Hindi News »Rajasthan »Dungarpur» चार साल से लापरवाही का लीकेज, रोज बह रहा 5 हजार लीटर पानी

चार साल से लापरवाही का लीकेज, रोज बह रहा 5 हजार लीटर पानी

पुराने शहर के कोतवाली से झालण मठ मुख्य सड़क पर स्थित भोईवाड़ा स्कूल के बाहर पिछले चार साल से लीकेज से प्रतिदिन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 03:50 AM IST

पुराने शहर के कोतवाली से झालण मठ मुख्य सड़क पर स्थित भोईवाड़ा स्कूल के बाहर पिछले चार साल से लीकेज से प्रतिदिन पांच हजार लीटर शुद्ध पानी बह जाता है। लगातार होने वाले इस लीकेज को सुधारने के लिए चार साल से जलदाय विभाग का कोई भी इंजीनियर स्थाई समाधान नहीं कर पाया है।

इस कारण रोज यहां से गुजरने वाले राहगीर, जायरिन, बच्चे और वाहनों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। लगातार पानी बहने से डामर सड़क भी क्षतिग्रस्त होकर टूट गई है। नगर परिषद भी बार-बार सड़क बनाकर परेशान है। ऐसे में अब लीकेज के लिए स्पेशल नाली बनाने का प्लान कर रही है, जिससे पूरी सड़क क्षतिग्रस्त होने से बचाया जा सके। शहर के पुराने चांदपोल पंप हाउस के पास राउप्रावि भोईवाड़ा के बाहर पिछले चार साल से लीकेज होने के कारण लगातार पानी निकलता है।

ये पानी बहकर पूरी सड़क पर फैलता है। इसी मार्ग पर स्कूल होने के साथ ही मस्तान बाबा की दरगाह, कब्रिस्तान मार्ग और नवाडेरा को जोड़ने के लिए सड़क बनी हुई है। सड़क के डामरीकरण और सुधार करने का कार्य नगर परिषद की ओर से किया जाता है।

मुख्य सड़क के किनारे जलदाय विभाग की दो मुख्य लाइन पेयजल टंकियों को भरने के लिए जाती है। इसी पास से एक सर्विस लाइन भूमिगत गुजर रही है। तीन बड़ी पाइपलाइन होने के कारण आए दिन नियमित लीकेज बना रहता है। इसी के पास में एयर वॉल्व भी बना हुआ है, जहां से पानी निकलता रहता है।

डूंगरपुर। भोईवाड़ा स्कूल के बाहर लीकेज में पाइपलाइन बदलते तकनीकी कर्मचारी।

सालभर खुला रहता है गड्‌ढा

भोईवाड़ा स्कूल के बाहर जमीन में लीकेज होने के कारण लगातार पानी बहता रहता है। इस कारण यहां पर पिछले चार साल से गड्डा कर रखा है। गड्ढों को भरने, सीमेंट करने और डामर करने का कार्य भी नहीं किया गया है। हर माह रिपेयरिंग का कार्य चलता है। इस कारण गड्ढे को कभी भी भरने का काम नहीं हुआ। गड्ढे के कारण बच्चों, महिलाओं और बुजुर्ग को संभलकर रास्ता क्रॉस करना पड़ता है।

परेशानी :

1. कोतवाली चांदपोल सड़क खस्ताहाल।

2. स्कूल जाने वाले बच्चे कीचड़ से होकर गुजरने को मजबूर

3. मस्तान बाबा की दरगाह में जाने वाले जायरीन को होती है परेशानी

आम नागरिक से जनप्रतिनिधि तक कर चुके हैं शिकायत

पुराने शहर में मस्तान बाबा की दरगार और सरकारी स्कूल होने के कारण क्षेत्र के जनप्रतिनिधि, पार्षद, विधायक और सभापति ने लीकेज का स्थाई समाधान करने की जरूरत बताई है। इसके बावजूद विभाग के जेईएन, एईएन और एक्सईएन ने आज तक कोई स्थाई समाधान नहीं किया है। हर बार रिपेयरिंग का कार्य कर औपचारिकता पूर्ण कर लेते हैं। समस्या यथावत है।

10 इंजीनियर मिलकर भी नहीं कर पाए स्थाई समाधान

भोईवाड़ा स्कूल के बाहर पाइपलाइन लीकेज के कारण पानी व्यर्थ बहता है। ऐसे में इस तकनीकी परेशानी के लिए जिला मुख्यालय पर पीएचईडी के 10 इंजीनियर हमेशा रहते हैं। इसके बावजूद इस लीकेज की समस्या के लिए किसी ने अपनी डिग्री और कार्य अनुभव का उपयोग नहीं किया। हर बार तकनीकी कर्मचारी की टीम भेजकर सुधार का कार्य किया जाता है।

लीकेज को सुधारने के लिए टीम भेज दी है। शाम तक लीकेज को दुरुस्त करा देगी। पाइपलाइन के ऊपर भारी वाहन गुजरने से लीकेज हुआ था। -आलोक गरासिया, एईएन जलदाय विभाग शहर

भोईवाड़ा स्कूल के बाहर लीकेज के कारण बहते पानी में बच्चे को स्कूल छोड़ने जाती महिला।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Dungarpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×