• Hindi News
  • Rajasthan
  • Churu
  • Bidasar News rajasthan news an 11 day religious event in gorakhdhune 453 couples made sacrifices in 151 kundiya rudra mahayagya

गोरखधूणे में 11 दिवसीय धार्मिक आयोजन, 151 कुंडीय रूद्र महायज्ञ में 453 जोड़ों ने दी आहुतियां

Churu News - गांव धोरा की ढाणी स्थित गोरखधूणा पर संत पं. रेंवतीरमण आश्रम में महाशिवरात्रि के तहत रूद्र महायज्ञ समिति के सहयोग...

Feb 15, 2020, 07:45 AM IST
Bidasar News - rajasthan news an 11 day religious event in gorakhdhune 453 couples made sacrifices in 151 kundiya rudra mahayagya

गांव धोरा की ढाणी स्थित गोरखधूणा पर संत पं. रेंवतीरमण आश्रम में महाशिवरात्रि के तहत रूद्र महायज्ञ समिति के सहयोग से 151 कुंडीय रूद्र महायज्ञ गुरुवार को यज्ञाचार्य पं. चंद्रशेखर दाधीच के वैदिक मंत्रोच्चार के साथ शुरू हुआ।

यज्ञ में 151 पंडितों के साथ 453 जोड़ों ने आहुतियां दी तथा सुख-समृद्धि की कामना की। यज्ञ के दौरान श्रद्धालुओं ने यज्ञशाला की परिक्रमा भी की। इससे पूर्व सुबह यज्ञस्थल पर शिवयोगी रघुवसपुरी ने शिव पुराण कथा का वाचन करते हुए कहा कि हमें मनुष्य जीवन मिला है, जिसके महत्व को हमें समझना चाहिए। हमें ऐसे कर्म करने चाहिए, जिससे हमें परमात्मा के चरणों में स्थान मिल सके। गाय, गुरु व माता-पिता का स्थान देवतुल्य व पूजनीय है। जो मनुष्य गुरु व माता-पिता का सम्मान करता है वह भगवान को भी अति प्रिय हाेता है। इसी प्रकार श्रीराम कथा का वाचन करते हुए भरत शरण महाराज ने कहा कि भगवान राम की दिव्य कथा संसार के सभी जीवों को जीवन जीने की कला सिखाती है व जीवन की मार्गदर्शक है। हमारे जीवन की ऐसी कोई समस्या नहीं जिसका हल रामायण मे नहीं हो। श्रीराम का चरित्र जितना सरल है, लीला उतनी ही अपार। हमें उनके जीवन से मर्यादित जीवन जीने तथा अपने से बड़ों का आदर-सत्कार करने व माता-पिता की सेवा करने की प्रेरणा लेनी चाहिए।

चूरू मेंे भागवत कथा से पूर्व महिलाओं ने कलश यात्रा निकाली, लोगों ने किया स्वागत

चूरू | श्रीराम मंदिर में शुरू होने वाली भागवत कथा को लेकर शुक्रवार को महिलाओं ने कलश यात्रा निकाली। कलश यात्रा गढ़ स्थित मंदिर से श्रीराम मंदिर तक निकाली गई, जिसमें बड़ी संख्या में महिला व पुरूषों ने भाग लिया। रास्ते में जगह-जगह पुष्प वर्षा कर कथावाचक बाल संत भाेले बाबा (ऋषिकेश) एवं बूंटिया धाम के निरंजननाथ व अन्य संतों का स्वागत किया गया। बैंडबाजों के साथ निकली कलश यात्रा में रास्ते में महिलाएं मंगल गीत गा रही थी। कथा के यजमान लीलाधर राजोतिया, मनोज कुमार राजोतिया, राजकुमार आिद भागवत पुराण लेकर कथा स्थल तक पहुंचे। कलश यात्रा के बाद बाल संत भोले बाबा ने कथा का शुभारंभ किया। पहले दिन बाल संत ने भागवत का महत्व बताया। कथा का रोजाना दोपहर एक से पांच बजे तक आयोजन होगा।

साहवा | अग्रवाल सेवा समिति के नोहरे में चल रही भागवत कथा के दूसरे दिन शुक्रवार को कथावाचक विष्णुकांत शास्त्री ने भगवान शिव द्वारा माता पार्वती को सुनाई गई आत्म कथा का प्रसंग सुनाया गया। कथावाचक ने बताया कि जब भगवान शिव पार्वती को आत्मकथा सुना रहे थे, तब उन्होंने कथा के समापन पर ओंकार बोलने के लिए कहा। मगर कथा सुनते-सुनते माता पार्वती को नींद आ गई।

धर्म समाज**

बीदासर. 151 कंुडीय महायज्ञ में आहुतियां देते यजमान।

X
Bidasar News - rajasthan news an 11 day religious event in gorakhdhune 453 couples made sacrifices in 151 kundiya rudra mahayagya
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना