दो माह पहले घर से निकले बच्चे को परिजनों से मिलवाने में बजरंग दल के कार्यकर्ता बनेंगे कड़ी

Churu News - बजरंग दल कार्यकर्ता तीन महीने बाद फिर बिछड़े एक बच्चे को परिजनों से मिलवाने में अहमद कड़ी बनेंगे। संगठन के...

Bhaskar News Network

Mar 17, 2019, 05:50 AM IST
Sadulpur News - rajasthan news bajrang dal activists will join the family two months ago to bring their children out to the family
बजरंग दल कार्यकर्ता तीन महीने बाद फिर बिछड़े एक बच्चे को परिजनों से मिलवाने में अहमद कड़ी बनेंगे। संगठन के पदाधिकारियों ने रेलवे स्टेशन के पास शनिवार को लावारिश हालत में मिले मानसिक रोगी बच्चे को न केवल अपने पास रखा, बल्कि दिनभर पूछताछ करने के बाद उसके परिजनों को भी ढूंढ लिया। परिजनों को सूचना मिलने पर उन्होंने राहत की सांस ली और वे रविवार को बच्चे को लेने के लिए राजगढ़ पहुंचेंगे।

बजरंग दल के जिला सह संयोजक प्रवीण सरदारपुरा ने बताया कि शनिवार दोपहर 12 बजे रेलवे स्टेशन के पास चाय की दुकान चलाने वाले पवन कुमार व पालिका कर्मचारी जयवीर प्रजापत कालरी ने एक नाबालिग बच्चे के बारे में उन्हें फोन पर सूचना दी। सूचना मिलने पर वे खुद तथा बजरंग दल के प्रखंड संयोजक सुरेंद्र जड़िया, नगर सह मंत्री गोपाल जोशी, प्रखंड सत्संग प्रमुख राजेंद्र पांडिया रेलवे स्टेशन के पास उक्त चाय की दुकान पर पहुंचे। बच्चे से पूछताछ की तो उसने अपना नाम सन्नी कुमार (10) पुत्र नवल कुमार धोबी निवासी सुंदर नगर (लुधियाना) बताया।

रेलवे स्टेशन पर मिला बच्चा।

मानसिक कमजोर है लुधियाना का बच्चा

सन्नी ने पूछताछ के दौरान बताया कि वह घर का रास्ता भूल गया और वह ट्रेन से यहां पहुंचा है। बच्चे से पूछा गया कि अब तुम कौनसी जगह पर हो तो उसने बताया कि मुझे मालूम नहीं, यह कौनसी जगह है। बच्चा मानसिक रोगी है और कभी कुछ, कभी कुछ बता रहा है। प्रवीण सरदारपुरा ने बताया कि पंजाब के लुधियाना शहर के तरेसी थाने में बच्चे के बारे में सूचना दी गई तो थानाधिकारी ने बताया कि बच्चे के परिजन पिछले दो माह से उसे तलाश रहे हैं। बच्चा मानसिक रोगी है। बच्चे के परिजन उसे ढूंढने के लिए अमृतसर गए हुए हैं, जिन्हें सूचना दे दी गई है। बच्चे को फिलहाल सामाजिक कार्यकर्ता मनीष शर्मा के पास रखा गया है। पवन कुमार व जयवीर ने बच्चे को स्नान करवाया, नए कपड़े दिए तथा भोजन करवाया।

तीन माह पहले भी दो बच्चों को परिजनों को सौंपा था : तीन माह पूर्व भी बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने घर से निकले दो बच्चों को शराबी साधुनुमा व्यक्तियों के चंगुल से छुड़ाकर उनके परिजनों से मिलवाया था। दोनों बच्चों को 28 दिसंबर को परिजनों को सौंपा था।

X
Sadulpur News - rajasthan news bajrang dal activists will join the family two months ago to bring their children out to the family
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना