• Hindi News
  • Rajasthan
  • Dungarpur
  • सरकारी स्कूल के प्रधानाचार्य से लेकर स्टाफ उठा रहे पढ़ाई का खर्चा
--Advertisement--

सरकारी स्कूल के प्रधानाचार्य से लेकर स्टाफ उठा रहे पढ़ाई का खर्चा

Dungarpur News - सरकारी स्कूलों में अब प्रधानाचार्य से लेकर स्टाफ प्रवेशोत्सव में अधिक से अधिक बच्चों को आकर्षित करने और प्राइवेट...

Dainik Bhaskar

May 03, 2018, 02:45 AM IST
सरकारी स्कूल के प्रधानाचार्य से लेकर स्टाफ उठा रहे पढ़ाई का खर्चा
सरकारी स्कूलों में अब प्रधानाचार्य से लेकर स्टाफ प्रवेशोत्सव में अधिक से अधिक बच्चों को आकर्षित करने और प्राइवेट स्कूलों को टक्कर देने के लिए नवाचार का इस्तेमाल कर रहे हैं।

इसका असर अब समाज में पॉजिटिव नजर आ रहा है। इसके लिए कक्षा 9 व 10 में बेटियों के लिए निशुल्क शिक्षा, शैक्षणिक सामग्री की उपलब्धता, स्कूल की भौतिक सुविधा और गुणवत्ता पर फोकस किया जा रहा है। जिससे सरकारी स्कूलों में घटते नामांकन पर लगाम लगाई जा सके।

पिछले कई वर्षों से प्राइवेट स्कूलों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होने से सरकारी स्कूलों का नामांकन घटता चला गया। जिसके कारण पिछले पांच वर्ष में सरकार की ओर से करीब 400 से अधिक सरकारी स्कूलों को बंद कर दिया है। वहीं कुछ स्कूलों को एकीकरण में शामिल कर दिया गया है।

इससे सरकारी स्कूलों की शैक्षणिक स्थिति को कम आंका गया है। इसका नुकसान जिले में लगातार शिक्षकों के पदों का घटना और सरकारी शिक्षकों का मान सम्मान कम होना है। ऐसे में सरकारी स्कूलों की इमेज सिर्फ गरीब और कमजोर वर्ग के बच्चों को एडमिशन देकर पढ़ाई कराने की रह गई है। इससे शिक्षक समाज लम्बे समय से चितिंत रह रहा है। ऐसे में अब इसी भ्रांतियों को तोड़ते हुए सरकारी स्कूलों की इमेज सुधारने का काम लगातार किया जा रहा है।

प्रवेशोत्सव में अधिक प्रवेश दिलाने के लिए बेटियों का शिक्षा खर्च उठा रहे हैं तो ड्रॉप आउट बच्चियों को स्कूल से जोड़ रहे

कुछ नवाचार जो इस वर्ष शुरू हुए हैं






जनप्रतिनिधि और सरकारी कार्मिक के संतान को सरकारी स्कूलों में प्रवेश का लक्ष्य

शिक्षक संगठन रेसा पी के जिलाध्यक्ष डायालाल पाटीदार ने बताया कि सरकारी स्कूलों में कठिन प्रतिस्पर्धा के बाद शिक्षक बनता है। सरकारी स्कूलों के प्रवेशित बच्चों को तैयार करने में सरकारी शिक्षक की अहम भूमिका होती है। संगठन स्तर पर सभी जनप्रतिनिधि और सरकारी कार्मिक के बच्चों को स्कूलों में प्रवेश दिलाने का प्रयास किया जाएगा।


X
सरकारी स्कूल के प्रधानाचार्य से लेकर स्टाफ उठा रहे पढ़ाई का खर्चा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..