प्रभु स्मरण का महत्व बताया

Chittorgarh News - सांवलियाजी | माया के बंधन से मुक्त होना है तो शरणागत होकर जीवन की डोर प्रभु के हवाले करनी पड़ेगी। जिससे नित्य प्रभु...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 10:50 AM IST
Sanwariyaji News - rajasthan news the importance of remembrance of the lord
सांवलियाजी | माया के बंधन से मुक्त होना है तो शरणागत होकर जीवन की डोर प्रभु के हवाले करनी पड़ेगी। जिससे नित्य प्रभु का स्मरण होता रहे। ये विचार कृष्णधाम में भागवत कथा सुनाते हुए वृंदावन धाम के आचार्य गोपालकृष्ण महाराज ने व्यक्त किए। आचार्य ने कहा कि जो निरंतर प्रभु स्मरण करता है उसके जीवन में किसी प्रकार का कष्ट नहीं रहता। कलयुग में तो नाम स्मरण ही प्रमुख आधार है जिससे भव पार हो सकते है। आचार्य ने कथा के दाैरान भजन भी प्रस्तुत किए। भागवत कथा में सांवलियाजी ट्रेडर्स कोटा एवं केशव ट्रेडर्स बारां की ओर से छप्पनभोग की झांकी सजाई गई। जिसका आचार्य गोपालकृष्ण एवं आयोजक चुन्नीदास वैष्णव के सानिध्य में भगवान काे भाेग धराकर श्रद्धालुओंं को प्रसाद वितरण किया।

कथा स्थल पर सजाई छप्पनभोग की झांकी।

X
Sanwariyaji News - rajasthan news the importance of remembrance of the lord
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना