• Hindi News
  • Rajasthan
  • Devgarh
  • ड्रेस कोड में आते हैं पांता की आंती मिडिल स्कूल के शिक्षक
--Advertisement--

ड्रेस कोड में आते हैं पांता की आंती मिडिल स्कूल के शिक्षक

Devgarh News - सांगावास पंचायत के पांता की आंती गांव के उत्कृष्ट उच्च प्राथमिक स्कूल में शिक्षक ड्रेस कोड में आते हैं। इस अनूठी...

Dainik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:25 AM IST
ड्रेस कोड में आते हैं पांता की आंती मिडिल स्कूल के शिक्षक
सांगावास पंचायत के पांता की आंती गांव के उत्कृष्ट उच्च प्राथमिक स्कूल में शिक्षक ड्रेस कोड में आते हैं। इस अनूठी पहल से स्कूल को जिले में नई पहचान मिली है। शिक्षकों के सहयोग से स्कूल में पर्यावरण संरक्षण पर भी काम हुआ है। इस पर स्कूल के शिक्षकों को सम्मान भी मिल चुका है। स्कूल में सात शिक्षकों का स्टाफ है। सप्ताह में गुरुवार को बिना ड्रेस के आने की छूट रहती है। छात्रों के साथ शिक्षकों का भी ड्रेस कोड होने से यह स्कूल जिले के अन्य स्कूलों में अपनी अलग पहचान बना चुका है। अध्यापकों के लिए नेवी पेंट व सफेद चेक्स शर्ट निर्धारित है। स्कूल का नामांकन देवगढ़ ब्लॉक की 19 ग्राम पंचायतों के 69 उच्च प्राथमिक स्कूलों से ज्यादा है। जिले में ज्यादा नामांकन वाले स्कूलों में भी यह स्कूल अपना स्थान रखता है। यहां 282 छात्र-छात्राएं पढ़ते हैं।

स्कूल में शिक्षा का ऐसा माहौल, प्राइवेट स्कूलों से दाखिला लेने आए बच्चे : संस्था प्रधान महेशचंद्र स्वर्णकार बताते हैं कि पूर्व में कई छात्र-छात्राएं प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने जाते थे, लेकिन स्कूल में शैक्षिक एवं सह शैक्षिक गतिविधियों के साथ स्कूल का माहौल बदला तो अभिभावकों ने प्राइवेट स्कूलों से टीसी दिलवाकर बच्चों को यहां भर्ती करवाया है। उन्होंने बताया कि पिछले साल कुंडेली गांव का एक प्राइवेट स्कूल इसी कारण बंद करना पड़ा था। सत्र 2006 में क्रमोन्नत हुए इस स्कूल में माध्यमिक स्तर की सुविधाएं हैं। श्री जसवंत चेरिटेबल ट्रस्ट देवगढ़ स्कूल में सुविधाओं के विस्तार पर ध्यान दे रहा है। ट्रस्ट के पूर्व चेयर पर्सन रावत नाहरसिंह चूंडावत ने कई बार स्कूल में विदेशी मेहमानों की विजिट करवाकर सुविधाओं में काफी विस्तार किया है। वर्तमान चेयर पर्सन भूर| प्रभाकुमारी, शत्रुंजयसिंह व भावनाकुमारी भी विदेशी मेहमानों को स्कूल में लाते हैं और स्कूल की सुविधाओं को बढ़ाने के लिए प्रयासरत हैं। स्कूल में छात्र-छात्राओं के लिए फर्नीचर जसवंत चेरिटेबल ट्रस्ट देवगढ़ ने दिया है। हर निर्धन छात्र-छात्राओं को पोशाक, ऊनी स्वेटर भी दिए जाते हैं। विदेशी मेहमान मेरी लुइस एल्मग्रीन हर साल स्कूल में आकर सुविधाएं दिलाती हैं। इस वर्ष स्टाफ की कमी होने पर ट्रस्ट ने दो महिला अध्यापिकाओं को लगाया है। गुजरात में व्यवसाय करने वाले पांता की आंती गांव के भामाशाहों ने स्कूल में 50 हजार की लागत से सरस्वती मंदिर एवं प्रार्थना स्थल डूंगरसिंह सिसोदिया ने बनवाया है। गत वर्ष गेहरी बाई देसरला चेरिटेबल ट्रस्ट ने 60 बच्चों को पोशाक दिलवाई थी। गांव के पूर्व सरपंच भानसिंह, रामसिंह पटेल, वरदसिंह, हजारीसिंह, बदामी देवी, हरिसिंह स्कूल को सामग्री भेंट कर चुके हैं।

बनाई पहचान : सुविधाएं देखकर प्राइवेट स्कूल से टीसी कटवाकर कई बच्चे यहां ले चुके हैं दाखिला, पर्यावरण संरक्षण पर भी जोर

सम्मान पा चुके हैं संस्था प्रधान

स्कूल के संस्था प्रधान स्वर्णकार को दो बार एसडीएम स्तर पर, एक बार राजस्थान दिवस पर, स्वतंत्रता दिवस पर जिला स्तर पर सम्मानित हो चुके हैं। स्टाफ मुकेश कुमावत, मुकेश चौधरी शैक्षिक, सह शैक्षिक गतिविधियों पर सम्मानित हो चुके हैं।

X
ड्रेस कोड में आते हैं पांता की आंती मिडिल स्कूल के शिक्षक
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..