पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Sujangarh News Rajasthan News Road And Platform Will Be Built Up To Garbage Collection Center Problem Will Be Solved On Mud Road And Mud And Marsh

कचरा संग्रहण केंद्र तक बनेगी सड़क व प्लेटफाॅर्म, कच्ची सड़क पर कीचड़ व दलदल की समस्या का होगा समाधान

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ठरड़ा रोड पर नगरपरिषद की ओर से स्थापित किए गए कचरा संग्रहण केंद्र डंपिंग यार्ड तक अब पक्की सड़क व प्लेटफाॅर्म तैयार करवाया जाएगा। केंद्र तक आने के लिए पूर्व में कच्ची सड़क बनी हुई थी, जो बारिश के पानी भराव के कारण अब खराब हो चुकी है तथा रास्ते पर जगह-जगह कीचड़ व दलदल जमा हो गया है। ऐसे में यहां कचरा डालने के लिए पहुंचने वाले वाहनों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है तथा कई बार दलदल में वाहन फंसने से वे खराब भी हो हरे है। बुधवार को सभापति सिकंदर अली खिलजी, आयुक्त बसंत कुमार सैनी, एईएन दिलीपसिंह, एसआई मुन्नालाल मीना व सीवरेज के शाहरूख आदि ने मौके पर पहुंचकर केंद्र की व्यवस्थाओं व आवागमन के रास्ते के बारे में जानकारी ली। सभापति व आयुक्त ने कच्चे रास्ते की स्थिति को देखते हुए मौके पर ही संबंधित अधिकारियों को यहां पर पक्की सड़क निर्माण व प्लेटफाॅर्म निर्माण के लिए जल्द से जल्द प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए।

सुजानगढ़ शहर से प्रतिदिन 20 ऑटोटीपर और 12 ट्रैक्टर-ट्राॅली से एकत्रित करते हैं 75 टन कचरा

सुजानगढ़. नगरपरिषद के सभापति आयुक्त एवं अन्य अधिकारी डंपिंग यार्ड का निरीक्षण करते हुए।

डपिंग यार्ड में कचरा संग्रहण के लिए बड़ा गड्‌ढा बनाने की भी है योजना

नगरपरिषद की ओर से डंपिंग यार्ड में कचरा संग्रहण के लिए बड़ा गड्‌ढा बनाए जाने की भी योजना है, ताकि कचरा संग्रहण के समय किसी प्रकार की परेशानी न हो। इस स्थान पर गड्‌ढा बनाए जाने के बाद ऑटोटीपर व ट्रैक्टर-ट्राॅली के माध्यम से उसमें आसानी से कचरा डाला जा सकेगा।

शहर में प्रतिदिन औसत 75 टन के करीब कचरा एकत्रित होता है, जिसे 20 ऑटोटीपर व 12 ट्रैक्टर-ट्रॉलियों के माध्यम से एकत्र किया जाता है। नगरपरिषद एसआई ने बताया कि एक ऑटोटीपर को प्रतिदिन पांच व प्रत्येक ट्रैक्टर-ट्राली को चार चक्कर कचरा डालने के लिए डंपिंग यार्ड के लगाने पड़ते हैं, ऐसेे में नगरपरिषद के सभी वाहनों को करीब 150 चक्कर डंपिंग यार्ड में कचरा डालने के लिए लगाने पड़ते हैं। इसके अलावा एक डंपर से कचरा एकत्रित कर यार्ड तक पहुंचाया जाता है। डंपर भी कचरा संग्रहण केंद्र के प्रतिदिन दो चक्कर काटता है।

खबरें और भी हैं...