292 खदानाें पर निगरानी के लिए लगाए दो बाॅर्डर होमगार्ड

Chittorgarh News - चित्तौड़गढ़। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के मानपुरा के 292 क्वारी लाइसेंस में खनन कार्य बंद करने संबंधी आदेश की सख्ती...

Feb 15, 2020, 08:01 AM IST
Chittorgarh News - rajasthan news two border home guards deployed for monitoring 292 mines

चित्तौड़गढ़। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के मानपुरा के 292 क्वारी लाइसेंस में खनन कार्य बंद करने संबंधी आदेश की सख्ती से पालना शुरू हो गई। माइनिंग विभाग ने काम बंद कराने के साथ दो बोर्डर होमगार्ड भी लगा दिए। खंडा पत्थर निकालने वाले इस खनन क्षेत्र की आधी से ज्यादा खानें बंद होने से वहां उदासी के साथ सन्नाटा पसर गया।

एनजीटी नई दिल्ली ने प्रतापभानूसिंह शेखावत बनाम खान व भू विज्ञान विभाग व अन्य मामले में बुधवार को हुई सुनवाई में यह अंतरिम आदेश दिया था। जिससे एक झटके में मानपुरा की 292 क्वारी लाइसेंस वाली खदानों में काम बंद हो गया। हालांकि ये लाइसेंस 25 गुना 50 वर्ग फीट के ही है पर ऐसे करीब 550 से अधिक प्लाटस पर होने वाले खनन से खनिज विभाग को सालाना करीब एक करोड़ से अधिक का राजस्व मिलता है। यहां का खंडा पत्थर मुख्य रूप से भवन निर्माण में चुनाई और साधारण फर्शी आदि के काम आता है।

खनन क्षेत्र मानपुरा


565 कुल क्वारी लाइसेंस

292 लाइसेंस में एनजीटी का आदेश प्रभावी

24731 मेट्रिक टन पत्थर उत्पादन प्रति माह

1 करोड 5 लाख सालाना राजस्व माइनिंग विभाग का

10.55 लाख रुपए सालाना डीएमएफटी में

एनजीटी ने सर्वेयर जनरल आफ इंडिया की रिपोर्ट में इन क्वारी लाइसेंस को नगर परिषद सीमा में मानते हुए यह रोक लगाई। हालांकि मानपुरा ग्राम पंचायत क्षेत्र है और माइनिंग विभाग ने सुनवाई में यह दलील भी रखी। एनजीटी ने सर्वे रिपोर्ट के आधार पर फिलहाल खनन कार्य बंद कराने को ही कहा। इसके बाद विभाग अगले दिन ही इसकी पालना में जुट गया। एमई एसएन शर्मा ने चेतावनी पत्र जारी करते हुए संबंधित स्टाफ को पालना सुनिश्चित करने को कहा। िनगरानी के लिए शुक्रवार को वहां दो बार्डर होमगार्ड भी लगा दिए। सर्वेयर जमनाशंकर गुर्जर के अनुसार होमगार्ड दिनभर तैनात रहने के साथ रात में भी राउंड करेंगे। हालांकि खनवालियों ने खुद ही काम बंद कर दिया। वे अब कानूनी प्रक्रिया से ही राहत पाने की कोशिश में है। इसके लिए पत्थर उत्पादक संघ ने बैठक कर रणनीति बनाई। उसका एक प्रतिनिधिमंडल रविवार को दिल्ली भी रवाना होगा। मामले की अगली सुनवाई 28 फरवरी को है। तब खनिज विभाग और लाइसेंसधारी अपना पक्ष रखेंगे।


मानपुरा के 565 क्वारी प्लाटस से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष 15 हजार लोग रोजगार से जुडे हैं। पटटाधारी भी सामान्य व छोटे व्यापारी है। आधे से अधिक प्लाट बंद होने से हजारों लोगों की रोजी रोटी छिन रही है। यहां मैन्युअल खनन से लाइम स्टोन खंडा गिटटी पत्थर निकलता है। ब्लास्टिंग नहीं होती है। मानपुरा पंचायत क्षेत्र होकर गांव है, लेकिन इसे नगर परिषद सीमा में मानकर आदेश दे दिया गया। इसमें जो भी चूक हुई, हम एनजीटी में जाकर मजबूती से बताएंगे।
- खुमानसिंह, अध्यक्ष मानपुरा पत्थर उत्पादक संघ


हम एनजीटी में जाकर अपना पक्ष मजबूती से रखेंगे

X
Chittorgarh News - rajasthan news two border home guards deployed for monitoring 292 mines
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना