Hindi News »Rajasthan »Didwana» पांच साल से अधूरा पड़ा है पंचायत समिति का नवीन भवन निर्माण कार्य, सरकार बदलते ही काम रुका

पांच साल से अधूरा पड़ा है पंचायत समिति का नवीन भवन निर्माण कार्य, सरकार बदलते ही काम रुका

डीडवाना पंचायत समिति के नवीन भवन का निर्माण कार्य लम्बे अंतराल से विभागीय लापरवाही से रुका हुआ पड़ा है। जानकारी...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 16, 2018, 04:35 AM IST

पांच साल से अधूरा पड़ा है पंचायत समिति का नवीन भवन निर्माण कार्य, सरकार बदलते ही काम रुका
डीडवाना पंचायत समिति के नवीन भवन का निर्माण कार्य लम्बे अंतराल से विभागीय लापरवाही से रुका हुआ पड़ा है। जानकारी अनुसार यह कार्य पूर्व सरकार द्वारा शुरू करवाया गया था तथा काफी हद तक पूरा भी किया गया था लेकिन विधानसभा चुनाव के बाद जैसे ही सरकार बदली आगे का बजट रूक गया। जिससे वित्तीय अभाव में अाज तक काम वापस शुरू नहीं हो सका है। जिसके कारण पंचायत समिति सदस्यों, सरपंच एवं विभागीय कर्मचारियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पंचायत समिति भवन वर्तमान में पालिका के सामने स्थित है जो शहरी क्षेत्र के मुख्य बाजार में होने के कारण ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले जनप्रतिनिधियों को अनेक बार व्यस्त मार्ग में आना पड़ता है और इसी उद्देश्य को लेकर पूर्व सरकार द्वारा 17 मई 2013 को नवीन भवन का शिलान्यास समारोह उपाध्याय सर्किल के पास स्थित पंचायत समिति के आईटीआई केन्द्र के पास पंचायत समिति की करीब 6 बीघा भूमि पर शुरू किया गया था। जिसका निर्माण कार्य तो अधिकांश रूप से हो चुका है मगर नवीन भवन की छत, फर्श, दरवाजे, प्लास्टर यानि संपूर्ण फिनिसिंग का कार्य वित्तीय अभाव के कारण रुका हुआ है। साथ ही पंचायत समिति का आईटीआई सेंटर भी यहीं स्थित है जहां नरेगा संबंधित कार्य कर्मियों द्वारा किया जाता है। यही नहीं प्रशासनिक स्तर पर वीसी केन्द्र भी यहीं बना हुआ है। हर दृष्टि से भवन उपयुक्त है मगर निर्माण कार्य अधूरा होने के कारण सभी को परेशानी हो रही है।

लापरवाही

बजट नहीं

नवीन भवन के निर्माण के लिए 27 फरवरी 2012 को विधायक की अनुशंषा पर एक कमेटी गठित की गई थी जिसमें 27 अगस्त 2012 को एसडीएम, बीडीओ व सानिवि अधिशाषी अभियंता की एक कमेटी गठित की गई थी। इसके बाद बैठकों में कई बार निर्णय लिए गए तथा इस कार्य में स्वीकृत राशि में से 60 लाख रुपए की राशि ही मिली जिसमें 41.19 लाख की लागत राशि का कार्य हो चुका है। हालांकि यह भवन 60 लाख की लागत से ही बनने वाला है। इस भवन के शिलान्यास के बाद 1 अगस्त 2013 को शुरू कर दिया गया था और समाप्ति की अवधि भी 15 अक्टूबर 2014 को निर्धारित की गई थी मगर काम बीच में रुक गया।

डीडवाना. अधूरा बंद पड़ा पंचायत समिति का नया भवन।

कार्यकारी एजेंसी है ग्राम पंचायत लादड़िया

इस कार्य के लिए कार्यकारी एजेंसी ग्राम पंचायत लादड़िया को दी गई और पूर्व में स्वीकृत लागत राशि अलग-अलग फण्ड से जारी हुई थी जिसमें निबंध फण्ड योजना, पंचायत समिति निजी स्तर, विधायक कोष एवं पंचायत राज विभाग की ओर से राशि स्वीकृत हुई थी मगर केवल मात्र 60 लाख की ही राशि मिली है एवं कार्य रुक गया।

