Hindi News »Rajasthan »Dhorimana» आदर्श स्कूलों को नहीं मिल रहे ग्राम पंचायत सहायक, पीईईओ की परेशानियां बढ़ी

आदर्श स्कूलों को नहीं मिल रहे ग्राम पंचायत सहायक, पीईईओ की परेशानियां बढ़ी

ग्राम पंचायत सहायकों की पिछले वर्ष राज्य सरकार द्वारा अस्थाई नियुक्ति ग्राम पंचायत मुख्यालय पर स्थित उच्च...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 18, 2018, 03:45 AM IST

ग्राम पंचायत सहायकों की पिछले वर्ष राज्य सरकार द्वारा अस्थाई नियुक्ति ग्राम पंचायत मुख्यालय पर स्थित उच्च माध्यमिक विद्यालयों में दी गई। राज्य सरकार द्वारा इनको वेतन की व्यवस्था ग्राम पंचायत के माध्यम से करने एवं उनका मुख्यालय पीईईओ कार्यालय करने के निर्देश के तहत पिछले 7 महीनों से विद्यालय में उपस्थिति दे रहे थे। लेकिन ग्रीष्मकालीन अवकाश के दौरान उनका मुख्यालय ग्राम पंचायत मुख्यालय कर दिया गया लेकिन धोरीमन्ना सहित कई पंचायत समितियों मे अभी भी विद्यालय सहायक विद्यालयों में कार्यरत है जबकि सेड़वा पंचायत समिति में ग्राम पंचायत सहायक ग्राम पंचायत में कार्यरत है। नए शिक्षा सत्र में राज्य सरकार द्वारा दूसरे चरण का प्रवेशोत्सव कार्यक्रम चल रहा है। जिसमें पीईईओ के काम बढ़ गए हैं। साथ ही साथ राज्य सरकार द्वारा ग्राम पंचायत के सभी कर्मचारियों की वेतन सहित अन्य प्रशासनिक कार्य ग्राम पीईईओ को दे दिया गया था। अब ग्राम पंचायत मुख्यालय पर से आदर्श विद्यालयों में पीईईओ के पास में शिक्षण कार्य के अलावा क्षेत्र की समस्त विद्यालयों की समस्त प्रशासनिक व्यवस्था की भी जिम्मेदारी है। विद्यालयों में लिपिकों के पद रिक्त पड़े हैं। ग्राम पंचायतों को अब प्रवेशोत्सव के दौरान ग्राम पंचायतों में नियुक्ति होने के कारण विद्यालय के कार्यों में इनका कोई सहयोग नहीं है। इस कारण पीईईओ पर बोझ बढ़ गया है।

ग्राम पंचायत मुख्यालय पर स्थित आदर्श विद्यालयों को शिक्षण व्यवस्था के साथ-साथ ग्राम पंचायत के समस्त विद्यालयों के प्रशासनिक एवं अन्य कार्य का बोझ होने के कारण विद्यालय में शिक्षण कार्य के साथ साथ कार्यालय के काम भी करना मजबूरी है। इससे विद्यालय की शिक्षण व्यवस्था प्रभावित होती है। ग्राम पंचायत सहायकों को विद्यालय में कार्य का आदेश होता है, काफी राहत मिल सकेगी। -सुखराम खिलेरी, पीईईओ, सोनड़ी

प्रत्येक ग्राम पंचायत में तीन ग्राम पंचायत सहायकों की नियुक्ति की गई है। विकास अधिकारी अपने ग्राम पंचायत के अधीन 1 ग्राम पंचायत सहायक को रखकर 2 ग्राम पंचायत सहायकों को विद्यालयों में शिक्षण व्यवस्था के साथ-साथ कार्यालय कार्य में मदद करने मे अगर लगाया जाता है तो विद्यालय के कार्य काम में काफी मदद मिल सकती है।-ओम प्रकाश खीचड़, पीईईओ, भंवार

ग्राम पंचायत में जियो टैगिंग सहित सरकार की कई महत्वपूर्ण योजनाओं की मॉनिटरिंग एवं क्रियान्विति के लिए ग्राम पंचायत सहायकों को काम में लिया जा रहा है। राज्य सरकार के अस्पष्ट आदेश के चलते हमें इनका मुख्यालय ग्राम पंचायतों में कर रखा है कहीं पंचायत समितियों में इनका मुख्यालय आदर्श राजकीय विद्यालयों में भी है। तथा ग्राम पंचायतों के कुछ महत्वपूर्ण कार्य पूर्ण होने पर प्रत्येक ग्राम पंचायत से 1 ग्राम पंचायत सहायक को विद्यालय में नियुक्ति दी जाएगी। -शंकरलाल धारीवाल, विकास अधिकारी, सेड़वा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dhorimana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×