• Hindi News
  • Rajya
  • Rajasthan
  • Churu
  • Churu News rajasthan news twenty two employees out of 17 in the urban dabla phc awarded twice in the rejuvenation award found in the attire not found on 5 duties

दो बार कायाकल्प पुरस्कार से सम्मानित शहरी डाबला पीएचसी में 17 में से सिर्फ दो कर्मचारी निर्धारित पोशाक में मिले, 5 ड्यूटी पर नहीं मिले

Churu News - मेडिकल कॉलेज से जुड़ी और कायाकल्प पुरस्कार में दो बार उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली शहरी पीएचसी डाबला के हालात बेहद...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:45 AM IST
Churu News - rajasthan news twenty two employees out of 17 in the urban dabla phc awarded twice in the rejuvenation award found in the attire not found on 5 duties
मेडिकल कॉलेज से जुड़ी और कायाकल्प पुरस्कार में दो बार उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाली शहरी पीएचसी डाबला के हालात बेहद खराब है। निरीक्षण में न साफ सफाई मिली और न ही कर्मचारी निर्धारित पोशाक में मिले।

हैरानी बात ये है कि हाल ही में पूरे शेखावाटी में पहले नंबर पर और बीकानेर संभाग में दूसरे नंबर पर और पिछले साल प्रदेश में छठी रैंक हासिल कर पुरस्कार लाने वाली पीएचसी की सफाई व्यवस्था भगवान भरोसे मिली। राष्ट्रीय गुणवता आश्वासन योजना तथा एनसीडी कार्यक्रम के सफलतापूर्वक संचालन की मॉनीटरिंग करने के लिए किए गए अवलोकन में डॉक्टर सहित पांच कर्मचारी नहीं मिले। कुल 17 कर्मचारियों में से सिर्फ दो कर्मचारी ही निर्धारित गणवेश में मिले। एसीएमएचओ डॉ. भंवरलाल सर्वा के नेतृत्व में टीम ने पीएचसी का अवलोकन किया। साथ ही डॉ. अरविंद तंवर के अवकाश पर रहने के चलते तीन दिन के लिए वैकल्पिक तौर पर लगाए गए डॉ. अमरसिंह दूत खुद अनुपस्थित मिले, इनके सहित फार्मासिस्ट, जीएनएम व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी भी अनुपस्थित मिले।

जिम्मेदारों काे नोटिस : अस्पताल की सफाई व्यवस्था पूरी तरह से खराब मिली। टीम ने चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी को हटाकर दूसरे को लगाने बात कही। दवाइयां बिखरी हुई मिली, वहीं फ्रीज में दवाईयों की जगह पानी की बोतल मिली। भर्ती वार्ड में भी सफाई नहीं मिली। अस्पताल का स्टोर रूम कबाड़ खाने की तरह मिला। पूरा सामान बिखरा हुआ था, जिस पर भी टीम ने कड़ी नाराजगी जताई। अव्यवस्थाओं पर जिम्मेदार कर्मचारियों को कारण बताओ नोटिस दिए गए।

स्क्रीनिंग पूछताछ में नहीं मिले संतोषजनक जवाब : उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डा. देवकरण गुरावा ने महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को एनसीडी कार्यक्रम के तहत डोर टू डोर की जाने वाली स्क्रीनिंग के बारे में पूछा तो वे संतोषजनक जवाब नहीं दे पाई। डाटा एंट्री ऑपरेटर द्वारा किसी प्रकार की ऑनलाइन फीडिंग भी नहीं की गई। शहरी जिला कार्यक्रम प्रबंधक संग्राम सिंह राठौड़ व जिला एनसीडी कार्यक्रम सलाहकार प्रेम शर्मा भी निरीक्षण के दौरान मौजूद थे।

चूरू. निर्धारित गणवेश में नहीं मिलने वाले कर्मचारियों के साथ टीम।

भास्कर तत्काल : सीएमएचओ साहब! हर पीएचसी-सीएचसी में ऐसे हालात हैं...इनमें सुधार करवाएं

डाबला पीएचसी के हालात तो महज उदाहरण है, अगर जिले की अन्य सीएचसी-पीएचसी की रिपोर्ट तैयार की जाए तो इससे भी भयानक स्थिति है। समय-समय पर मॉनीटरिंग नहीं होने से यहां तैनात कर्मचारी अपनी मनमर्जी से काम करते है। इस तरह की शिकायतें भी लगातार मिलती है। भास्कर की ग्राउंड रिपोर्ट में पता लगा है कि सीएचसी-पीएचसी में सफाई व्यवस्था भगवान भरोसे है। कई बार हुए निरीक्षण में ऐसा सामने भी आया है। कई जगह तो कर्मचारियों ने आपस में इस तरह सैटिंग कर रखी है, कि वे अपने हिसाब से ही ड्यूटी करते हैं।

X
Churu News - rajasthan news twenty two employees out of 17 in the urban dabla phc awarded twice in the rejuvenation award found in the attire not found on 5 duties
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना