Hindi News »Rajasthan »Dungarpur» सतीरामपुर, थाणा और दोवड़ा फीडर में सबसे ज्यादा ट्रिपिंग

सतीरामपुर, थाणा और दोवड़ा फीडर में सबसे ज्यादा ट्रिपिंग

भास्कर संवाददाता | डूंगरपुर गर्मी शुरू होते ही 132 केवी ग्रिड स्टेशन पर अब ट्रिपिंग समस्या का डर सताने लगा है। ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 04, 2018, 02:45 AM IST

भास्कर संवाददाता | डूंगरपुर

गर्मी शुरू होते ही 132 केवी ग्रिड स्टेशन पर अब ट्रिपिंग समस्या का डर सताने लगा है।

सतीरामपुर, थाणा और दोवड़ा फीडर में बार-बार ट्रिपिंग के कारण करीब एक लाख उपभोक्ता को बिजली कटौती की परेशानी झेलनी पड़ती है। गर्मी के मौसम में ट्रिपिंग की समस्या बढ़ती चली जाती है। जीएसएस से आठ फीडर शहर और ग्रामीण क्षेत्र में बिजली सप्लाई देते है। जिसमें सतीरामपुर और दोवड़ा फीडर में हर माह औसत 50 से 60 पर बिजली की ट्रिपिंग होती है। विद्युत प्रसारण निगम जयपुर की ओर से जिला मुख्यालय पर 132 केवी ग्रिड स्टेशन स्थापित कर रखा है। जहां से डूंगरपुर शहर, डूंगरपुर पंचायत समिति, दोवड़ा पंचायत समिति, झौथरी पंचायत समिति और सिंटेक्स मील को बिजली सप्लाई दी जाती है।

हर माल औसत 50 से 60 बार ट्रिपिंग, 132 केवी ग्रिड स्टेशन से जुड़ी है लाइन, फिर कोई स्थानी समाधान नहीं

ट्रिपिंग:(फाल्ट)

डिस्कॉम स्तर पर बिजली तारों, ट्रांसफार्मर और अन्य विद्युत उपकरण की ओर से अव्यवस्था पर बिजली बंद हो जाती है, जिसे ट्रिपिंग कहते है।

आंकड़ों में स्थिति

दोवड़ा: अपै्रल 2016 में 37, मई में 45, जून 51, जुलाई 6 6 , अगस्त में 36 , सितंबर 54, अक्टूबर 29, नवंबर 20, दिसंबर 32 जनवरी 2018 में 13 बार ट्रिपिंग हुई।

थाणा: अपै्रल 2016 में 42, मई में 22, जून 74, जुलाई 77, अगस्त में 65, सितंबर 50, अक्टूबर 30, नवंबर 9, दिसंबर 16 जनवरी 2018 में 10 बार ट्रिपिंग हुई।

सतीरामपुर: अपै्रल 2016 में 12, मई में 35, जून 24, जुलाई 26 , अगस्त में 39, सितंबर 28 , अक्टूबर 15, नवंबर 15, दिसंबर 9 जनवरी 2018 में 13 बार ट्रिपिंग हुई।

सुधार के लिए हर माह भेजते है ई-मेल

विद्युत प्रसारण निगम को ट्रिपिंग के कारण ब्रेकर खराब होने, ट्रांसफार्मर खराब होने और जंपर टूटने की शिकायत रहती है। जिससे करीब 2 से 3 लाख का नुकसान होता है। इसके लिए प्रसारण निगम की ओर से हर माह मरम्मत और सुधार के लिए सूचना भेजी जाती है। जिसमें वितरण में पेड़ों की कटिंग, जंपर सही तरीके से बांधना और लूज वायर का खिंचने के निर्देश भेजे जाते है।

गर्मी का मौसम बढ़ने के कारण ट्रिपिंग की समस्या बढ़ती जा रही है। इसके लिए प्रति माह ट्रिपिंग रिकॉर्ड के साथ लाइन रखरखाव और सुधार के निर्देश भेजे जाते हैं। इसके बावजूद प्रतिमाह ट्रिपिंग को कम करने के लिए कोई प्रयास नहीं होते है। -केएल डामोर, एईएन 132 केवी विद्युत प्रसारण निगम डूंगरपुर।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Dungarpur News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: सतीरामपुर, थाणा और दोवड़ा फीडर में सबसे ज्यादा ट्रिपिंग
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Dungarpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×