तीन किमी के हेरिटेज वॉक में शामिल पर्यटकों, युवाओं न देखा चूरू का स्थापत्य

Churu News - चूरू. हेरिटेज वॉक में हवेलियों का अवलोकन करते कलेक्टर व अन्य। कलेक्टर हुए हेरिटेज वॉक में शामिल, कहा- चूरू में...

Bhaskar News Network

Oct 12, 2019, 08:20 AM IST
Churu News - rajasthan news tourists youth not seen churu architecture in three km heritage walk
चूरू. हेरिटेज वॉक में हवेलियों का अवलोकन करते कलेक्टर व अन्य।

कलेक्टर हुए हेरिटेज वॉक में शामिल, कहा- चूरू में पर्यटन को बढ़ावा देंगे

भास्कर संवाददाता | चूरू

पर्यटन पर्व के सिलसिले में शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर हुई 3 किमी लंबे हेरिटेज वॉक हुआ, जिसमें देशी-विदेशी पर्यटकों, विद्यार्थियों, नागरिकों एवं अधिकारियों ने भाग लिया। करीब तीन किमी लंबे वॉक में शामिल लोगों ने हवेलियों के भित्ति चित्र, ऐतिहासिक गढ़, अठखंबा छतरी सहित अन्य स्थापत्य कला देखी।

बालिका महाविद्यालय से शुरू हुई वॉक मालजी का कमरा, सुराणा हवेली, अठखंभा छतरी, गढ़ चौराहा, जतीजी का उपासरा (स्वर्ण मंदिर) होते हुए नगरश्री पहुंची। इस दौरान पर्यटन एवं स्थापत्य महत्त्व की हवेलियों का अवलोकन करते हुए कलेक्टर संदेश नायक ने कहा कि रामगढ़, मंडावा, महनसर की तरह चूरू की हवेलियां भी स्थापत्य की दृष्टि से अनुपम है और यहां पर्यटकों के लिए पर्याप्त लोकेशन हैं।

हेरिटेज वॉक मार्ग पर होगी सफाई, रोशनी व बैंच की विशेष व्यवस्था

कलेक्टर ने बताया कि हेरिटेज वॉक मार्ग पर नगर परिषद के जरिए सफाई, रोशनी एवं बैंच आदि की विशेष व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि पर्यटन अधिकारियों एवं पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों से कहा कि वे कोशिश करें कि यहां के किसी पर्यटन स्थल पर नियमित तौर पर शाम को एक कार्यक्रम हो, जिससे लोगों का जुड़ाव निरंतर रूप से यहां के पर्यटन से हो। चूरू जिला पर्यटन मानचित्र पर अधिक प्रभावी ढंग से उभरे, यह हमारी कोशिश रहेगी। कलेक्टर एवं अन्य पर्यटकों, विद्यार्थियों ने इस दौरान नगरश्री म्यूजियम देखा और यहां संग्रहित बहियों, सिक्कों, पांडुलिपियों एवं पुरातत्व महत्त्व की सामग्री को देखकर प्रसन्नता जताई।

चूरू का हवा महल है सुराणा की हवेली, जिसमें 1100 से अधिक खिड़कियां-दरवाजे : इस दौरान पर्यटन विशेषज्ञ अरविंद शर्मा ने पर्यटकों, विद्यार्थियों एवं जिला कलक्टर को हवेलियों, स्मारकों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि सुराणा हवेली में 1100 से अधिक दरवाजे, खिड़कियां हैं, जिसके कारण इसे चूरू का हवामहल कहा जाता है। उन्होंने हवेलियों पर चित्रित भित्तिचित्रों के बारे में भी जानकारी दी। इस दौरान पर्यटन विभाग के सहायक निदेशक कृष्ण कुमार, पर्यटन अधिकारी पुष्पेंद्र सिंह, बालिका महाविद्यालय प्राचार्य डॉ एलएन आर्य, एनएसएस प्रभारी कविता पंसारी, पीआरओ कुमार अजय, आनंद बालाण, श्यामसुंदर शर्मा सहित संबंधित अधिकारीगण मौजूद थे।इससे पहले कलेक्टर ने बालिका महाविद्यालय से हरी झंडी दिखाकर वॉक को रवाना किया एवं स्वयं भी पूरी वॉक के दौरान पैदल चलकर शहर के स्थापत्य को निहारा।

X
Churu News - rajasthan news tourists youth not seen churu architecture in three km heritage walk
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना