• Hindi News
  • Rajya
  • Rajasthan
  • Dholpur
  • Dholpur News rajasthan news this is not easy the village is not 7 km away from the city there is no road the helplessness of the villagers risking life through the raw road

ये डगर नहीं आसां... शहर से 7 किमी दूर घेर गांव में नहीं है सड़क मार्ग, कच्चे रास्ते से जान जोखिम में डालकर निकलना ग्रामीणों की मजबूरी

Dholpur News - धौलपुर. बीहड़ के रास्ते घेर गांव का बदहाल कच्चा रास्ता भास्कर संवाददाता | धौलपुर शहर से चंबल किनारे बसे गांव...

Bhaskar News Network

Aug 19, 2019, 08:55 AM IST
Dholpur News - rajasthan news this is not easy the village is not 7 km away from the city there is no road the helplessness of the villagers risking life through the raw road
धौलपुर. बीहड़ के रास्ते घेर गांव का बदहाल कच्चा रास्ता

भास्कर संवाददाता | धौलपुर

शहर से चंबल किनारे बसे गांव घेर के निवासी वैसे तो सालभर रास्ते न होने से परेशान होते आ रहे हैं। अब बारिश में कच्चे रास्ते में बीहडों से बहकर निकलने वाली खार से रास्ता टूट जाने से दलदल युक्त रास्ते में गहरे खड्डों में कीचड़ से निकलना किसी जान में जोखिम से भरा नहीं है। आजादी के बाद से ही ये घेर गांव के लोग पक्की सड़क के लिए परेशान होकर थक चुके हैं। शासन प्रशासन तक इन्होंने अपनी आवाज बुलंद करने की खूब कोशिश की, लेकिन कोई इनका दर्द सुनने नहीं पहुंचता। बल्कि कई बार मतदान का बहिष्कार भी कर चुके हैं। गांव के लिए मुख्य एक ही रास्ता है जो धौलपुर से आधे रास्ते और घेर गांव से आधे रास्ते तक तो पक्का बना हुआ है, लेकिन बीच में डेढ किलोमीटर का पूरा रास्ता कच्चा होने से खत्म सा हो गया है। गांव के लोग तो बारिश मेंे गांव में ही कैद होकर रह जाते हैं। आवश्यक कार्य से अगर किसी को शहर की ओर जाना पडता है तो उसे सौ बार रास्ते की सोचना पडता है कि कैसे बदहाल रास्ते से गाडी निकलेगी। बारिश में तो ये रास्ता बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है। गांव निवासी तिलक सिंह गुर्जर ने बताया कि ग्रामीणों ने प्रशासन से गुहार लगाई है कि गांव तक आने वाले इस रास्ते को पक्का करवाया जाए। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने गांव की इस पीडा को बताते हुए कहा कि कई बार ताे गांव में बीमार बच्चों व महिलाओं को दिखाने के लिए निकलते हैं, तो बदहाल रास्ता बीमारी के साथ अस्पताल तक पहुंचने की अलग चुनौती बन जाता है। रात तो दूर दिन में ही निकलना मुश्किल भरा होता है। ग्रामीणों का कहना है कि प्रदेश में जितनी भी सरकारें बनी है। किसी ने भी हमारे गांव के विकास के लिए कोई पुख्ता योजना नहीं बनाई।

यहां गिरे तो उठना मुश्किल...

धौलपुर. इस दलदल को पार करना होता है चुनौती।

यह है परेशानी... डेढ़ किमी का कच्चा रास्ता वर्षों से तय कर रहे हैं ग्रामीण

भैंसाना पंचायत के गांव घेर धौलपुर से मात्र 7 किमी की दूरी पर स्थित है। जिसमें बीच का डेढ किमी का कच्चा रास्ता वर्षों से ग्रामीणों के लिए परेशानी का सबब बना है। यहां पक्की सड़क बनाने को लेकर ग्रामीण कई साल से मांग कर रहे हैं। इसके लिए अफसरों, पंचायत और जनप्रतिनिधियों तक को समस्या से अवगत करा चुके हैं, लेकिन आज तक कुछ नहीं हो सका है। ग्रामीण वर्षों से डेढ किलोमीटर कच्चे और मिट्टी की कीचड से सराबोर रास्ते से आवाजाही करने को मजबूर हैं।

Dholpur News - rajasthan news this is not easy the village is not 7 km away from the city there is no road the helplessness of the villagers risking life through the raw road
X
Dholpur News - rajasthan news this is not easy the village is not 7 km away from the city there is no road the helplessness of the villagers risking life through the raw road
Dholpur News - rajasthan news this is not easy the village is not 7 km away from the city there is no road the helplessness of the villagers risking life through the raw road
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना