• Home
  • Rajasthan News
  • Dausa News
  • Dausa - दस दिन से बिजली सप्लाई बंद, लोगों में आक्रोश
--Advertisement--

दस दिन से बिजली सप्लाई बंद, लोगों में आक्रोश

भास्कर न्यूज | दौसा ग्रामीण ग्राम पंचायत बाणेकाबरखेड़ा के बैरावास रैगरान गांव में ट्रांसफार्मर जलने से दस दिन...

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 02:30 AM IST
भास्कर न्यूज | दौसा ग्रामीण

ग्राम पंचायत बाणेकाबरखेड़ा के बैरावास रैगरान गांव में ट्रांसफार्मर जलने से दस दिन से बंद पड़ी बिजली सप्लाई के विरोध में आखिरकार मंगलवार को लोगों का गुस्सा फूट पड़ा।

बिजली पानी की समस्या से त्रस्त ग्रामीणों ने बिजली निगम के अधिकारियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर विरोध प्रर्दशन किया। हीरालाल रैगर, रविकुमार, राधेश्याम, गंगासहाय, घासीलाल सहित अनेकों लोगों ने आक्रोश व्यक्त करते हुए बताया कि दस दिन पहले गांव में लगा ट्रांसफार्मर तेज धमाके के साथ जल गया था। उसके बाद से ही पूरे गांव की बिजली सप्लाई बंद हो गई। जिसकी सूना बिजली निगम कार्यालय दौसा व कालाखोह सब स्टेशन पर कार्यरत कनिष्ठ अभियंता को दस दिन में करीब दो सो बार फोन करके सूचना दे दी, लेकिन जेईएन द्वारा सिर्फ एक ही रटा रटाया जवाब दिया जा रहा है कि अभी आधे घंटे में कर्मचारियों को भेजकर ट्रांसफार्मर नीचे उतराता हूं।

ट्रांसफार्मर जमा होते ही नया ट्रांसफार्मर स्वीकृत कर दिया जावेगा। लोगों ने बताया कि एक और सरकार में बैठे अधिकारी जलने के बाद 72 घंटे में नया ट्रांसफार्मर उपलब्ध किए जाने के दावा कर रहे है। वहीं दूसरी ओैंर गांव में जले ट्रांसफार्मर की सूचना निगम के जेईएन व एईएन को दिए जाने के बाद भी जले पड़े ट्रांसफार्मर की सुध तक नहीं ली जा रही है। मजबूरन लोगों को बारिश के मौसम में अंधेर में रहने को विवश होना पड़ रहा है। दूसरे गांव से सिर पर मटकिया रखकर पीने का पानी लाने को विवश।

कुएं व हैडपंप जल स्तर नीचे चले जाने के कारण सूख चुके हैं। मजबूरन भौंर होने के साथ ही दो मटके पानी के लिए दूसरे गांव को जाना पड़ रहा है। इनका कहना है कि कनिष्ठ अभियंता रामकेश सैनी का कहना है कि ग्रामीणों की शिकाय मिलते ही कर्मचारियों को भेजकर ट्रांसफार्मर को खंभे से नीचे उतवारकर फलीयर रिर्पोट बनवाई है। शीघ्र ही नया ट्रांसफार्मर जारी कर सप्लाई चालू करा दी जावेगी।

ग्राम पंचायत बाणेकाबरखेड़ा के बैरावास रैगरान गांव में दस दिन पहले जला था ट्रांसफार्मर

दौसा (ग्रामीण). बिजली नहीं आने से परेशान ग्रामीण विरोध करते हुए।