--Advertisement--

सिंजारा आज, घेवरों की सजी दुकानें

Chomu News - जिले में रविवार को सिंजारे का पर्व हर्षाेल्लास के साथ मनाया जाएगा तथा सोमवार व मंगलवार को तीज की सवारी निकाली...

Dainik Bhaskar

Aug 12, 2018, 02:35 AM IST
सिंजारा आज, घेवरों की सजी दुकानें
जिले में रविवार को सिंजारे का पर्व हर्षाेल्लास के साथ मनाया जाएगा तथा सोमवार व मंगलवार को तीज की सवारी निकाली जाएगी। इस मौके पर शहर के प्रमुख बाजारों में मेला भी भरेगा। सिंजारे के पर्व को लेकर महिलाओं में शनिवार को काफी उल्लास था और बाजारों में जमकर खरीददारी की। तीज के त्यौंहार पर परंपरानुसार महिलाओं द्वारा पहने जाने वाले परिधान लहरिया की बिक्री भी तेज रही। हालांकि परंपरागत मूठडी लहरिया की मांग कम थी, लेकिन फैंसी लहरिया की बिक्री अधिक रही। इसके अलावा तीज के त्यौंहार पर बड़े चाव से खाए जाने वाले घेवर की बिक्री भी हलवाई की दुकानों पर जमकर हुई।

िकशनगढ़-रेनवाल । रविवार को सिंजारा पर्व को लेकर महिलाओं में काफी उत्सुकता है। सिंजारा व तीज त्यौंहार को लेकर शहर में जगह-जगह घेवर की दुकानें सज गई है। शनिवार को घेवरों की बिक्री में काफी तेजी देखी गई। बाग के बालाजी स्थित एक मिठाई की दुकान वाले ने 20 इंच वृत्ताकार साइज का घेवर बनाकर अनोखा रिकॉर्ड कायम किया है। इस घेवर की खेप को देखने के लिए लोग आ रहे है। मिठाई विक्रेता का दावा है कि इतनी बड़ी साईज का घेवर क्षेत्र में पहली बार बनाया गया है। राजस्थान के लोक पर्व में तीज के त्यौंहार का खास स्थान है। इस त्यौंहार के एक दिन पहले मनाए जाने वाले सिंजारा महोत्सव तो इसमें और चार चांद लगा देता है। सिंजारे की जब चर्चा चलती है, तो इस दिन बाजार में बिकने वाले घेवर का नाम सबसे आगे होता है। बालाजी स्वीट्स एंड नमकीन के संचालक कैलाशचंद, संजय कुमार कुमावत ने बताया कि उनकी दुकान पर काम करने वाले कारीगर भागचंद ने जब उनसे इस अनोखे घेवर की चर्चा की, तो उन्होंने फैसला किया कि वह 20 इंच का घेवर बनाएगा। मूलतः ब्यावर के रहने वाले भागचंद ने इसके लिए विशेष घोल बनाया और सवा घंटे की सिकाई के बाद एक घेवर बना। साधारणतयां बाजार में बिकने वाले छोटे घेवर पांच से सात मिनट में ही तैयार हो जाते है। बिना चीनी के इस 20 इंच वाले एक घेवर का वजन करीब डेढ़ किलो के करीब है और इसमें चीनी पिलाई जाने और रबड़ी लगाई जाती है, तो वजन बढ़कर 3 से 4 किलो हो जाता है। इस अनोखे घेवर को राजस्थानी केशर नाम दिया गया है। मिठाई विक्रेता ने बताया कि इस अनूठे घेवर की पहली खेप में हालांकि केवल 11 घेवर ही बनाए गए है, लेकिन तीज पर्व पर बिकने वाली राजस्थानी मिठाई की बिक्री अभी से परवान चढ़ने लगी है। शहर में बना क्षेत्र का सबसे बड़ा घेवर इस समय कोतूहल का विषय बना हुआ है।

हिरनोदा । कस्बे सहित क्षेत्र में रविवार को सिंजारे का पर्व मनाया जाएगा। सिंजारा पर्व पर नवविवाहितों व सगाई की गई युवतियों का सिंजारा रस्म के तहत गहने, कपड़े, मिठाईयां व घेवर आदि ससुराल पक्ष द्वारा दिए जाएंगे। सोमवार को तीज का पर्व मनाया जाएगा।

बिचून । कस्बे सहित क्षेत्र में रविवार को सिंजारा पर्व धूमधाम से मनाया जाएगा। महिलाओं ने मेहंदी लगाई। सगाई हुई लड़कियों व नवविवाहिताओं के ससुराल पक्ष से सिंजारा आएगा। सभी महिलाओं में सजधज कर गोरी पार्वती व शंकर भगवान की पूजा अर्चना करेगी। इस दौरान घेवरों की बिक्री अधिक हुई। सभी के घरों पर झुले डाले गए।

भैंसावा । कस्बे सहित आसपास के गांवों में रविवार को सगाई हुई कन्याओं व नवविवाहिताओं के ससुराल पक्ष की ओर से सिंजारा डाला जाएगा। सोमवार को तीज का त्यौंहार मनाया जाएगा।

बाघावास । कस्बे सहित आसपास में रविवार को कन्याओं व नवविवाहिताओं के ससुराल वालों की ओर से सिंजारा डाला जाएगा। सिंजारा को लेकर बाजारों में घेवर, फल, कपडों की दुकानों पर खरीददारों की भीड़ रही। सोमवार को तीज का त्यौंहार मनाया जाएगा।

किशनगढ़-रेनवाल. शहर में सिंजारा को लेकर घेवर बनाता कारीगर।

X
सिंजारा आज, घेवरों की सजी दुकानें
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..