• Hindi News
  • Rajasthan
  • Didwana
  • घर से गई युवती विवाह प्रमाण पत्र लेकर थाने पहुंची, परिजनों को पहचानने से ही किया इनकार
--Advertisement--

घर से गई युवती विवाह प्रमाण पत्र लेकर थाने पहुंची, परिजनों को पहचानने से ही किया इनकार

मैं किसी को भी नहीं जानती। मैं अपने पति के साथ ही जाऊंगी। मुझे परेशान ना किया जाए। युवती के इतना कहने के बावजूद भी...

Dainik Bhaskar

Feb 17, 2018, 04:40 AM IST
घर से गई युवती विवाह प्रमाण पत्र लेकर थाने पहुंची, परिजनों को पहचानने से ही किया इनकार
मैं किसी को भी नहीं जानती। मैं अपने पति के साथ ही जाऊंगी। मुझे परेशान ना किया जाए। युवती के इतना कहने के बावजूद भी परिजन करीब 5 घंटे तक उसे मनाते रहे। लेकिन युवती एक ही रट मैने उससे शादी की है, उसके साथ ही अपना जीवन बिताऊंगी। यह सब चलता रहा शुक्रवार को मौलासर पुलिस थाने में। जानकारी अनुसार एक बालिग युवती जो गत 8 फरवरी को रात्रि में बिना कहे अपने प्रेमी के साथ भाग गई थी, वो शुक्रवार को मौलासर थाने लौटी तो अपने साथ विवाह प्रमाण पत्र लेकर लौटी। मौलासर थानाधिकारी शंभूसिंह ने बताया कि गत 8 फरवरी को मावा निवासी चैनाराम पुत्र स्व. हणमानराम जाट ने मामला दर्ज कर अपनी पुत्री पार्वती की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाई थी। जिसमें बताया था कि खाना खाकर सो गए। लेकिन सुबह उठे तो उसके घर में नहीं मिलने पर उसे सभी जगह ढूंढ़ा। उन्होंने बताया कि शुक्रवार सुबह युवती ने मौलासर थाने में पेश होकर बताया कि उसने स्वेच्छा से चौखा का बास वार्ड नंबर 1 निवासी लोसल मनोज कुमार पुत्र रामदेव जाति जाट के साथ बीकानेर शाखा आर्यसमाज में शादी कर ली है। युवती ने शादी का प्रमाण पत्र देकर मनोज के साथ ही रहने की इच्छा जताई।

परिजनों ने परंपरा अनुसार शादी करने का भी दिलाया भरोसा

पार्वती चौधरी के मौलासर थाने में आने की सूचना पर मावा निवासी चैनाराम सहित उसकी प|ी, बड़ी बेटी, भाभियां, नाना, नानी सभी पार्वती को मनाने पहुंचे तथा समाज की परंपरा के अनुसार शादी करने का भरोसा दिलाया। लेकिन युवती ने सभी को जानने से इनकार करते हुए प्रेमी मनोज के साथ ही जाने की जिद करती रही। हालांकि पुलिस ने सामाजिक स्तर पर मामला सुलझाने का भरसक प्रयास किया। लेकिन युवती के जिद पर अड़े रहने के चलते आखिरकार पुलिस पार्वती को लेकर डीडवाना स्थित न्यायालय में बयान के लिए ले गई।

X
घर से गई युवती विवाह प्रमाण पत्र लेकर थाने पहुंची, परिजनों को पहचानने से ही किया इनकार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..