डीडवाना

--Advertisement--

डीडवाना में सरकारी स्कूल की भूमि को बचाने की मांग

राजकीय बांगड़ उच्च प्राथमिक विद्यालय नं-2 प्रकरण में एक व्यक्ति द्वारा विद्यालय की भूमि को अपनी बताते हुए एसडीएम व...

Danik Bhaskar

Feb 10, 2018, 05:30 AM IST
राजकीय बांगड़ उच्च प्राथमिक विद्यालय नं-2 प्रकरण में एक व्यक्ति द्वारा विद्यालय की भूमि को अपनी बताते हुए एसडीएम व शिक्षा विभाग के अधिकारियों को विद्यालय मैदान खाली किए जाने के दिए गए नोटिस मामले में नगर के लोगों द्वारा विरोध शुरू कर दिया गया है।

इसी क्रम में मानव अधिकार संगठन के आनंद अंबापा, राकेश ओगरा, डीडवाना न्याय संघर्ष समिति के अध्यक्ष पप्पू तंवर ने मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन एसडीएम उत्तम सिंह शेखावत को देकर सरकारी विद्यालय की भूमि को तथाकथित लोगों के हाथ नहीं लगने की मांग की है। ज्ञापन में बताया कि सरकार ने एकीकरण योजना में उक्त विद्यालय को बंद कर दिया था। यह जमीन सरकार की है 1936 से यह विद्यालय चल रहा है, कुछ लोगों ने भूमाफियाओं को साथ लेकर शहर के मध्य भाग की करोड़ों रुपए की लागत की भूमि को हड़पने की नियत से फर्जी दस्तावेज तैयार कर लिए है।

अगर दानदाता ने स्कूल मैदान के लिए भूमि दी तो उनके नाम का बोर्ड 75 वर्ष में ही नहीं लगा। जबकि लम्बे अंतराल से बांगड़ स्कूल ही इसका नाम है। उन्होंने मांग की है कि व्यक्ति विशेष द्वारा स्कूल की भूमि के स्वामित्व को लेकर दिए गए नोटिस का जवाब देकर उनसे ऑरिजनल दस्तावेज मांगकर उनकी जांच करवाई जाए एवं सरकारी भूमि को बचाया जाए।

Click to listen..