कमेटियां बनी, स्वीकृति मिली लेकिन निर्धारित अवधि तक काम पूरा नहीं हुआ

147 लाख की मिली थी वित्तीय स्वीकृति, 40 लाख का ही हुआ कार्य

जन प्रतिनिधि व ग्रामीणों को हो रही है परेशानी

इस अधूरे निर्माण कार्य के कारण पंचायत समिति सदस्य, सरपंच सहित जन प्रतिनिधियों को भारी परेशानी हो रही है। वर्तमान में पंचायत समिति भवन नगर पालिका के सामने शहर के व्यस्त मार्ग में स्थित है, जहां जनप्रतिनिधि अपने निजी वाहनों से आते है तो वाहन खड़े करने तक की जगह नहीं है और पंचायत समिति के बाहर वाहनों को खड़ा करने से यातायात बाधित होता है। यहीं नहीं वर्तमान पंचायत समिति में विभागीय कर्मचारियों के कक्ष भी संख्या बल के हिसाब से कम है। नवीन भवन उपाध्याय सर्किल के पास खुली जगह में बनाया गया है जहां सैकड़ों वाहन की पार्किंग हो सकती है और कर्मचारियों के कक्ष भी नवीन भवन में पर्याप्त मात्रा में है।

द्वैषता भी

पंचायत समिति के नवीन भवन के अधूरे निर्माण का कारण प्रारंभिक जांच के दौरान राजनीतिक द्वैषता ही फिलहाल माना जा रहा है। क्योंकि पूर्व सरकार द्वारा ही इसका निर्माण किया गया था और संपूर्ण राशि नहीं मिल पाई। निर्माण कार्य की वित्तीय किस्त राशि जैसे ही मिलने वाली थी सरकार बदल गई और योजना अधर में रह गई एवं निर्माण कार्य जस का तस पड़ा है। पंचायत समिति सदस्य भंवरलाल जाखड़, सुखराम डोडवाडिय़ा, श्याम प्रताप सिंह राठौड़ आदि का मानना है है कि नवीन भवन का निर्माण जल्द से जल्द हो, यह पूर्वाग्रह से घृणित होकर सरकार द्वारा विभागीय अधिकारियों को दवाब में लेकर निर्माण कार्य में वित्तीय स्वीकृति प्रदान नहीं की जा रही है।

बीडीओ से रिपोर्ट ले देंगे कार्य को गति

इस संबंध में मेरा मानना यह है कि अगर पंचायत राज विभाग पूर्व सरकार द्वारा की गई वित्तीय स्वीकृति को बहाल करते हुए शेष राशि पंचायत समिति को देती है तो अधूरा निर्माण कार्य पूरा हो सकता है। मैंने पंचायत समिति की बैठक में भी इस मुद्दे को उठाकर स्वीकृति जारी करने के लिए बैठक की प्रोसेडिंग पंचायत राज विभाग को भेजी है। निश्चित रूप से भवन बनना चाहिए नहीं तो अधूरे भवन को बारिश के कारण हर बार नुकसान हो रहा है। गूलाराम ढाका, प्रधान, पंचायत समिति डीडवाना

इस संदर्भ में मैं पंचायत समिति विकास अधिकारी व तकनीकी इंजीनियर से बात करूंगा, किस कारण से कार्य रुका हुआ है, अगर तकनीकी असुविधा है तो उसकी जांच करवाकर पूरा किया जाएगा। विकास अधिकारी से रिपोर्ट ली जाएगी पैसा सरकार का लगा है तो काम भी पूरा होना चाहिए। निश्चित रूप से इसकी जांच करवाकर कार्य को गति दी जाएगी जवाहर चौधरी, सीईओ, जिला परिषद

पिछली सरकार ने कराया था निर्माण, नहीं मिली पूरी राशि, राजनैतिक द्वैषता का आरोप

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Didwana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×