डीडवाना

--Advertisement--

नवीन गौशाला का हुआ लोकार्पण

गाय की रक्षा करना प्रत्येक मानव का धर्म है। जिस घर में गाय का वास होता है, उस घर में देवताओं का निवास होता है, गाय का...

Danik Bhaskar

Mar 04, 2018, 08:05 AM IST
गाय की रक्षा करना प्रत्येक मानव का धर्म है। जिस घर में गाय का वास होता है, उस घर में देवताओं का निवास होता है, गाय का दूध अमृत के समान है। मगर आज हम लोग इस तरफ ध्यान नहीं देते है जो विनाश का कारण भी बनता है। हिन्दू सनातन धर्म में गाय को माता के समान माना गया है।

यह बात शनिवार को नवीन गोपाल गौशाला के लोकापर्ण समारोह के दौरान झालरिया पीठाधीश्वर स्वामी घनश्यामाचार्य महाराज ने आशीर्वाद वचन देते हुए कही। इस मौके पर पीठ के युवाचार्य स्वामी भूदेवाचार्य महाराज ने कहा कि गाय का दूध तो अमृत है ही मगर गाय का गोबर व गौमूत्र से अनेक प्रकार की औषधियां बनाती है जो एक संजीवनी का कार्य करती है। इस मौके पर मुख्य अतिथि पीडब्ल्यूडी मंत्री युनूस खान ने कहा कि 750 करोड़ रुपए की लागत से डीडवाना को पेयजल की विशेष सुविधाओं से जोड़ा जा रहा है। गौशालाध्यक्ष रमेश बांगड़ ने गौशाला की व्यवस्थाओं के बारे में जानकारी दी। इस मौके पर नवीन गोपाल गौशाला व कामधेनु सभागार जो कि पीडी बांगड़, जीडी बांगड़ की पुण्य स्मृति में बनाया गया। जिसका लोकार्पण किया। इससे पूर्व झालरिया मठ से भगवान जानकीनाथ की सवारी विशेष कलश यात्रा निकाली गई। समिति के उपाध्यक्ष ओमप्रकाश मोदी व मंत्री सुरेश वर्मा ने बताया कि गोपाल गौशाला की ही गाढ़ा बास स्थित भूमि पर नवीन गौशाला का निर्माण किया गया है। जिसमें गायों के लिए सर्दी, धूप, बारिश में बैठने की उचित व्यवस्था, नवीन साण्ड शाला, बंटा भवन, गायों का प्रसव कक्ष एवं बीमारू गायों के लिए अलग कक्ष की व्यवस्था होगी। इसके साथ ही जल संग्रहण के लिए विशाल हौज भी बनाए गए है। कार्यक्रम का संचालन राजेंद्र माथुर ने किया।

आयोजन

डीडवाना में हुआ कार्यक्रम, जल संग्रहण के लिए बनाया गया विशाल हौज भी

डीडवाना. नवीन गौशाला के लोकार्पण समारोह के दौरान उपस्थित नगर के लोग।

Click to listen..