अब थानों को शांतिभंग में गिरफ्तारी के नहीं मिलेंगे नंबर, सड़क हादसे बढ़े तो कट जाएंगे 20 अंक

Churu News - पुलिस थानाें के जरिए जिलाें के कामाें का मूल्यांकन करने के लिए हर महीने तैयार की जाने वाली परफाॅर्मेंस मेजरमेंट...

Feb 15, 2020, 08:06 AM IST

पुलिस थानाें के जरिए जिलाें के कामाें का मूल्यांकन करने के लिए हर महीने तैयार की जाने वाली परफाॅर्मेंस मेजरमेंट समरी (पीएमएस) रिपाेर्ट में डीजीपी ने बदलाव किया है। अब सीआरपीसी की धारा 151 और आईपीसी की धारा 3/25 में गिरफ्तारी करने पर मिलने वाले नंबर थानाें काे नहीं मिलेंगे। चूरू एएसपी योगेंद्र फौजदार ने बताया कि पहले इन दोनों धाराओं में गिरफ्तारी के बाद संबंधित पुलिस थाने को दोनों में अलग-अलग आधा-अाधा यानी एक मामला हाेने पर पूरा एक नंबर मिलता था। इसके विपरीत अब थाना पुलिस को हार्डकोर बदमाशों की प्राॅपर्टी अटैच करने पर 2.5 अंक का तोहफा भी मिलेगा। ये अंक हर प्राॅपर्टी अटैचमेंट पर मिलेंगे।

हादसों में कमी आई तो 20 अंकों का इजाफा : डीजीपी ने थाना इलाके में सड़क हादसे रोकने की जिम्मेदारी भी थानाधिकारी को दी है। थाने में पिछले महीने की तुलना में दूसरे महीने हादसों का ग्राफ 90 से 150 फीसदी तक बढ़ा तो दो नंबर से लेकर 20 नंबर तक कट जाएंगे। अगर हादसाें में 50 फीसदी कमी आई तो उस थाने के खाते में 20 अंकों का इजाफा भी होगा। पहले पीएमएस में इस मद में सिर्फ 5 अंकों की घटत-बढ़त होती थी।

यूं समझें गणित : 18 बिंदुअाें पर मिलते हैं नंबर

थानाधिकारी सत्येंद्र कुमार ने बताया कि अपराधों की स्थिति व पुलिस की कार्यप्रणाली का अांकलन करने के लिए 2015 में मार्किंग सिस्टम लागू किया था। इसमें वारदातों का खुलासा करने और लंबित प्रकरण निस्तारण मामले में थानावार, जिलेवार परफॉर्मेंस मेजरमेंट समरी रिपोर्ट तैयार कराई जा रही है। पुलिस थानों, सर्किल व जिलों के कार्य का मूल्यांकन डीजीपी के निर्देशन में गठित कमेटी करती है। कमेटी 18 बिन्दुओं पर जिलों, सर्किलों व थानों को नंबर देती है।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना