धौलपुर-भरतपुर के किसानों से ऋण माफी में घोटाला, नहीं मिल रही है पूरी धनराशि

Dholpur News - भरतपुर | ऋण माफी में घोटाले के मामले सामने आने के बाद अब खरीफ के अल्पकालीन ऋण देने में भी भ्रष्टाचार के मामले सामने...

Sep 14, 2019, 08:15 AM IST
भरतपुर | ऋण माफी में घोटाले के मामले सामने आने के बाद अब खरीफ के अल्पकालीन ऋण देने में भी भ्रष्टाचार के मामले सामने आ रहे हैं। किसानों को बजाए बैंक खातों में राशि जमा करने के व्यवस्थापक पूरी राशि की रसीद लेकर 3 प्रतिशत कटौती करके ऋण दे रहे हैं। जो किसान कटौती नहीं करा रहे हैं, उन किसानों को ऋण नहीं दिया जा रहा है। यही वजह है कि ऋण वितरण का काम धीमी गति से हो रहा है, जबकि सरकार ने 100 करोड़ रुपए और सहकारी बैंकों को दे दिए हैं। भरतपुर-धौलपुर जिले में 82 हजार 166 किसान रजिस्टर्ड हैं जिनमें 30 हजार 314 नए किसान हैं। शुक्रवार तक सहकारी बैंकों से सिर्फ 30 हजार 698 किसानों को ही 67 करोड़ 26 लाख रुपए का ऋण मिला है। यानि रजिस्टर्ड आधे किसानों को भी ऋण नहीं मिल सका है। किसान खरीफ की फसल के लिए अभी भी लोन के लिए भटक रहे हैं।

किसानों के पास आ रहा पूरी राशि का मैसेज

भरतपुर-धौलपुर जिले में किसानों को 270 करोड़ रुपए खरीफ की फसल के लिए अल्पकालीन ऋण देने का लक्ष्य है जिसके वितरण के लिए अब 30 सितंबर तक की तारीख बढ़ाई गई है। भरतपुर में 11 व धौलपुर में 4 ब्रांच सहित कुल 15 ब्रांच हैं। जिनके अंतर्गत 265 ग्राम सेवा सहकारी सोसायटी किसानों को अल्पकालीन फसली ऋण देने का कार्य कर रही हैं। सोसायटी के व्यवस्थापक किसानों पर दबाव देकर 3 प्रतिशत कटौती करके ऋण का भुगतान कैश में कर रहे हैं, जबकि इस भ्रष्टाचार को रोकने के लिए किसानों के खाते में सीधे ऋण की राशि जमा करने के निर्देश दिए हुए हैं। किसानों को बैंक खाते में ऋण जमा होने की बजाय एफआईजी के माध्यम से ग्राम सेवा सहकारी समितियों के व्यवस्थापक भुगतान कर रहे हैं। वह किसानों को ऋण की स्वीकृत राशि के भुगतान के लिए बायोमैट्रिक्स मशीन पर अंगूठा लगवाकर कैश भुगतान 3 प्रतिशत कटौती करके कर रहे हैं, जबकि किसान के रजिस्टर्ड मोबाइल पर पूरी राशि का मैसेज आता है। यदि कोई जांच एजेंसी से ऋण प्राप्त करने वाले किसानों से जानकारी करे तो पूरा भ्रष्टाचार का खेल सामने आ सकता है।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना