• Hindi News
  • Rajasthan
  • Dholpur
  • Saipau News rajasthan news by the grace of god the mute person becomes verbose and the disabled also climbs the mountain brijwasi

भगवान की कृपा से मूक व्यक्ति भी वाचाल बन जाता है और विकलांग भी पर्वत लांघ जाता है: बृजवासी

Dholpur News - सैंपऊ. कथा श्रवण करते हुए महिला श्रद्धालु। सैपऊ| हाथी घोड़ा पालकी-जय कन्हैया लाल की, नंद के आनंद भयो…जय कन्हैया...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 06:02 AM IST
Saipau News - rajasthan news by the grace of god the mute person becomes verbose and the disabled also climbs the mountain brijwasi
सैंपऊ. कथा श्रवण करते हुए महिला श्रद्धालु।

सैपऊ| हाथी घोड़ा पालकी-जय कन्हैया लाल की, नंद के आनंद भयो…जय कन्हैया लाल की, अवसर था तसीमो में चल रही श्रीमद्भागवत कथा में श्रीकृष्ण जन्म के प्रसंग का। इस अवसर पर बालगोपाल के जन्म की झांकी प्रस्तुत की गई। जिसमें बाबा वासुदेव टोकरी में बालगोपाल को लेकर आए तो दर्शन करने के लिए श्रद्धालु पंडाल मैं खड़े हो गए। कथा के दौरान नंदोत्सव की झांकी भी प्रस्तुत की गई जिसमें गोपियां नंद बाबा और यशोदा मैया को बधाई गीतों के माध्यम से बधाई देती नजर आई। झांकियों से कथा पंडाल में विहंगम द्रश्य उत्पन्न हुआ कि मानो साक्षात बृजभूमि अवतरित हो गई हो। आचार्य बृजवासी शास्त्री ने कथा सुनाते हुए कहा कि मेरे भगवान की कृपा से मूक व्यक्ति भी वाचाल बन जाता हैै। विकलांग भी पर्वत लांघ जाता है। यह कृपा की शक्ति है। ध्रुव के जीवन में पांच बाते थी जिसके मूल में भगवान की कृपा थी। माता, पिता, गुरूदेव का आशीर्वाद, स्वयं का पुरूषार्थ और भगवान की कृपा। यह पांचों जिसके जीवन में होती है वह सफलता के शिखर पर पहुंच जाता है, उसका कभी पतन नहीं होता। जिसे जीवन में उन्नती करना हो उसे ध्रुवजी की कथा से कुछ सीखना चाहिए। इस मौके पर कथा परीक्षित प्रताप सिंह परमार मैं कृष्ण जन्म पर मेवा और मुद्राएं श्रद्धालुओं में लुटाई गई। कथा श्रवण करने के लिए भूमि विकास बैंक के पूर्व चेयरमैन श्यामवीर सिंह परमार, कैथरी सरपंच सतीश सिंह परमार, सुरेश शर्मा, साहब सिंह परमार, ठेकेदार सत्येंद्र सिंह परमार, श्री राष्ट्रीय राजपूत कर्णी सेना के जिलाध्यक्ष अजय सिंह परमार समेत सैकड़ों महिला एवं पुरुष श्रद्धालु मौजूद थे।

X
Saipau News - rajasthan news by the grace of god the mute person becomes verbose and the disabled also climbs the mountain brijwasi
COMMENT