प्राकृतिक आपदा से निपटने के लिए सजग रहकर कार्य करें : कलेक्टर

Dholpur News - धौलपुर | आपदा प्रबंधन समिति की बैठक जिला कलेक्टर नेहा गिरि की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित की गई।...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:00 AM IST
Dholpur News - rajasthan news be alert to deal with natural disasters collector
धौलपुर | आपदा प्रबंधन समिति की बैठक जिला कलेक्टर नेहा गिरि की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित की गई। उन्होंने कहा कि वर्षा ऋतु के दौरान अतिवृष्टि एवं संभावित बाढ़ की रोकथाम के लिए पूर्व से ही समस्त व्यवस्थाएं पूर्ण कर लें। जिला कलेक्टर बुधवार को आपदा प्रबंधन एवं वर्षा ऋतु के दौरान अतिवृष्टि एवं संभावित बाढ़ के दौरान बैठक में विभिन्न विभागों के अधिकारियों से आपदा आने पर रोकथाम व बचाव के बारे में विभागवार जानकारी लेकर आवश्यक निर्देश दे रही थी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे व्यक्तिगत रुचि लेते हुए आपदा से सम्बन्धित की गई तैयारियों का जायजा लेकर कार्य करें। आयोजित बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि आपदा प्रबंधन से संबंधित भाग नियंत्रण कक्ष स्थापित करें। आगामी मानसून के मध्यनजर अतिवृष्टि-बाढ़ से बचाव की आवश्यक तैयारियों के संबंध में निर्देश दिए कि जिला जिला स्तरीय अधिकारी अनुमति लेकर ही मुख्यालय छोड़े, स्टाफ को भी अनावश्यक छुट्टियां न दें। आपसी समन्वय रखकर कार्य करें। बाढ़ से प्रभावित होने वाले सम्भावित गांव-ढांणियों की सूचना एकत्रित कर जिला मुख्यालय को भिजवाएं। तहसीलदार, उपखण्ड अधिकारी सम्भावित क्षेत्र का दौरा कर लें, जिससे राहत कार्यों में आसानी रहे। आवश्यक दूरभाष नंबर तथा राहत कार्यों से संबधित कार्मिकों के नाम, पते उपलब्ध रहे। जिले में वर्षा नहीं होने के बावजूद चंबल नदी के ऊपरी क्षेत्रों में अधिक वर्षा के फलस्वरूप बाढ़ के हालात बन जाते हैं, जिससे निपटने के लिए आवश्यक तैयारियां रखें। प्रभावित लोगों को ठहराने, भोजन, दवाइयां, उपचार आदि का प्रबन्ध रखें। गोताखोर, टार्च, रस्सी, पानी निकालने के लिए पम्पसैट, डीजल, पैट्रोल, रसाई गैस, कैरोसिन आदि का पर्याप्त रिजर्व स्टॉक रखवाने की व्यवस्था के निर्देश दिए। इस दौरान लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाने के लिए व्यवस्था करने, जल स्त्रोत की सारसंभाल एवं सुरक्षा के इन्तजाम करने तथा विद्युत की लाईनों की मरम्मत आदि की पुख्ता व्यवस्था के साथ ही समय पर विद्युत की आपूर्ति व आवश्यकता पड़ने पर विद्युत आपूर्ति रोकने के निर्देश दिए। नगर परिषद एवं नगर पालिकाओं में नालों की साफ-सफाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। पशुओं के उपचार, चारे की व्यवस्था एवं मृत पशुओं के शवों का निस्तारण करने के सम्बन्ध में भी निर्देश दिए। सार्वजनिक निर्माण विभाग अधीक्षण अभियन्ता को निर्देश देते हुए जिले के सम्भावित बाढ़ प्रभावित नदी एवं नालों एवं सड़कों के दोनों ओर लोहे के पिलर लगाकर चैन लगाने की व्यवस्था की जाए, ताकि आपदा के समय यातायात रोका जा सके। इसके अतिरिक्त रपट वाले स्थानों पर नदी एवं नालों के दोनों ओर भी चेतावनी बोर्ड लगाए जाना सुनिश्चित करें तथा सड़क मार्ग से गुजरने वाले नदी नाले-रपट आदि पर होकर वर्षा का पानी बह रहा हो तो चिन्हित कर दोनों और साइन बोर्ड लगाकर यातायात प्रतिबंधित किया जाए। सभी उपखण्ड अधिकारी बाढ़ एवं अतिवृष्टि से निपटने के लिए पूर्व तैयारी के संबंध में अपने स्तर पर बैठक आयोजित करें एवं पंचायतों में सिंचाई विभाग से प्राप्त खाली कट्टों में मिट्टी भरकर ऐसे स्थानों पर रखवाएं, जहां बाढ़ का पानी भरने की सम्भावना हो। उन्होंने कहा कि सभी संबंधित विभाग अपने-अपने विभाग का बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित कर नोडल अधिकारी की नियुक्ति के साथ उनके नाम, पदनाम, दूरभाष नम्बर भिजवाना सुनिश्चित करेंगे। बैठक में मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद शिवचरण मीना, अतिरिक्त जिला कलक्टर चेतन चौहान, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद जितेन्द्र सिंह नरूका, धौलपुर वृत्त अधिकारी पुलिस दिनेश शर्मा, सभी उपखण्ड अधिकारी सहित संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

X
Dholpur News - rajasthan news be alert to deal with natural disasters collector
COMMENT