सैंथल से 3 जिलों को बेरोकटोक सप्लाई हो रही है अवैध बजरी

Dausa News - कस्बे के आस पास क्षेत्र में अवैध बजरी खनन का कारोबार बड़े पैमाने पर बढ़ता जा रहा है। यहां तक कि रात के समय भी बजरी का...

Dec 04, 2019, 12:15 PM IST
Senthal News - rajasthan news 3 districts are getting free supply of illegal gravel from santhal
कस्बे के आस पास क्षेत्र में अवैध बजरी खनन का कारोबार बड़े पैमाने पर बढ़ता जा रहा है। यहां तक कि रात के समय भी बजरी का खनन करते हैं।

दौसा, जयपुर व अलवर सीमा पर अवैध बजरी खनन के ट्रैक्टर बेरोकटोक दौड़ रहे हैं, लेकिन कोई भी इनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए सक्षम नहीं है। खनन विभाग द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किए जाने से खनन माफियाओं को हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। यदि कभी कार्रवाई भी करते हैं तो अवैध खनन कर्ताओं को पहले ही सूचना मिल जाती है और मौके से फरार हो जाते हैं, जिससे कार्रवाई न के बराबर हो पाती है। कस्बे से निकली अवैध बजरी 3 जिलों की सीमाओं पर बिना किसी रोक-टोक के ले जाई जा रही है। पुलिस मुख्यालय द्वारा अवैध बजरी खनन के मामलों में थाना पुलिस को बजरी के ट्रैक्टर नहीं पकड़ने के निर्देश देने के कारण पुलिस प्रशासन के हाथ पैर बंध गए हैं, जिससे वे अवैध बजरी खनन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर पा रहे ऐसे में ट्रैक्टर चालक बिना किसी रोक-टोक के थानों के सामने से गुजर कर अवैध बजरी खनन के कारोबार को बढ़ावा दे रहे हैं। खनन विभाग द्वारा कई बार कार्रवाई की जाती है, लेकिन कार्रवाई के नाम पर कुछ भी हासिल नहीं होता और अवैध बजरी खनन बढ़ता ही जा रहा है।

कस्बे की नदी से लेकर करीब 4 किमी एरिया के अंदर इतना अवैध खनन हो रहा है कि 50 से 60 फुट गहरे गड्ढे हो गए। कभी भी कोई भी घटना घटित होने का अंदेशा बना रहता है। पूर्व में भी कई घटनाएं घटित हो चुकी हैं, लेकिन उन मामलों को किसी के सामने आने के बजाय दबा दिया जाता है। सैंथल से काबलेश्वर, बिशनपुरा, हबीब वाला जाने वाले कच्चे रास्ते ट्रैक्टर चालकों द्वारा खराब कर दिए गए हैं, जिससे पैदल चलने वाले राहगीरी मोटर साइकिल सवार साइकिल सवारों का निकलना दूभर हो रहा है।

करीब 2 वर्ष पूर्व राजस्व विभाग द्वारा तहसीलदार के निर्देश पर पटवारियों को गिरदावर ओं को अवैध बजरी खनन की जगह चिन्हित करने के निर्देश दिए थे, उनकी सूची बनाकर पटवारियों द्वारा तहसीलदार को सौंप दी गई, लेकिन वह भी मामला ठंडे बस्ते में चला गया। कोई कार्रवाई आज तक नहीं हो पाई। अवैध बजरी खनन से पर्यावरण को नुकसान होने व जल स्तर नीचे गहरा जाने के कारण क्षेत्र में पानी की समस्या का संकट बना हुआ है। सूचना होने पर भी कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। अब किसान अपने खेतों को 5 से 7 लाख रुपए तक ठेकेदारों को बेच रहे हैं। इससे अवैध खनन के कारोबार दिन-ब-दिन बढ़ोतरी होती जा रही है।

रहता है दुर्घटना का अंदेशा

ट्रैक्टर चालक कस्बे के अंदर से बेरोकटोक तेज गति में ट्रैक्टरों को दौड़ाकर अवैध बजरी ले जाते हैं, जिससे कोई भी भयंकर दुर्घटना घटित होने का अंदेशा बना रहता है। 3 विभाग मिलकर भी इस कार्य को रोक पाने में असमर्थ हो रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि अवैध बजरी खनन से कस्बे के लोगों को भी महंगी बजरी मिल रही है, जिसकी कीमत ढाई हजार से तीन हजार है। बाहर से आने वाले ट्रैक्टर चालकों द्वारा अवैध बजरी खनन ले जाकर अपने क्षेत्र में महंगे भाव में बेच रहे हैं।

पूर्व में हुई थी कार्रवाई

5 सितंबर 2018 को रायसर पुलिस चौकी द्वारा सैंथल से जा रही 17 अवैध ट्रैक्टर जब्त कर कार्रवाई की थी। उसके बाद दुब्बी पुलिस चौकी ने भी सैंथल से अवैध बजरी खनन के ट्रैक्टर 8 जब्त कर कार्रवाई की थी, लेकिन इस क्षेत्र में यहां कोई भी इतनी बड़ी कार्रवाई नहीं हो पाने से लोगों में अधिकारियों के खिलाफ साठगांठ के खेल का अंदेशा है। क्षेत्र में इतने बड़े पैमाने पर अवैध बजरी खनन होने के बाद भी खनन विभाग द्वारा कोई ठोस कार्रवाई नहीं की जा रही है। अवैध बजरी खनन से सरकार को राजस्व की हानि हो रही है।

सैंथल उप तहसील के नायब तहसीलदार कैलाश चंद मीणा ने बताया कि खातेदारी जमीन में अवैध बजरी खनन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

सैंथल| बजरी खनन से हुए गहरे गड्ढे। इनसे भूजल का स्तर गहराता जा रहा है।

सैंथल| अवैध खनन कर बजरी लेते जाते ट्रैक्टर ट्राली।

Senthal News - rajasthan news 3 districts are getting free supply of illegal gravel from santhal
X
Senthal News - rajasthan news 3 districts are getting free supply of illegal gravel from santhal
Senthal News - rajasthan news 3 districts are getting free supply of illegal gravel from santhal
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना