से नरेंद्र को ठिकाने लगाने की फिराक में था

आरोपी रामेश्वर पांच दिन से मौका देख रहा था कि कब नरेंद्र रात के वक्त अकेला मिले और वह अपनी योजना को मूर्त रूप दे। मंगलवार देर शाम 7 बजे वह तलाशते हुए नरेंद्र के पास पहुंचा। उसे 50 रुपये का लालच देकर खेत की तरफ लेकर गया, जहां गला दबाकर हत्या कर दी। रामेश्वर ने नरेंद्र का शव गोपाल भील के कुएं में डाल दिया ताकि शक की सुई उसकी तरफ न रहे और गोपाल पर संदेह हो। नरेंद्र का बुधवार शाम शव मिल गया था। मां को गुरुवार सुबह तक इसकी जानकारी नहीं थी।





सुबह पोस्टमार्टम के बाद शव घर ले जाया गया। दाह-संस्कार के लिए रवाना हुए तब परिवार के लोगों की चीत्कार फूट पड़ी। मां यह दृश्य देखकर बेसुध हो गई। उसका उपचार जारी है।





Sub heading :

भास्कर ने पहले ही कर दिया था मामले का खुलासा: पुलिस ने 20 घंटे में किया वारदात का पटाक्षेप



X
Click to listen..