• Home
  • Rajasthan News
  • Didwana News
  • केंद्रीय राज्यमंत्री चौधरी से मांग की तो 3 दिन चली बस, अब फिर हो गई है बंद
--Advertisement--

केंद्रीय राज्यमंत्री चौधरी से मांग की तो 3 दिन चली बस, अब फिर हो गई है बंद

सरकार विकास की चाहे कितनी ही बातें कर ले, लेकिन आज भी अनेक क्षेत्र ऐसे हैं जो आवश्यक सुविधाओं से वंचित हैं। लाडनूं...

Danik Bhaskar | Mar 07, 2018, 04:00 AM IST
सरकार विकास की चाहे कितनी ही बातें कर ले, लेकिन आज भी अनेक क्षेत्र ऐसे हैं जो आवश्यक सुविधाओं से वंचित हैं। लाडनूं तहसील के अनेक गांव आजादी के 70 साल बाद भी अभी तक बस सुविधा से नहीं जुड़ पाए हैं। जिस कारण ग्रामीणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। तहसील के ग्राम तंवरा, रायधना, कुशलपुरा, रिडमलास आदि गांवों के ग्रामीण अपने गांवों से होकर निकलने वाली बसों के इंतजार में हैं। ग्रामीणों का कहना है कि बस की सुविधा से जुड़ाव नहीं होने के कारण उनकी रोजमर्रा के कई काम अटक जाते हैं। बीमारी या अन्य किसी आपात स्थिति में ग्रामीणों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ता है।

ग्रामीणों का आरोप है कि जनप्रतिनिधि केवल घोषणाएं करते हैं और भूल जाते हैं। जिससे उन ग्रामवासियों की बरसों की मुराद पूरी नहीं हो पा रही है। इन गांवों के लोगों के लिए रोडवेज या प्राईवेट बस सेवा नहीं होने से उन्हें पैदल या किसी के साथ बाइक पर आना जाना पड़ता है।

तंवरा निवासी राजस्थान जाट महासभा के अध्यक्ष गोपीराम ने बताया कि तंवरा ग्राम पंचायत क्षेत्र है। लेकिन अभी तक बस सेवा से नहीं जुड़ा है। जिसके चलते गांव की बेटियां 12वीं कक्षा के बाद कहीं आस पास के क्षेत्र में पढ़ने के लिए नहीं जा पाती हैं। जब आवश्यक सुविधाएं ही उपलब्ध नहीं होंगी तो वे अपनी बेटियों को पढ़ाएंगे कैसे। इसके चलते कई बेटियों को पढ़ाई बीच में भी छोड़नी पड़ी है। गोपीराम ने बताया कि गत वर्ष 8 मई को केन्द्रीय मंत्री सीआर चौधरी ने तंवरा से होकर बस चलाने की घोषणा की थी। जिसके बाद तीन दिन तक रोडवेज की बस इस गांव से चली उसके बाद आज तक नहीं चली। यह बस गनेड़ी से रायधना, कुशलपुरा, रिडमलास, कुमासिया, तंवरा, कसूंबी, जसवंतगढ़, लाडनूं से होकर डीडवाना तक संचालित की गई थी।