Hindi News »Rajasthan »Dausa» जलदाय विभाग चुस्त नहीं, एक साल में तीन एसई बदले, हैंडपंप ही अब सहारा

जलदाय विभाग चुस्त नहीं, एक साल में तीन एसई बदले, हैंडपंप ही अब सहारा

सोमवार को हुई जिला परिषद की साधारण सभा में बिजली पानी संकट को लेकर सदस्यों ने अधिकारियों को जमकर खरी खोटी सुनाई।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 02:15 AM IST

जलदाय विभाग चुस्त नहीं, एक साल में तीन एसई बदले, हैंडपंप ही अब सहारा
सोमवार को हुई जिला परिषद की साधारण सभा में बिजली पानी संकट को लेकर सदस्यों ने अधिकारियों को जमकर खरी खोटी सुनाई। कलेक्टर नरेश कुमार शर्मा ने कहा कि जलदाय विभाग की मशीनरी चुस्त दुरुस्त नहीं है। एक साल में तीन एसई बदल चुके हैं। जिले में पानी के संकट का समाधान नहीं होने पर आक्रोशित सदस्यों ने बैठक में जमकर हंगामा किया। सदस्यों का कहना था कि गांवों में हैंडपंप सूख गए हैं। एकल पाइंट खराब पड़े हुए हैं। वहीं जनता जल योजना के बिल जमा नहीं होने से कनेक्शन कटे हुए हैं। बारिश के बिना कुएं तालाब सूख चुके हैं। ऐसे में मवेशियों के लिए पानी का कोई साधन नहीं रहा।

साबो देवी ने कहा कि या तो अधिकारी गर्मी में समस्या का समाधान कराएं अन्यथा हमारा इस बैठक में आने का कोई औचित्य नहीं है। महेश सैनी ने कहा कि वे जिला परिषद सदस्य बने तब भी पानी की समस्या थी और आज भी हैं। सदस्यों ने अधिकारियों से यहां तक कह दिया कि कागजों में ही हैंडपंप लगाए जाते हैं और कागजों में ही मरम्मत हो रही है।

महिला सदस्य बोलीं

दौसा. जिप की सधारण सभा को संबोधित करती जिला प्रमुख गीता खटाणा।

बिजली कटौती पर आक्रोश : गांवों में बिजली नहीं आने पर सदस्यों ने भारी आक्रोश जताया। उन्होंने कहा कि जले हुए ट्रांसफार्मर बदले नहीं जा रहे हैं। घंटों अघोषित कटौती की जा रही है। बिजली निगम के अधिकारी कनेक्शन व ट्रांसफार्मर के लिए ठेकेदारों के माध्यम से चौथ वसूली कर रहे हैं। बिजली निगम के एसई ने कहा कि ऐसे प्रकरण उनके सामने लाए जाएं, जिस पर कड़ी कार्रवाई होगी।

डीलर नहीं देता राशन : कविता बैरवा ने कहा कि गुल्लाना में डीलर की दादागिरी से लोग त्रस्त हैं। इंस्पेक्टर का नाम लेकर डीलर लोगों को धमकी देता है और राशन बांटने में मनमर्जी करता है।

गत बैठक के निर्णय नहीं हुए लागू : सदस्यों का कहना था कि गत बैठक में लिए गए निर्णय लागू नहीं होते। अधिकारी झूठी पालना रिपोर्ट पेश करते हैं, जबकि ग्राउंड में स्थिति यथावत है। स्कूलों में बालकों को पानी नहीं मिलता। हैंडपंप सुधारने के लिए मिस्त्रियों को सामान मुहैया नहीं कराया जाता। सड़कों की हालत नहीं सुधारी गई। अस्पताल और पशु केंद्रों पर दवाएं नहीं मिल रही हैं।

पानी की समस्या का समाधान करवाओ, नहीं तो हमारा इस बैठक में आने का कोई औचित्य नहीं रह जाएगा, अस्पतालांे में नहीं मिलती दवाइयां

अधिकारियों के रवैए पर जिला प्रमुख ने नाराजगी जताई : जिला प्रमुख गीता खटाणा ने अधिकारियों के रवैए पर नाराजगी जताते हुए कहा कि बैठक में लिए निर्णयों की पालना एवं सदस्यों के उठाए मुद्दों पर कार्रवाई नहीं करने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए लिखेंगे।

ठेकेदार दे रहे झूठी जानकारी

बिजली-पानी के अधिकारी बदलते रहते हैं। अधिकारियों के पास एक ही जुमला है कि दिखाते हैं। इन महकमों में दलाल हावी होने व ठेके पर काम देने से भी कार्रवाई नहीं हो पाती है। ठेकेदार काम पूरा किए बिना ही अधिकारियों को झूठी रिपोर्ट दे देते हैं। गीता खटाणा, जिला प्रमुख

निगरानी रखी जाएगी

जलदाय विभाग की मशीनरी चुस्त दुरुस्त नहीं है। एक साल में तीन एसई बदल चुके हैं। जिले में पानी की गंभीर समस्या है। इसके निराकरण के लिए विशेष मॉनीटरिंग कर टाइम टू टाइम हैंडपंप ठीक कराए जाएंगे। फील्ड में तैनात मिस्त्रियों पर भी निगरानी रखी जाएगी। नरेश कुमार शर्मा, कलेक्टर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dausa

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×