--Advertisement--

रेयर केस: पेट दर्द की शिकायत के बाद हॉस्पिटल पहुंची लड़की, रिपोर्ट देख डॉ. ने कहा- तत्काल ऑपरेशन करना होगा, हैरान करने वाला था पेट के अंदर का सीन

लाखों में एक की होती है ऐसी सर्जरी, बताया- समय रहते इलाज न मिले तो क्या हो सकता है खतरा

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 10:39 AM IST
2 Kilo Hair discovered From Girls Stomach while operation

धौलपुर. जिला अस्पताल के इतिहास में संभवत: यह पहला जटिल ऑपरेशन होगा। जब एक 16 साल की लड़की के पेट दर्द की शिकायत पर ऑपरेशन कर 2 किलो वजनी बालों के गुच्छों की गांठ डॉक्टर्स की टीम ने निकाली। जिसमें 24 सेंटीमीटर, 10 सेंटीमीटर आकार का बालों का गुच्छा नजर आया। जिला अस्पताल के एक्सपर्ट डॉ. आशीष शर्मा ने बताया, रिपोर्ट में हमनें सोचा था यह साधारण बालों का गुच्छा होगा, लेकिन ऑपरेशन के दौरान 2 किलो का बालों का गुच्छा देखकर एक बार हम भी हैरान रह गए। इतना ज्यादा बाल होने का मतलब है लड़की लंबे समय से खुद के बाल खा रही होगी। डॉ. ने बताया, लाखों में एक ऑपरेशन इस तरह का होता है। यह काफी रेयर सर्जरी मानी जाती है। इलाज समय पर नहीं किया जाए तो मरीज की जान पर खतरा हो जाता है। लड़की की हालत में अब सुधार है।

डरे हुए थे लड़की के पिता, हिम्मत करके करवाया ऑपरेशन

डॉ आशीष शर्मा और डॉ बीएम मंगल ने यह सफल ऑपरेशन किया। डॉ मंगल ने बताया, 5 दिन पहले लड़की पेट दर्द की शिकायत लेकर दिखाने आई थी। जांच में पता चला कि लड़की ट्रॉइकोबेझार नामक दुर्लभ गंभीर बीमारी से पीड़ित है। तब दोनों डॉक्टर्स ने तुरंत ऑपरेशन करना उचित समझा। लेकिन लड़की के पिता शिव सिंह सर्जरी को लेकर डरे हुए थे। उन्होंने कहा, एक वक्त तो भरोसा ही नहीं था। लेकिन भगवान से प्रार्थना की और डॉक्टरों पर विश्वास जताया।

दुर्लभ बीमारी है ट्रॉइकोबेझार


डॉ. आशीष शर्मा ने बताया, ट्रॉइकोबेझार एक दुर्लभ बीमारी होती है। इसका मरीज मानसिक रोगी होता है और बालों को खाता है। धीरे-धीरे यह बाल गुच्छे के रूप में आमाशय में जमा हो जाते हैं और आमाशय नष्ट हो जाने लगता है। इसके बाद मरीज को उल्टी, पेट दर्द की शिकायत, वजन कम होना आदि शरीर में लक्षण पैदा होते हैं। जब पेट दर्द की शिकायत रहती है तो कह नहीं सकते हैं कि बाल खाने से यह समस्या बनी। क्योंकि लड़की के घरवालों को इस बीमारी के बारे में पता नहीं था। लेकिन डॉक्टर्स ने बीमारी समझ अंदाजा लगा लिया था कि यह जरूर मानसिक रोगी होने के चलते बचपन से ही बाल खाती थी, जिसके चलते इसके अक्सर पेट में दर्द रहता था।

समय रहते न हो इलाज तो क्या है शरीर में खतरा


डॉक्टर्स का कहना था कि शुरुआती इलाज में इस तरह की गांठ पाए जाने पर इनको घोलने का प्रयास किया जाता है। लेकिन 16 वर्षीय योगेश कुमारी की गांठ बड़ी होने से सर्जरी के जरिए ही इसका इलाज किया गया। समय रहते इलाज न कराया जाए तो आंतों में रुकावट, आंतों से खून का रिसाव व आंतों के फटने का खतरा रहता है। इसमें कभी-कभी मरीज की जान भी चली जाती है।

X
2 Kilo Hair discovered From Girls Stomach while operation
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..