पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Dholpur News Rajasthan News Children Must Be Physically And Mentally Empowered To Build A Strong Nation Meena

एक सशक्त राष्ट्र निर्माण के लिए बच्चों का शारीरिक और मानसिक रूप से सशक्त होना आवश्यक: मीना

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्थानीय जवाहर नवोदय विद्यालय में गुरूवार को राष्टीय कृमि मुक्ति दिवस का शुभारंभ सुबह 11.30 बजे किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सीईओ परिषद जिला परिषद शिवचरण मीना रहे, अध्यक्षता मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. गोपाल कुमार गोयल ने की। कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.चेतराम मीना एवं अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी महेश रिजवानी रहे। कार्यक्रम में सीईओ मीना ने कहा कि बच्चे किसी राष्ट्र का भविष्य है। सशक्त राष्ट्र निर्माण के लिए बच्चों का शारीरिक एवं मानसिक रूप से सशक्त होना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि कृमिनाशक गोली खाकर पूर्ण रूप से स्वस्थ हो सकेंगे साथ ही राष्ट निर्माण में अपनी बेहतर भूमिका निभा सकंेगे। उन्होंने जल संरक्षण के महत्व को समझाते हुए कहा कि हमेें पानी की बर्बादी कम से कम करनी चाहिए और वर्षा के जल को बचाना चाहिए। उन्होंने प्रत्येक विद्यार्थी को शपथ दिलाई कि अपने जन्म दिन पर एक पेड़ जरूर लगाएं जिससे पर्यावरण शुद्ध होगा और आने वाली पीढ़ी को शुद्ध हवा भी मिल सकेगी। कार्यक्रम में अध्यक्षता कर रहे मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. गोपाल प्रसाद गोयल ने राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस की आवश्यकता के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि बच्चों के पेट में कीड़ों से कई तरह की बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैं जिससे बच्चे शारीरिक रूप से प्रभावित होते हैं, वहीं मानसिक रूप से भी पीड़ित हो जाते हैं। बच्चों में कृमि संक्रमण से उनमें खून की कमी, भूख नहीं लगना, बेचैनी, पेट में दर्द, उल्टी व दस्त और मल में खून आना जैसी अनेक समस्याएं पैदा हो जाती हैं। यही वजह है कि चिकित्सा विभाग 1 से 19 वर्ष तक के सभी बच्चों को कृमि नियंत्रण की दवा देने का निर्णय लिया है। उन्होंने बताया कि सभी संस्थानों पर अध्ययनरत विद्यार्थियों को कृमि मुक्ति की गोली 8 अगस्त से खिलाई जाएगी। कार्यक्रम में अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.चेतराम मीना ने कहा कि जिले के सरकारी, निजी विद्यालय, मदरसों, काॅलेज, आंगनबाड़ी केन्द्रों पर लगभग साढ़े पांच लाख बच्चों को कृमि नाशक गोली निःशुल्क दी जाएंगी। विद्यालय प्राचार्य प्रभारी ताराशेख ने आभार व्यक्त करते हुए कहा कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क निवास करता है। हमें पढ़ाई के साथ-साथ रोजाना योग एवं खेल गतिविधियों में भाग लेना चाहिए।

धौलपुर.कार्यक्रम में मौजूद अतिथि।

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के उद्देश्य:

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस का उद्देश्य बच्चों के समग्र स्वास्थ्य, पोषण की स्थिति, शिक्षा तक पहुंच और जीवन की गुणवत्ता में बढ़ोत्तरी के लिए विद्यालयों और आंगनवाड़ी केंद्रों के माध्यम से एक से उन्नीस वर्ष की उम्र के बीच के विद्यालय जाने से पहले और विद्यालयी-आयु के बच्चों (नामांकित और गैर-नामांकित) को कीड़े समाप्त करने की दवा (कृमि नाशक दवा) देना है।

मृदा-संचारित कृमि संक्रमण को रोकने के उपाय

साफ़ शौचालय का उपयोग करना, बाहर शौच न करना।

हाथ धोना, विशेषकर खाने से पहले और शौचालय के बाद हाथ धोना।

●स्वच्छ एवं सुरक्षित पानी से फल एवं सब्जियां धोना,● भली-भांति पका भोजन खाना।

बाड़ी में आज खिलाई जाएगी कृमिनाशक दवा

बाड़ी| राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान में टीकाकरण के साथ अब स्कूली बच्चों को कृमि मुक्ति के लिए एल्बेंडाजोल की दवा खिलाई जाएगी। गुरुवार को राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के रूप में सभी सरकारी और निजी विद्यालयों के 1 से 19 वर्ष के बीच बच्चों को कृमिनाशक दवा खिलाई जाएगी। इस दवा का वितरण कॉलेज, मदरसा, आंगनबाड़ी केंद्र एवं तकनीकी संस्थानों में भी किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...