डीडवाना

  • Home
  • Rajasthan News
  • Didwana News
  • पोषाहार चख शिक्षकों से एडीएम ने पूछा- आपके घर में भी ऐसी ही दाल बनती है?
--Advertisement--

पोषाहार चख शिक्षकों से एडीएम ने पूछा- आपके घर में भी ऐसी ही दाल बनती है?

एडीएम बलवंत सिंह लिग्री ने बुधवार को विद्यालयों का निरीक्षण किया। व्यवस्था में सुधार के निर्देश दिए। एडीएम सिंह...

Danik Bhaskar

Feb 01, 2018, 12:40 PM IST
एडीएम बलवंत सिंह लिग्री ने बुधवार को विद्यालयों का निरीक्षण किया। व्यवस्था में सुधार के निर्देश दिए। एडीएम सिंह ने सुबह 11 से दोपहर 1:30 बजे तक विद्यालयों का निरीक्षण किया। शेखाबासनी के विद्यालय में सफाई व्यवस्था सही नहीं मिली। उन्होंने नाराजगी जताते हुए शिक्षकों को स्वच्छता का ध्यान रखने की बात कही।

उग्रपुरा व निमोद के विद्यालय में पोषाहार में अनियमितता मिली। पोषाहार की दाल को चखा और कहा कि गुणवत्ता सही नहीं है। आपके घर में भी ऐसी दाल ही बनाते हैं। उन्होंने कहा कि पोषाहार में लापरवाही कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसमें तुरंत सुधार किया जाए। कीचक, कासैड़ा के सरकारी स्कूल के निरीक्षण में विद्यालय में स्थित पोषाहार कक्ष में सफाई नहीं होने पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं चलेगा आपको व्यवस्थाओं में सुधार लाना ही होगा। एडीएम ने जिन स्कूलों में अनियमितता पाई वहां पर सुधार करवाने के लिए हो संबंधित बीईईओ को दूरभाष पर निर्देश दिए।

वक्ता बोले- बालिका शिक्षा से ही समाज की तरक्की

बूड़सू | महिला एवं बाल विकास विभाग की चिराली सदा साथ योजना मे मुख्य समूह का गठन गुरुवार को ग्राम पंचायत बूड़सू स्थित अटल सेवा केन्द्र में पर किया गया। बूड़सू उप सरपंच प्रतिनिधि मनोज पारीक ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में आज भी महिला अत्याचार जारी है जिसकी रोकथाम का एकमात्र उपाय बालिका शिक्षा है। इसके माध्यम से ही बालिकाओं को उनके कानूनी अधिकारों की जानकारी देकर सक्षम बनाया जा सकता है। इस मौके पर वार्डपंच जगदीश टेलर नेे कहा कि बालिकाओं के सर्वांगीण विकास के लिए सबसे अधिक बाल विवाह की रोकथाम करना बेहद जरूरी है। इससे बेटियों की तरक्की रुक जाती है। मानसिक और शारीरिक विकास भी प्रभावित होता है। ग्राम साथिन संता देवी ने विचार व्यक्त किए। इस मौके पर पूर्व सरपंच भैैरूराम घोटिया, कृषि विभाग के राजेन्द्र पारीक, नेमीचंद गौड़, शिक्षिका कमलादेवी, सोनिया पारीक, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मंजूदेवी, कमला, अंजू, बनारसी, युगल कंवर, गिरिजा, सहयोगिनी अनिता, मंजू, राजू, बिदामी, सज्जन कंवर, मुन्नीदेवी, पीथाराम, बंटी पारीक आदि मौजूद थे।

डीडवाना

Click to listen..