पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Chittorgarh News Rajasthan News In The House Aakya Belle Police First Asks For Political Relations Then Starts Action

सदन में आक्या बाेले पुलिस पहले राजनीतिक संबंध पूछती है, फिर कार्रवाई शुरू करती है

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में पुलिस पर भेदभाव, अपराधियों से मिलीभगत और ढिलाई का आरोप

राज्य विधानसभा के बजट सत्र में जिला पुलिस की कार्यप्रणाली विधायकों के निशाने पर है। कांग्रेस विधायक राजेंद्रसिंह विधुडी के बाद भाजपा विधायक चंद्रभानसिंह आक्या ने एक बार फिर सदन में पुलिस को जमकर निशाना बनाया।

चित्तौड़गढ़ विधायक आक्या ने पहले तो पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था बिगड़ने की बात कहते हुए अपराध घटाने के लिए नफरी बढ़ाने की मांग की। फिर चित्तौड़गढ़ जिला पुलिस को खास निशाना बनाया। आक्या ने कहा कि सहनवा में दलित परिवार की दो बालिकाएं दो महीने से लापता है। पुलिस पता नहीं लगा पा रही। कोतवाली क्षेत्र के चर्चित 488 किलो डोडा चूरा जब्ती का मामला फिर उठाते हुए कहा कि इस मामले में छोटे कर्मचारी तो निलंबित हो गए पर बड़े अधिकारियों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। जबकि यह मामला तस्करों से सांठगांठ से जुड़ा है। आक्या ने यह भी कहा कि मेरे विस क्षेत्र व जिले में आमजन के प्रकरण दर्ज कराने थाने में जाने पर पुलिस पहले यह पूछती है कि आप किस राजनीतिक पार्टी से जुड़े हो। उसके बाद कार्रवाई शुरू करती है। राजनीतिक द्वेषतावश कार्रवाइयां तो हो रही पर सियासी संरक्षण प्राप्त बजरी माफिया, तेल माफिया, भू माफिया खुलेआम कारोबार चला रहे है। एनडीपीएस एक्ट की धारा 29 में किसानों को परेशान किया जाता है पर वास्तविक अपराधियों पर कार्रवाई नहीं होती। आक्या ने यह भी आरोप लगाया कि होमगार्ड में अधिकारी बिना पैसे लिए कर्मचारी की ड्यूटी नहीं लगाते है। इस कारण वर्तमान में होमगार्ड को कम ड्यूटी मिल रही है। इनको वर्षभर ड्यूटी मिलने के साथ मानदेय बढाने की भी मांग की गई।

कांग्रेस के विधूड़ी के साथ सुर मिलाए आक्या ने

बेगूं से कांग्रेस विधायक राजेंद्रसिंह विधूड़ी ने शुक्रवार को विस में पुलिस के साथ परोक्ष रूप से सरकार पर भी जोरदार हमला बोला था। उन्होंने कुछ माह पूर्व एसएचओ के रिवर्स ट्रैप को इंगित करते हुए कहा कि पुलिस अधिकारियों की संपत्ति की जांच होनी चाहिए। यहां तक कहा कि उनके फोन टेप हो रहे है। विधूड़ी ने इस मामले में जिले के तत्कालीन एसपी को निशाना बनाते हुए यहां तक कह दिया कि सरकार ने उनको टर्मिनेट क्यों नहीं किया। भाजपा विधायक चंद्रभानसिंह आक्या ने सदन में पुलिस पर हमला बोलते समय दो तीन बार विधूड़ी के बयान का जिक्र करते हुए उनसे सुर मिलाए।
खबरें और भी हैं...