Hindi News »Rajasthan »Dhorimana» डेयरी प्रबंधन को लेकर हुई कार्यशाला में 55 दुग्ध उत्पादकों ने लिया भाग

डेयरी प्रबंधन को लेकर हुई कार्यशाला में 55 दुग्ध उत्पादकों ने लिया भाग

बाड़मेर | पशुपालक उन्नत नस्ल के पशुओं का वैज्ञानिक तरीके से पालन कर डेयरी व्यवसाय अपनाएं। डेयरी व्यवसाय ही परिवार...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 16, 2018, 04:00 AM IST

बाड़मेर | पशुपालक उन्नत नस्ल के पशुओं का वैज्ञानिक तरीके से पालन कर डेयरी व्यवसाय अपनाएं। डेयरी व्यवसाय ही परिवार की आजीविका का आधार है। यह बात श्योर संस्था द्वारा केयर्न वेदांता फाउंडेशन के सौजन्य से संचालित डेयरी विकास परियोजना के तहत दुग्ध संकलन केन्द्र परिसर डाबली ब्लाॅक धोरीमन्ना में आयोजित दुग्ध उत्पादक जन जागरूकता कार्यशाला में बोलते हुए कार्यक्रम प्रबंधक हनुमान राम चौधरी ने कही। उन्होंने कहा कि दुग्ध उत्पादक सहकारिता की भावना से सशक्त बनकर आदर्श डेयरी बनाने में समर्पित भाव से जुटें। चौधरी ने कार्यशाला के उद्देश्य की स्पष्टता के साथ संस्था, परियोजना स्वयं सहायता समूह की महता, अवधारणा, गठन व बैंक ऋण व बैंक लिकेजेज की विस्तार से जानकारी देते हुए कहा कि अच्छी नस्ल के पशुओं को पालनकर समय पर जांच टीकाकरण, डीवार्मिंग, उपचार कराकर कम खर्च में अधिक उत्पादन लें। कार्यक्रम प्रबन्धक ने सरकारी योजनाओं की जानकारी देते हुए पशु्ओं व पशुपालकों का बीमा कराने एवं अंध विश्वास, कुरीतियां त्यागने व नशा छोड़ने के लिए प्रोत्साहित किया। कार्यशाला में 06 महिलाओं सहित कुल 55 दुग्ध उत्पादकों ने भाग लिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dhorimana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×