Hindi News »Rajasthan »Didwana» उत्कृष्ट स्कूल; चारदीवारी भी नहीं, स्कूल मैदान के बीच में से होकर गुजरते हैं वाहन

उत्कृष्ट स्कूल; चारदीवारी भी नहीं, स्कूल मैदान के बीच में से होकर गुजरते हैं वाहन

भास्कर संवाददाता | शेरानी आबाद सरकार द्वारा बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने और बेटियों को शिक्षा के लिए अलग से स्कूल...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 04, 2018, 03:50 AM IST

भास्कर संवाददाता | शेरानी आबाद

सरकार द्वारा बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने और बेटियों को शिक्षा के लिए अलग से स्कूल खोले जाने की योजनाएं चलाई जा रही है। मगर शेरानी आबाद में सरकार द्वारा उत्कृष्ट स्कूल का दर्जा प्राप्त बालिका स्कूल भी मूलभूत सुविधाओं के अभाव में बालिकाओं के लिए परेशानी का कारण बना हुआ है।

इस स्कूल में न तो चारदीवारी है और न ही अन्य सुविधाएं। जिसका खामियाजा सीधे तौर पर अध्ययनरत बालिकाओं को भुगतना पड़ रहा है। वहीं लंच के दौरान बालिकाएं खेल भी नहीं सकती। इस दौरान विद्यालय मैदान के बीच से वाहन गुजरते रहते है जिससे हादसे का डर रहता है। वहीं ग्रामीणों ने यहां आने जाने का मार्ग बना रखा है।

जिससे शिक्षण कार्यों के दौरान भी बाधा पहुंच रही है। लोगों ने बताया कि कई बार जनसुनवाई के दौरान डीडवाना विधायक व मंत्री युनूस खान को अवगत करवाया गया मगर कोई समाधान नहीं निकला। जानकारी अनुसार ग्राम पंचायत को भी इसके बारे में अवगत करवाया तथा एसएमसी द्वारा बार-बार प्रस्ताव लेकिन ग्राम पंचायत को दिया मगर कार्यवाही नहीं होने से परेशानी झेलनी पड़ रही हैं। वहीं ग्राम पंचायत प्रशासन का कहना है कि उनको पूरे कागजात नहीं दिए है जिसके चलते काम आगे नहीं बढ़ा वहीं प्रधानाध्यापक का कहना है कि उनके द्वारा पूरी कार्यवाही करवाई गई है। प्रधानाध्यापक जमीन अहमद ने बताया कि उन्होंने कई बार मांग की है तथा चारदीवारी के लिए फिर से मांग की जाएगी।

पूरे कागजात आते ही करेंगे कोशिश

स्कूल की चारदीवारी के लिए संपूर्ण कागजात नहीं आए है अगर स्कूल प्रबंधन पूरे कागजात देता है जो चारदीवारी की जल्द कोशिश की जाएगी। लुकमान खान, सरपंच प्रतिनिधि, ग्राम पंचायत शेरानी आबाद।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Didwana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×