Hindi News »Rajasthan »Dholpur» आरएसी छठी बटालियन में चतुर्थ श्रेणी पदों की भर्ती निरस्त करने की अनुशंषा

आरएसी छठी बटालियन में चतुर्थ श्रेणी पदों की भर्ती निरस्त करने की अनुशंषा

क्राइम रिपोर्टर| जयपुर / धौलपुर आर्म्ड बटालियन (आरएसी) छठी धौलपुर में रिश्वत लेकर चतुर्थ श्रेणी पदों पर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 03:50 AM IST

क्राइम रिपोर्टर| जयपुर / धौलपुर

आर्म्ड बटालियन (आरएसी) छठी धौलपुर में रिश्वत लेकर चतुर्थ श्रेणी पदों पर अभ्यार्थियों का चयन करने के मामले में पुलिस मुख्यालय ने भर्ती प्रक्रिया को निरस्त करके का निर्णय ले लिया है। एडीजी आरएसी के नरसिम्हा राव ने भर्ती प्रक्रिया निरस्त करने की अनुशंषा कर दी है। साथ ही पुलिस मुख्यालय मामले की जांच भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो से कराने की तैयारी में है। आरएसी सातवीं बटालियन कमांडेंट ने मामले की जांच की थी। जांच में अभ्यार्थियों से 5-5 लाख रु. चयन करने की बात सामने आई थी। डीजीपी ओपी गल्होत्रा ने बताया कि अभी कार्रवाई चल रही है। जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई होगी। गौरतलब है कि 28 जनवरी को भास्कर ने आरएसी बटालियन छठी में हुई चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की सीधी भर्ती में अभ्यर्थियों से रिश्वत लेकर उनका स्वीपर व कुक पदों पर चयन का खुलासा किया था।

पुलिस मुख्यालय में शिकायत हुई तो सामने आया था फर्जीवाड़ा

दरअसल धौलपुर आरएसी छठी बटालियन कमांडेंट ने नवंबर में माह 11 स्वीपर व 3 कुक के पदों के लिए आवेदन मांगे थे। छठी बटालियन कमांडेंट का चार्ज डिप्टी कमांडेंट हिम्मत सिंह के पास है। दिसंबर में दस्तावेज की जांच के बाद अभ्यार्थियों का इंटरव्यू लेकर चयन कर लिया। अधिकारियों ने ऐसे अभ्यार्थियों का चयन किया, जो अयोग्य और अनुभवहीन थे। जबकि योग्य अभ्यार्थियों काे नजरअंदाज कर दिया। अभ्यार्थियों ने फर्जी अनुभव प्रमाण पत्र लगाए थे। इस संबंध में कुछ अभ्यर्थियों ने पुलिस मुख्यालय को शिकायत हुई थी। पुलिस मुख्यालय ने इसकी जांच कराई तो सीधी भर्ती में फर्जीवाड़ा करने की बात सामने आई थी।

आरएसी बटालियन धौलपुर में फिर होगी इन कर्मचारियों की सीधी भर्ती

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dholpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×