यह तो लापरवाही...सामान खरीदने उमड़ी भीड़

Dausa News - कोरोनाअलर्ट कोरोना वायरस के प्रभाव को रोकने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रविवार को जहां...

Mar 24, 2020, 08:51 AM IST
कोरोना
अलर्ट


कोरोना वायरस के प्रभाव को रोकने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर रविवार को जहां महवा पूर्णता बंद रहा लेकिन दूसरे ही दिन सोमवार को लॉक डाउन का मिलाजुला असर रहा। हालांकि नगर पालिका प्रशासन द्वारा परचून की दुकानों व फल सब्जियों के ठेलो के खुलने की छूट दी गई थी लेकिन इन सबके अलावा शहर के बाजारों में दुकानदारों ने अन्य वस्तुओं की भी दुकानें खोल ली। जिसके चलते तहसील रोड, भरतपुर रोड और रामगढ़ रोड पर अनेक दुकानें खोले जाने की जानकारी मिली है। यही नहीं शहर के मुख्य बाजार में परचून की दुकानों के अलावा अधिकतर दुकानें दोपहर 12 बजे से 2 बजे तक खुली रही। ऐसे में लॉकडाउन का असर फीका नजर आया। जानकारी के अनुसार जहां सुबह 7 से 9 बजे तक सब्जी और फल विक्रेताओं की दुकानें खुली तो वहां भी लोगों की भारी भीड़ लग गई ऐसे ही हालात दोपहर 12 बजे जब बाजार में दुकानें खुली तो लोग खरीददारी के लिए टूट पड़े।

देखते ही देखते शहर का प्रमुख बाजार भीड़ से खचाखच भर गया। लॉक डाउन के साथ ही नगर पालिका ने सब्जी मंडी के लिए 3 घंटे खुली रखने की छूट दे रखी है। हालांकि राज्य सरकार ने भी सब्जी की दुकानों पर प्रतिबंध नहीं लगाया है। लेकिन सब्जी खरीदते समय लोगो के बड़ी तादात में इकट्ठे होने से कोरोना का खतरा कुछ समय के लिए बरकरार रहा। इस बीच देर तक दुकानें खोलने की सूचना पर पहुंची नगर पालिका व पंचायत समिति की टीम ने दुकानदारों को दुकानें बंद कर निर्धारित समय पर ही दुकानें खोलने का बंद करने के निर्देश दिए। इसके अलावा भी लॉक डाउन के दौरान लोगों की हल्की चहल-पहल बनी रही।

परचून व फल सब्जी दुकानों के खुलने का समय बदला

अधिशासी अधिकारी तेजराम मीणा ने बताया कि लोक डाउन के दौरान राशन परचून व फल सब्जियों के वितरण का समय बदला गया है जिसमें परचून की दुकाने अब सुबह 7 से 10 बजे तक व फल व सब्जियों की दुकाने साय 5 से 7 बजे तक खुलेगी। निर्धारित समय के बाद दुकानें खुली रखने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। इधर चिकित्सा अधिकारी डॉ दिनेश मीणा ने बताया कि मंगलवार से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खुलने का समय प्रातः 9 से बजे तक रहेगा।

