पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Dausa News Rajasthan News Three Months Were Spent In Tihar Jail In Protest Against Section 370

धारा 370 के विरोध में तीन माह तिहाड़ जेल में रहे थे दौसा के बढ़ेरा

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जम्मू कश्मीर में धारा 370 लागू करने के विरोध में श्यामाप्रसाद मुखर्जी के साथ दौसा के गोरधन बढ़ेरा ने भी आंदोलन में भाग लिया था। बढ़ेरा वर्ष 1953 में अटल बिहारी वाजपेयी के साथ तीन माह तक तिहाड़ जेल में बंद रहे थे। कच्छ सत्याग्रह के दौरान भी बढ़ेरा गुजरात की सदनवाड़ी जेल में रहे थे।

अब जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने पर उन्होंने कहा कि मुखर्जी का बलिदान और कार्यकर्ताओं की मेहनत व्यर्थ नहीं गई। उन्होंने कहा कि धारा 370 के विरोध में उनके साथ लालसोट के हरिनाराय चौधरी भी तिहाड़ जेल में रहे थे। उस जमाने के उनके साथी कार्यकर्ता अब राजस्थान में गिनती के 10 भी नहीं मिलेंगे। वर्ष 1932 में गोरधन के त्योहार पर जन्मे बढ़ेरा की 87 वर्ष की आयु होने पर भी केंद्र सरकार के फैसले पर बढ़ेरा पूरी तरह उत्साहित दिखाई दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी और भैरोंसिंह शेखावत के साथ संघ और जनसंघ में रहे। दौसा में वर्ष 1946 में संघ की शाखा लगाई। दौसा में जनसंघ के संस्थापक सदस्य रहे। वर्ष 1977 में इमरजेंसी के दौरान जयपुर जेल में रहे। जिस पर उन्हें लोकतंत्र सेनानी का दर्जा मिला। बढ़ेरा ने कहा कि पाक अधिकृत कश्मीर पर भी हमारा हक होना चाहिए।

जेल में भी लगाई थी शाखा

लालकृष्ण आडवाणी के साथ जयपुर के गोपाल जी का रास्ता स्थितत कार्यालय में बढ़ेरा ने कार्य किया। अटल बिहारी वाजपेयी के साथ ताशकंद समझौते के विरोध में बढ़ेरा ने बाड़मेर में सत्याग्रह किया। वर्ष 1953 से 77 तक संघ के सभी आंदोलनों में सक्रिय रहे। इमरजेंसी के दौरान बेटी के ब्याह का सामान खरीदने जयपुर गए थे, वहीं से जेल में चले गए। उन्होंने जेल में भी संघ की शाखा लगाई। भंवरलाल शर्मा के साथ इमरजेंसी में वेश बदलकर प्रचार करते थे।

खबरें और भी हैं...