Hindi News »Rajasthan »Didwana» डीडवाना क्षेत्र में 54 में से 33 पटवारियों के पद रिक्त 21 दिन से रिक्त पटवार मंडलों के ग्रामीण परेशान

डीडवाना क्षेत्र में 54 में से 33 पटवारियों के पद रिक्त 21 दिन से रिक्त पटवार मंडलों के ग्रामीण परेशान

राजस्थान पटवार मण्डल के आह्वान पर गत दिनों रिक्त पदों पर कार्य नहीं करने की घोषणा करने के साथ ही उपखण्ड क्षेत्र के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 06, 2018, 04:55 AM IST

डीडवाना क्षेत्र में 54 में से 33 पटवारियों के पद रिक्त 21 दिन से रिक्त पटवार मंडलों के ग्रामीण परेशान
राजस्थान पटवार मण्डल के आह्वान पर गत दिनों रिक्त पदों पर कार्य नहीं करने की घोषणा करने के साथ ही उपखण्ड क्षेत्र के रिक्त पदों पर पटवारियों द्वारा कार्य नहीं किए जाने के कारण ग्रामीण व शहरी क्षेत्र के लोगों के कार्य प्रभावित हो रहे हैं। पटवार संघ शाखा डीडवाना द्वारा संघ के आह्वान पर 16 जनवरी से रिक्त पदों पर कार्य करने के लिए मना किए जाने के साथ ही रिक्त पदों के पटवार मण्डल सुने पड़े हैं। पटवार मण्डल की मांग है कि रिक्त पदों की भर्ती की जाए। अतिरिक्त कार्य करने के लिए पटवारियों को पाबंद नहीं किया जाए। जिसके चलते 21 दिनों से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

जाति, मूल निवास व जन्म प्रमाण पत्र के कार्य भी अटके

डीडवाना उपखण्ड क्षेत्र में 54 पटवार मण्डल हैं। जिसमें 33 पटवार मण्डल पर पटवारियों के पद रिक्त पड़े हैं। 21 मंडलों पर पटवारी कार्यरत हैं। इन पटवारियों में किसी के पास दो तो किसी के पास तीन पटवार मण्डलों का अतिरिक्त कार्यभार है। सिंघाना, कोलिया, पालोट, केराप, मामड़ोदा, लोरोली कलां, सानिया, आगुन्ता, शेरानी आबाद, पावा, थेबड़ी, खरवालिया, बेगसर, आकोदा, बरांगणा, दौलतपुरा, फोगड़ी, चौलूखां, दीनदारपुरा, ललासरी, बरड़वा, सुपका, नूवा, खाखोली, सुदरासन, बेरी खुर्द, रसीदपुरा, छापरी कलां, अलखपुरा, बांसा, निमोद, धनकोली, दाऊदसर इन सभी पंचायतों पर पटवारियों के पद रिक्त पड़े हैं। ऐसे में हर वर्ग के लाेगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जिसमें विद्यार्थियों से सम्बन्धित पटवारी की रिपोर्ट के बगैर जाति प्रमाण पत्र, मूल निवास, जन्म प्रमाण पत्र, आधार कार्ड सम्बन्धित लगने वाले दस्तावेज का सत्यापन नहीं होने सहित कई समस्याएं हो रही हैं। पटवारियों के रिक्त पदों पर कार्य नहीं करने के बहिष्कार करने पर प्रशासन द्वारा कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं की है। यह स्थिति डीडवाना ही नहीं अनेक क्षेत्रों की है। क्षेत्र के एसडीएम का कहना है कि नकल सम्बन्धित जो रिकॉर्ड तहसील मुख्यालय में उपलब्ध है वह नकलें दी जा रही है। पटवार यूनियन की सरकार से वार्ता चल रही है। वैकल्पिक व्यवस्था के लिए उपाय किए जा रहे हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Didwana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×