इधर... कोरोना वायरस के लिए कलेक्ट्रेट में कंट्रोल रूम बनाया

दौसा| जिला मजिस्ट्रेट अविचल चतुर्वेदी ने बताया कि जिले में कोरोना वायरस ( कोविड 19) की रोकथाम ही इस बीमारी से बचाव का सर्वोतम उपाय हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस को रोेकने के लिए कलेक्ट्रेट के कमरा नंबर 227 में कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया हैं, जिसके दूरभाष नम्बर 01427-224903 हैं। उन्होने बताया कि कंट्रोल रूम तीन पारियों में संचालित रहेगा। कन्ट्रोल रूम के संपूर्ण प्रभारी अधिकारी जगदीश निर्वाण होंगे। जिनके मोबाइल नम्बर 9114443869 हैं। उन्होंने बताया कि प्रथम पारी सुबह 6 से दोपहर 2 बजे तक, जिसके प्रभारी अशोक शर्मा एपीसी समसा होंगे। मोबाइल नम्बर 9530035835 हैं। प्रथम पारी में लोकेश कुमार शर्मा होगें, जिनके मोबाइल नम्बर 9785646865 है तथा सीताराम शर्मा सहायक कर्मचारी होंगे। द्वितीय पारी दोपहर 2 से रात्रि 10 बजे तक रहेगी, जिसके प्रभारी अधिकारी राजीव शर्मा होंगे, जिनके मोबाइल नंबर 9460760930 हैं। द्वितीय पारी में पवन कुमार सैन एवं विजय सिंह गुर्जर सहायक कर्मचारी होंगे। तृतीय पारी रात्रि 10 से सुबह 6 बजे तक रहेगी, जिसके प्रभारी गंगलहरी शर्मा होंगे, जिनके मोबाइल नम्बर 9414271669 है। भरत सिंह गुर्जर एवं जगदीश प्रजापत को लगाया हैं।

लोगों को निशुल्क मास्क वितरित किए

दौसा| कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन का सहयोग करने के लिए स्वयं सेवी संस्थाएं व विभिन्न संगठन आगे आने लगे हैं, जिसमें लोगों को मास्क का निशुल्क वितरण किए जा रहे हैं। संत सुंदरदास खंडेलवाल वैश्य स्मारक समिति के उपाध्यक्ष लक्ष्मीनारायण रावत की ओर से सुभाष कॉलोनी में नगर परिषद के आरआई समयसिंह मीणा की उपस्थिति में करीब 11 सौ मास्क का निशुल्क वितरण किया गया।

सब्जी वालों को देख दूसरे व्यापारियों ने भी खोली दुकानें

महवा| लॉक डाउन के दौरान सोमवार को बाजार में परचूनी सामान की खरीदारी करने उमड़े लोग।

कार्यालय संवाददाता | दौसा

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन रहा। वहीं सोमवार को जिले में कोरोना वायरस से बेखौफ राशन-दूध-सब्जी की दुकानों पर लोगों की भीड़ रही। सड़कें सूूनी रही। पुलिस प्रशासन ने सख्ती बरतना शुरू कर दिया है। सड़कों पर बेरिकेड्स लगाकर बाहर से आने वाले एवं बेवजह घूमने वाले दुपहिया चालकों को रोक दिया। लाँक डाउन के चलते बाजारों में दुकानें, कार्यालय, फैक्ट्री एवं अन्य संस्थान बंद रहे। आवश्यक सेवाओं को छोड़कर अधिकांश लोग घरों में ही रहे, लेकिन बाहर से आने वाले व बेवजह घूमने वाले दुपहिया चालकों को पुलिस ने वापस लौटा दिया। पुलिस ने गांधी तिराहा, लालसोट रोड, पुरानी चुंगी, सोमनाथ चौराहा, सैंथल मोड़ पर बेरिकेड्स लगाकर लोगों की बेवजह आवाजाही रोकी। ट्रेन, रोडवेज, जीप, निजी बसें, ऑटो रिक्शा, टैक्सी आदि पूरी तरह बंद रहे। रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड सहित शहर के सभी बाजार बंद रहे।

प्रशासन ने माइक पर मुनादी कराई

लोगों को घरों से बाहर नहीं आने के लिए प्रशासन ने माइक पर मुनादी कराई। पूरे शहर में वाहन घुमाकर माइक पर घोषणा कराई कि लोग बिना वजह घरों से नहीं निकलें। लोगों ने दूध, सब्जी व परचून के सामान की खरीदारी की, लेकिन आपस में दूरी बनाते हुए जरूरी सामान खरीदा। अधिकांश लोग मास्क या स्कार्फ लगाकर ही निकले। बेवजह भीड़भाड़ नहीं होने दी गई। सब्जी मंडी में भी दुकानदार कम थे, वहीं लोगों की भीड़ नहीं हुई।

अस्पताल में मरीजों की कमी

जिला अस्पताल में मरीजों की संख्या बहुत कम रही। रोजाना औसतन दो हजार के आउटडोर के चलते पहले भीड़ रहती थी, लेकिन अब चौथाई मरीज ही पहुंचे। अस्पताल भवन के बाहर टैंट में बनाए ओपीडी में मरीजों की जांच की गई। दवा वितरण भी बाहर उपभोक्ता भंडार से किया गया।

बांदीकुई| कोरोना वायरस का खौफ सोमवार को भी बरकरार रहा। शहर में 70 प्रतिशत बाजार बंद रहे। आवश्यक सेवाओं की दुकानें खुली तो लोग खरीददारी के लिए उमड़ पड़े। लेकिन शहर के नई सब्जी मंडी में उमड़ी भीड़ के हालात देखकर लोग कोरोना से लड़ाई कैसे जीत पाएंगे ये सोचने को मजबूर हो गए। कोरोना वायरस खौफ के चलते प्रशासन द्वारा 31 मार्च तक लॉकडाउन करने का एलान किया है। सोमवार को प्रशासन ने शहर में सब्जी, दूध, किराना व मेडिकल स्टोर की दुकाने खोलने की परमिशन दी । शहर में दिनभर किराना की दुकान पर खरीददारी करने के लिए भीड़ उमडी। इसी प्रकार सुबह के समय लोग डेयरी पर दूध लेने भी पहुंचे। कोरोना वायरस खौफ के चलते सोमवार को सब्जी मंडी खुलने के बाद यहां सुबह से ही सब्जी खरीदने के लिए लोगों की भीड़ उमडी। यहां भीड अधिक होने के कारण संक्रमण फैलने का अंदेशा बना रहा। सब्जी खरीदने के लिए भीड़ के रूप में उमड़े। अधिकांश के चेहरे पर न तो मास्क था और नही सेनेटाइजर। इतना ही नहीं लोग आपस मंें भीड़ कर चलते दिखाई दिए। इस नजारे ने यहां से गुजर रहे लोगों को सोचने के लिए मजबूर कर दिया की ऐसे हालातों में हम कोरोना से लडाई कैसे जीत पाएंगे।

बाहर से आए लोगों की निगरानी के लिए ग्राम पंचायत स्तर पर टीम का गठन

बांदीकुई| ग्राम पंचायत क्षेत्रों में बाहर से व संदिग्ध क्षेत्रों से आए लोगों की प्रभावी निगरानी के लिए एसडीएम ने ग्राम पंचायत स्तर पर टीमों का गठन किया है। एसडीएम पिंकी मीणा ने बताया कि टीम में अध्यक्ष राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल के प्रधानाध्यापक, सचिव ग्राम विकास अधिकारी व कनिष्ठ सहायक व सदस्यों के रुप में भू अभिलेख निरीक्षक व पटवारी, कृषि पर्यवेक्षक, एएनएम, आशा सहयोगिनी व आंगनबाडी कार्यकर्ता को शामिल किया है। इस टीम के सदस्य सुबह 9 से 11 बजे तक, दोपहर 12 से 2 बजे तक ग्राम सचिव ग्रामीण क्षेत्र में व शहरी क्षेत्र में भू अभिलेख निरीक्षक, दोपहर 2 से शाम 4 बजे तक स्कूल के सदस्य व शाम 4 से 7 बजे तक आशा सहयोगिनी बाहर से आए लोगों की प्राथमिक स्क्रीनिंग करेगी।

सब्जी मंडी के हालात को देख प्रशासन को कदम उठाने की जरूरत

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना