Hindi News »Rajasthan »Didwana» गरिमा ने बढ़ाया गौरव : भाई के संघर्ष से मिली प्रेरणा, जयपुर व डीडवाना में पढ़ बनीं आईएएस

गरिमा ने बढ़ाया गौरव : भाई के संघर्ष से मिली प्रेरणा, जयपुर व डीडवाना में पढ़ बनीं आईएएस

संघ लोक सेवा आयोग की ओर से शुक्रवार को जारी किए गए आईएएस के परिणाम जिले में भी खुशियां लेकर आए। आईएएस के लिए चयनित...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 28, 2018, 02:50 AM IST

  • गरिमा ने बढ़ाया गौरव : भाई के संघर्ष से मिली प्रेरणा, जयपुर व डीडवाना में पढ़ बनीं आईएएस
    +1और स्लाइड देखें
    संघ लोक सेवा आयोग की ओर से शुक्रवार को जारी किए गए आईएएस के परिणाम जिले में भी खुशियां लेकर आए। आईएएस के लिए चयनित होने वाली प्रतिभाओं में पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के समधी डीडवाना निवासी कमलेश कुमार पंवार की बेटी गरिमा पंवार भी शामिल है। गरिमा ने इस परीक्षा में 212वीं रैंक हासिल की है। गरिमा बताती हैं कि उसने आईएएस परीक्षा की तैयारी जयपुर व डीडवाना में की। इसके लिए उसके पिता कमलेश कुमार और माता नंदूश्री पंवार का पूरा सहयोग रहा। गरिमा ने बताया कि उसका और परिजनों का दोनों का ही सपना था कि वह आईएएस बने। गरिमा ने बताया कि उनकी इस कामयाबी में उनके भाई का बड़ा योगदान रहा है। वे बताती हैं कि लंबे समय तक उनके भाई ने बीमारी के दौरान जीवन के लिए कड़ा संघर्ष किया था। तब उनके जीवन को करीब से देखा तो लगा कि वह अपनी जिंदगी के लिए कड़ा मुकाबला कर सकते है तो वह अपने जीवन में खुद के लिए तो संघर्ष कर ही सकती है। हालांकि बाद में उनके भाई का निधन हो गया था। गरिमा ने बताया कि अपने भाई के जीवन के संघर्ष से मिली प्रेरणा और माता-पिता व बहन के मार्गदर्शन से उसे आज यह कामयाबी हासिल हो पाई है।

    रैंक 212

    डीडवाना, गोटन, दिल्ली और जयपुर में की पढ़ाई

    गरिमा के पिता कमलेश कुमार पंवार ने बताया कि गरिमा ने कक्षा 7 तक डीडवाना में ही अध्ययन किया। इसके बाद उसने गोटन, दिल्ली और जयपुर में पढ़ाई की। वे बताते हैं कि गरिमा से एक बड़ी बहन भी है। गरिमा नेट भी क्लियर कर चुकी है। शुक्रवार को आईएएस में भी चयन हो गया है। परिणाम जारी होने के साथ ही परिवार में खुशियों का माहौल छा गया। गरिमा पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत की छोटी साली है। परिचितों और शुभचिंतकों की ओर से गरिमा व उनके परिजनों को बधाई दी गई।

    अक्षय का 2 बार आईपीएस में चयन, अब बने आईएएस

    दो बार आईपीएस में चयनित हुए अक्षय बुढ़ानिया को इस बार आईएएस में 127वीं रैंक मिली है। अक्षय नागौर डीटीओ ओपी बुढ़ानिया के भतीजे हैं। डीटीओ बुढ़ानिया ने बताया था कि 2015 में अक्षय का चयन आईपीएस में महाराष्ट्र कैडर से हुआ था। उस समय कम उम्र के कारण उन्हें अंक कम मिले थे। फिर अक्षय मध्यप्रदेश कैडर से आईपीएस चुने गए। अब अक्षय बुढ़ानिया को सिविल सेवा परीक्षा में जनरल कैटेगरी में 127वीं रैंक मिली है।

    संकल्प

    मेड़ता रोड | मेड़ता रोड निवासी राहुल भाटी का भारतीय प्रशासनिक सेवा में चयन हुआ है। वर्तमान में राहुल उप निदेशक भारतीय ऊर्जा नियामक विभाग दिल्ली में कार्यरत है। भाटी को 554वीं रैक मिली है। कस्बे के माली मोहल्ला निवासी उम्मेदसिंह भाटी प्राध्यापक राउमावि मेड़ता रोड के 26 वर्षीय पुत्र राहुल भाटी का पूर्व में आईईएस में चयन होने के बाद वर्तमान में दिल्ली में भारतीय ऊर्जा नियामक विभाग में उप निदेशक के पद पर कार्यरत है। पूर्व में गत माह ही आईएफएस में भी चयन हुआ था। अब आईएएस में 554वीं रैक प्राप्त हुई है। चयन होने पर मेड़ता रोड में खुशी की लहर छा गई। राहुल भाटी के परिजनों ने बताया कि वह शुरू से ही प्रतिभावान विद्यार्थी रहा है। उसने तय रखा था कि वह आईएएस ही बनेगा। इसके लिए उसने कड़ी मेहनत करते हुए लगातार अपने लक्ष्य के प्रति अपने प्रयास जारी रखे। उन्होंने बताया कि वर्तमान में भी नौकरी के साथ अपनी पढ़ाई लगातार जारी रखी। हाल ही में कुछ समय पहले आईएफएस में चयन होने के बाद शुक्रवार को जारी हुए परिणाम ने परिवार के लिए खुशियाें को दोगुना कर दिया। वहीं राहुल के अभी दिल्ली होने पर उनके परिचितों न उन्हें व उनके परिजनों को बधाई दी। देर शाम तक उन्हें बधाई देने वालों की भीड़ लगी रही।

    रैंक 554

    आईएफएस के बाद राहुल का आईएएस में चयन

  • गरिमा ने बढ़ाया गौरव : भाई के संघर्ष से मिली प्रेरणा, जयपुर व डीडवाना में पढ़ बनीं आईएएस
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Didwana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×