चार आंगनबाड़ी केंद्रों पर पोषाहार में मिले कीड़े, दो स्कूलों में मिले एक-एक ही शिक्षक

Dholpur News - एक ओर सरकार बच्चों को सरकारी स्कूलों और आंगनबाड़ी से जोड़ने पर जोर दे रही है वहीं कुछ जगहों पर बच्चों की शिक्षा और...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 08:10 AM IST
Dholpur News - rajasthan news worms found in nutrition at four anganwadi centers one teacher each in two schools
एक ओर सरकार बच्चों को सरकारी स्कूलों और आंगनबाड़ी से जोड़ने पर जोर दे रही है वहीं कुछ जगहों पर बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य के साथ खुलेआम खिलवाड़ किया जा रहा है। कुछ ऐसे ही दो मामले शनिवार को सामने आए हैं। इनमें पहला मामला गांव में संचालित आंगनबाड़ी केंद्र का है। यहां पर जहां गंदगी मिली वहीं आने वाले बच्चों को दिए जाने वाले पोषाहार में कीड़े निकले हैं। इधर, बाड़ी ब्लॉक में स्थित डांग क्षेत्र में संचालित दो सरकारी स्कूलों में अधिकारियों को निरीक्षण के दौरान केवल एक-एक शिक्षक ही उपस्थित मिला, जबकि इन दोनों स्कूलों में प्रधानाध्यापक सहित अन्य स्टाफ के आदतन देरी से आने और बिना किसी सूचना के छुट्‌टी पर जाने की स्थिति सामने आई है। दोनों मामलों में टीम ने कार्रवाई के लिए उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट भेज दी है।

आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों को दिए जाने वाले पोषाहार में कीड़े पड़ने लगे हैं। यह कहना तब गलत नहीं होगा, जब नेशनल एंटी करप्शन एंड ऑपरेशन कमेटी ऑफ इंडिया टीम ने चार आंगनबाड़ी केंद्रों का निरीक्षण किया तो टीम को आंगनबाड़ी केंद्रों में गंदगी के साथ बच्चों के पोषाहार में कीड़े मिले हैं। यहीं नहीं महमदपुर गांव में संचालित आंगनबाड़ी केंद्र में गर्भवती महिलाओं को दिए जाने वाले पोषाहार की भी गुणवत्ता कम मिली है। टीम ने गर्भवती महिलाओं को दिए जाने वाले पोषाहार को चेक किया तो टीम को आटा फीका मिला। नेशनल एंटी करप्शन एंड ऑपरेशन कमेटी ऑफ इंडिया टीम के सदस्यों ने बताया कि शुक्रवार को छावनी प्रथम, द्वितीय, महमदपुर व सूरजपुरा गांव के आंगनबाड़ी केंद्रों का निरीक्षण किया गया, जिसमें चारों आंगनबाड़ी केंद्रों में गंदगी के साथ ही बच्चों के पोषाहार में कीड़े मिले। टीम के सदस्यों ने बताया कि सूरजपुरा आंगनबाड़ी केंद्र में कार्यकर्ता भी नहीं मिली।

बाड़ी ब्लॉक के कार्यवाहक मुख्य शिक्षा अधिकारी महेश कुमार मंगल और संदर्भ व्यक्ति राजन मीणा ने शनिवार को डांग क्षेत्र की कुदिन्ना ग्राम पंचायत और सेवर पाली पंचायत के यूपीएस विद्यालयों का निरिक्षण किया, जहां एक-एक शिक्षक विद्यालयों को चलाते हुए मिला वहीं दोनों स्कूलों से बाकी का स्टाफ नदारद मिला। इस पर कार्यवाहक ब्लॉक शिक्षा अधिकारी महेश मंगल ने जांच रिपोर्ट उच्चाधिकारियों और संबंधित पीईईओ को भेजकर कार्रवाई के लिए लिखा है।

सीबीईओ मंगल ने बताया कि निरीक्षण के दौरान कुदिन्ना ग्राम पंचायत के उच्च प्राथमिक विद्यालय सायपुर का सुबह निरीक्षण किया तो 8 शिक्षकों वाले इस स्कूल में मात्र एक शिक्षक बनवारी लाल बच्चों की प्रार्थना कराते हुए मिले। इस स्कूल के प्रधानाध्यापक मानसिंह सहित पूरा स्टाफ गायब था। जब बच्चों और उनके अभिभावकों से इस संदर्भ में जानकारी ली तो उन्होंने बताया कि पूरा स्टाफ आदतन लेट आता है। यही नहीं कभी-कभी दो से तीन दिनों तक एक ही शिक्षक बच्चों को एक साथ बैठाकर पढ़ाते हैं।

दूसरा निरीक्षण पंचायत समिति की चंबल किनारे स्थित ग्राम पंचायत सेवरपाली के गांव खरेरपुरा के उच्च प्राथमिक विद्यालय का किया, जहां 6 शिक्षकों की संख्या वाले स्कूल में केवल एक शिक्षक दाताराम मौके पर मिले। बाकी के 5 शिक्षक नदारद थे। इस विद्यालय में 60 से भी अधिक छात्र-छात्रा मौजूद थे। बच्चों के शिक्षा का स्तर की जांच की तो वह भी न्यून पाई गई। उक्त दोनों स्कूलों के िनरीक्षण के मामले को लेकर ब्लॉक शिक्षा अधिकारी ने जांच रिपोर्ट संबंधित पीईईओ और जिला शिक्षा अधिकारी को भेज नियमानुसार कार्रवाई के लिए लिखा है।

पोषाहार में कीड़े दिखाती टीम।

X
Dholpur News - rajasthan news worms found in nutrition at four anganwadi centers one teacher each in two schools
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना